संपत्ति खरीदने के लिए शुभ मुहूर्त का महत्व

हम सभी इस तथ्य से अच्छी तरह वाकिफ हैं कि भारत में कर्णवेध समारोह से लेकर संपत्ति खरीदने तक सब कुछ एक मुहूर्त के साथ किया जाता है। हम उस सांसारिक चीजों के जीवन को बढ़ाने के लिए उसके खुलने के लिए एक विशिष्ट अवधि की तलाश करते हैं। हम ऐसी चीजों का पालन करने के लिए बाध्य हैं क्योंकि हमारी गहराई से जुड़ी हुई मान्यताएं अतीत से आगे बढ़ती जा रही हैं। जैसे शादी से लेकर हम जो कुछ भी धारण करते हैं। मुहूर्त के बारे में विस्तार से जानने के लिए हम एक अनुभव योगी की सलाह लेते हैं। संपत्ति खरीदने का मुहूर्त, संपत्ति क्रय मुहूर्त या भूमि खरीदने का मुहूर्त ज्योतिष के अनुसार बहुत महत्व और मान्यताएं लेकर आती है। यह जानने से लेकर कि क्या वह जगह एक सही मुहूर्त की तलाश में है। सदियों पुरानी प्रथाओं का एक ज्ञात मूल्य है। तो आइए संपत्ति की खरीद और सर्वोत्तम समय के बारे में जानें। आइए देखते हैं 2023 में संपत्ति क्रय के दिन की कुछ शुभ तिथियां।

संपत्ति खरीद का महत्व

संपत्ति क्रय के दिन को उत्सव का समय माना जाता है और यह बहुत अधिक आत्मविश्वास और सकारात्मकता लाता है। जो किसी को आगामी परियोजनाओं पर पूरे समर्पण के साथ काम करने के लिए प्रेरित रहने में मदद करता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार संपत्ति की खरीद के लिए भी कुछ अनुकूल ग्रहों की स्थिति की आवश्यकता होती है। संपत्ति पंजीकरण के लिए उत्कृष्ट नक्षत्र अश्लेषा, अनुराधा, मघा, पूर्वा भाद्रपद और रेवती को सर्वश्रेष्ठ नक्षत्र माना जाता है। ज्योतिषी की सलाह का पालन करने से उस संपत्ति के साथ कोई समस्या होने का खतरा कम हो जाता है। यह शांति लाता है और जीवन में शांति से मुक्त होने में मदद करता है। हालांकि सूर्य, राहु और केतु जैसे ग्रहों की स्थिति की जांच अवश्य की जानी चाहिए।

सटीक भविष्यवाणी के लिए कॉल या चैट के माध्यम से ज्योतिषी से जुड़ें

प्रॉपर्टी खरीदने की शुभ तारीखें 2023

जनवरी 2023 में शुभ दिन

तिथि दिनसमय (मुहूर्त)तारा और नक्षत्रतिथि
5 जनवरी, गुरुवारप्रातः 07:15 से रात्रि 09:26 तकमृगशीर्षचतुर्दशी
6 जनवरी, शुक्रवार12:14 पूर्वाह्न से 07:15 पूर्वाह्न, 07 जनवरीपुनर्वसुपूर्णिमा, प्रतिपदा
12 जनवरी, गुरुवारप्रातः 07:15 से दोपहर 02:25 तकपूर्वाफाल्गुनीपंचमी
19 जनवरी, गुरुवार03:18 अपराह्न से 07:14 पूर्वाह्न, 20 जनवरीमुलात्रयोदशी
20 जनवरी, शुक्रवार07:14 पूर्वाह्न से 06:17 पूर्वाह्न, 21 जनवरीमुला, पूर्वा आषाढ़त्रयोदशी, चतुर्दशी
26 जनवरी, गुरुवार06:57 अपराह्न से 07:12 पूर्वाह्न, 27 जनवरीरेवतीषष्ठी
27 जनवरी, शुक्रवारप्रातः 07:12 से सायं 06:37 तकरेवतीषष्ठी, सप्तमी

फरवरी 2023 में शुभ दिन

तिथि दिनसमय (मुहूर्त)तारा और नक्षत्रतिथि
2 फरवरी, गुरुवार06:18 पूर्वाह्न से 07:08 पूर्वाह्न, 03 फरवरीपुनर्वसु, आर्द्रात्रयोदशी
3 फरवरी, शुक्रवार07:08 पूर्वाह्न से 07:08 पूर्वाह्न, 04 फरवरीपुनर्वसुत्रयोदशी, चतुर्दशी
16 फरवरी, गुरुवार06:59 पूर्वाह्न से 06:58 पूर्वाह्न, 17 फरवरीमुला, पूर्वा आषाढ़एकादशी, द्वादशी
17 फरवरी, शुक्रवारप्रातः 06:58 से रात्रि 08:28 तकपूर्वा आषाढ़द्वादशी
23 फरवरी, गुरुवार06:53 पूर्वाह्न से 03:44 पूर्वाह्न, 24 फरवरीरेवतीचतुर्थी, पंचमी

मार्च 2023 के शुभ मुहूर्त

तिथि दिनसमय (मुहूर्त)तारा और नक्षत्रतिथि
2 मार्च, गुरुवार12:43 अपराह्न से 06:45 पूर्वाह्न, 3 मार्चपुनर्वसुएकादशी
3 मार्च, शुक्रवारप्रातः 06:45 से अपराह्न 03:43 तकपुनर्वसुएकादशी, द्वादशी
16 मार्च, गुरुवार06:30 पूर्वाह्न से 04:47 पूर्वाह्न, 17 मार्चपूर्वा आषाढ़नवमी, दशमी
23 मार्च, गुरुवारप्रातः 06:22 से दोपहर 02:08 तकरेवतीद्वितीय
30 मार्च, गुरुवार06:14 पूर्वाह्न से 10:59 अपराह्न तकपुनर्वसुनवमी
31 मार्च, शुक्रवार01:57 पूर्वाह्न से 06:12 पूर्वाह्न, अप्रैल 01अश्लेषाएकादशी

अप्रैल 2023 में शुभ मुहूर्त

तिथि दिनसमय (मुहूर्त)तारा और नक्षत्रतिथि
13 अप्रैल, गुरुवार05:58 पूर्वाह्न से 10:43 पूर्वाह्नपूर्वा आषाढ़अष्टमी
27 अप्रैल, गुरुवारप्रातः 05:44 से प्रातः 07:00 बजे तकपुनर्वसुसप्तमी
28 अप्रैल, शुक्रवार09:53 पूर्वाह्न से 05:43 पूर्वाह्न, 29 अप्रैलअश्लेषाअष्टमी, नवमी

मई 2023 के शुभ मुहूर्त

तिथि दिनसमय (मुहूर्त)तारा और नक्षत्रतिथि
5 मई, शुक्रवार09:40 अपराह्न से 05:37 पूर्वाह्न, 6 मईविशाखापूर्णिमा, प्रतिपदा
25 मई, गुरुवार05:54 अपराह्न से 05:25 पूर्वाह्न, 26 मईअश्लेषाषष्ठी
26 मई, शुक्रवार05:25 पूर्वाह्न से 05:25 पूर्वाह्न , 27 मईअश्लेषा, माघसप्तमी

जून 2023 में शुभ मुहूर्त

तिथि दिनसमय (मुहूर्त)तारा और नक्षत्रतिथि
2 जून, शुक्रवार06:53 पूर्वाह्न से 05:23 पूर्वाह्न, 03 जूनविशाखात्रयोदशी, चतुर्दशी
22 जून, गुरुवार05:24 पूर्वाह्न से 05:24 पूर्वाह्न, 23 जूनअश्लेषा, माघचतुर्थी, पंचमी
23 जून, शुक्रवार05:24 पूर्वाह्न से 05:24 पूर्वाह्न , जून 24माघपंचमी, षष्ठी
29 जून, गुरुवार04:30 अपराह्न से 05:26 पूर्वाह्न, 30 जूनविशाखाएकादशी, द्वादशी
30 जून, शुक्रवार05:26 पूर्वाह्न से 05:27 पूर्वाह्न, 01 जुलाईविशाखा, अनुराधाद्वादशी, त्रयोदशी

जुलाई 2023 के शुभ मुहूर्त

तिथि दिनसमय (मुहूर्त)तारा और नक्षत्रतिथि
जुलाई 7, शुक्रवार10:16 अपराह्न से 05:30 पूर्वाह्न, 8 जुलाईपूर्वाभाद्रपदपंचमी, षष्ठी
जुलाई 14, शुक्रवार10:27 अपराह्न से 05:33 पूर्वाह्न, 15 जुलाईमृगशीर्षत्रयोदशी

अगस्त 2023 के शुभ मुहूर्त

तिथि दिनसमय (मुहूर्त)तारा और नक्षत्रतिथि
17 अगस्त, गुरुवार05:51 पूर्वाह्न से 05:52 पूर्वाह्न, 18 अगस्तमाघ, पूर्वाफाल्गुनीप्रतिपदा, द्वितीया
18 अगस्त, शुक्रवार05:52 पूर्वाह्न से 10:57 अपराह्न तकपूर्वाफाल्गुनीद्वितीया, तृतीया
24 अगस्त, गुरुवार05:55 पूर्वाह्न से 05:55 पूर्वाह्न, 25 अगस्तविशाखा, अनुराधाअष्टमी, नवमी
25 अगस्त, शुक्रवारप्रातः 05:55 से 09:14 पूर्वाह्न तकअनुराधानवमी
31 अगस्त, गुरुवार05:45 अपराह्न से 03:18 पूर्वाह्न, 1 सितंबरपूर्वाभाद्रपदप्रतिपदा

सितंबर 2023 के शुभ मुहूर्त

तिथि दिनसमय (मुहूर्त)तारा और नक्षत्रतिथि
1 सितंबर,प्रातः 05:59 से दोपहर 02:56 तकपूर्वाभाद्रपदद्वितीय
7 सितंबर, गुरुवार10:25 पूर्वाह्न से 06:02 पूर्वाह्न, सितंबर 08मृगशीर्षअष्टमी, नवमी
8सितम्बर,06:02 पूर्वाह्न से 12:09 अपराह्न तकमृगशीर्षनवमी
14 सितंबर, गुरुवार06:05 पूर्वाह्न से 04:54 पूर्वाह्न, 15 सितंबरपूर्वाफाल्गुनीअमावस्या
21 सितंबर, गुरुवारप्रातः 06:09 से अपराह्न 03:35 बजे तकअनुराधाषष्ठी, सप्तमी
22 सितंबर,03:34 अपराह्न से 06:10 पूर्वाह्न, 23 सितंबरमुलाअष्टमी
28 सितंबर, गुरुवार06:12 पूर्वाह्न से 01:48 पूर्वाह्न, 29 सितंबरपूर्वाभाद्रपदचतुर्दशी, पूर्णिमा
29 सितंबर, शुक्रवार11:18 अपराह्न से 06:13 पूर्वाह्न, 30 सितंबररेवतीप्रतिपदा

अक्टूबर 2023 के शुभ मुहूर्त

तिथि दिनसमय (मुहूर्त)तारा और नक्षत्रतिथि
5 अक्टूबर, गुरुवारप्रातः 06:16 से सायं 07:40 तकमृगशीर्षसप्तमी
6 अक्टूबर, शुक्रवार09:32 अपराह्न से 06:17 पूर्वाह्न, 7 अक्टूबरपुनर्वसुअष्टमी
12 अक्टूबर, गुरुवारप्रातः 06:20 से 11:36 पूर्वाह्न तकपूर्वाफाल्गुनीत्रयोदशी
19 अक्टूबर, गुरुवार09:04 अपराह्न से 06:25 पूर्वाह्न, 20 अक्टूबरमूलापंचमी, षष्ठी
20 अक्टूबर, शुक्रवार06:25 पूर्वाह्न से 06:25 पूर्वाह्न, 21 अक्टूबरमूला, पूर्वा आषाढ़षष्ठी, सप्तमी
26 अक्टूबर, गुरुवार06:28 पूर्वाह्न से 11:27 पूर्वाह्न तकपूर्वाभाद्रपदद्वादशी, त्रयोदशी
27 अक्टूबर, शुक्रवार09:25 पूर्वाह्न से 04:17 पूर्वाह्न, 28 अक्टूबररेवतीचतुर्दशी

नवंबर 2023 के शुभ मुहूर्त

तिथि दिनसमय (मुहूर्त)तारा और नक्षत्रतिथि
2 नवंबर, गुरुवार05:57 पूर्वाह्न से 06:34 पूर्वाह्न, 03 नवंबरपुनर्वसु, आर्द्राषष्ठी
3 नवंबर, शुक्रवार06:34 पूर्वाह्न से 06:35 पूर्वाह्न, 04 नवंबरपुनर्वसुषष्ठी, सप्तमी
16 नवंबर, गुरुवार06:44 पूर्वाह्न से 06:45 पूर्वाह्न, 17 नवंबरमूला, पूर्वा आषाढ़तृतीया, चतुर्थी
17 नवंबर, शुक्रवार06:45 पूर्वाह्न से 01:17 पूर्वाह्न, 18 नवंबरपूर्वा आषाढ़चतुर्थी, पंचमी
23 नवंबर, गुरुवार05:16 अपराह्न से 06:51 पूर्वाह्न, 24 नवंबररेवतीएकादशी, द्वादशी
24 नवंबर, शुक्रवारप्रातः 06:51 से सायं 04:01 तकरेवतीद्वादशी
30 नवंबर, गुरुवार03:01 अपराह्न से 06:56 पूर्वाह्न, 1 दिसंबरपुनर्वसुचतुर्थी

दिसंबर 2023 के शुभ मुहूर्त

तिथि दिनसमय (मुहूर्त)तारा और नक्षत्रतिथि
1 दिसंबर, शुक्रवारप्रातः 06:56 से सायं 04:40 तकपुनर्वसुचतुर्थी, पंचमी
14 दिसंबर, गुरुवार07:05 पूर्वाह्न से 07:06 पूर्वाह्न, 15 दिसंबरमूला, पूर्वा आषाढ़द्वितीया, तृतीया
15 दिसंबर, शुक्रवारप्रातः 07:06 से 08:10 पूर्वाह्न तकपूर्वा आषाढ़तृतीया
21 दिसंबर, गुरुवार07:09 पूर्वाह्न से 10:09 अपराह्नरेवतीनवमी, दशमी
28 दिसंबर, गुरुवार07:13 पूर्वाह्न से 01:05 पूर्वाह्न, 29 दिसंबरपुनर्वसुद्वितीय
29 दिसंबर, शुक्रवार03:10 पूर्वाह्न से 07:13 पूर्वाह्न, 30 दिसंबरअश्लेषातृतीया

निष्कर्ष

भूमि खरीदने के दिन की प्रासंगिकता और मुहूर्त के बारे में हम सभी जानते हैं। संपत्ति पंजीकरण के लिए शुभ दिन और अच्छे नक्षत्र की तलाश के रूप में घर खरीदने के लिए उपयुक्त समय और कौन सा दिन प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन के लिए अच्छा है। यह जानना आवश्यक है। संपत्ति या घर खरीदने के लिए 2023 में संपत्ति पंजीकरण के लिए शुभ मुहूर्त की आवश्यकता है। यह भी स्पष्ट है और हम इस तथ्य से अच्छी तरह वाकिफ हैं। संपत्ति खरीदना हर व्यक्ति का सपना होता है क्योंकि वे हमें हर मामले में अपने जीवन में बहुत कुछ बेहतर करने के लिए प्रेरित करते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल-

जमीन खरीदने के लिए शुभ दिन हमारी ग्रहों की स्थिति और शुभ तिथियों पर निर्भर करता है। जमीन खरीदने का सबसे अच्छा समय हमेशा हमारी मदद करता है और उस जमीन की उम्र बढ़ाता है।
एक ज्योतिषी की सलाह लेना आवश्यक है क्योंकि वे अच्छी तरह से अनुभवी हैं और हमें हर चीज के बारे में स्पष्ट जानकारी देते हैं। जिससे हमें जीवन में बेहतर निर्णय लेने में मदद मिल सकती है।
संपत्ति पंजीकरण के लिए अच्छे नक्षत्र अश्लेषा, माघ, रेवती और पूर्वाभाद्रपद हैं।
मंगल, बृहस्पति और शुक्र संपत्ति खरीद के लिए जिम्मेदार हैं और अनुकूल ग्रह माने जाते हैं और शुभ समय होते हैं।
4 वें घर को ज्योतिष में पिता के रूप में जाना जाता है क्योंकि यह किसी व्यक्ति के साथ होने वाली कई चीजों का मार्गदर्शन करने और उन्हें संभालने में मदद करता है। यह एक अनुकूल घर भी है।
हां ज्योतिष शास्त्र में इसे आवश्यक माना गया है क्योंकि मुहूर्त के अनुसार किए गए कार्य कभी भी नकारात्मकता को आकर्षित नहीं करते हैं और हर गलत, शुभ तिथि और समय से हमेशा सुरक्षित रहते हैं। साथ ही भूमि पंजीकरण के लिए शुभ दिन वह है जिससे घर की खरीद या कुछ भी खरीदने के बाद ध्यान में रखना चाहिए।
Karishma tanna image
close button

Karishma Tanna believes in InstaAstro

Urmila  image
close button

Urmila Matondkar Trusts InstaAstro