पुष्य नक्षत्र का अर्थ

पुष्य नक्षत्र 27 नक्षत्रों में से आठवां है। पुष्य एक संस्कृत शब्द है,हिंदी में पुष्य नक्षत्र (Pushya nakshatra in hindi) का अर्थ है 'पोषण करने वाला'। पुष्य नक्षत्र का शाब्दिक अर्थ है 'पोषण करने वाला चंद्र भवन' या 'पोषण करने वाला नक्षत्र'। इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग बड़े दिल वाले और मददगार स्वभाव वाले होते हैं। इसके अलावा, वे जीवन में अविश्वसनीय खुशियाँ और सफलता का अनुभव करेंगे।

इस नक्षत्र के जातक भाग्यशाली माने जाते हैं। ऐसा कहा जाता है कि देवी लक्ष्मी पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वाले देवताओं में से एक हैं। शनि और बृहस्पति का स्वामी होना जातकों के लिए शुभ होता है। पुष्य नक्षत्र को पूषम नक्षत्र के नाम से भी जाना जाता है।

पुष्य नक्षत्र 2024 की महत्वपूर्ण तिथियाँ

हिंदी पुष्य नक्षत्र (Pushya nakshatra hindi)की दृष्टि से निम्नलिखित तिथियां महत्वपूर्ण हैं:-

तारीखसमय शुरूअंत समय
गुरुवार, 25 जनवरी 202408:18 सुबह, 25 जनवरीसुबह 10:25 बजे, 26 जनवरी
बुधवार, 21 फरवरी 202402:21 दोपहर, 21 फरवरी04:41 शाम , 22 फरवरी
मंगलवार, 19 मार्च 202408:14 रात, 19 मार्च10:35 रात, 20 मार्च
मंगलवार, 16 अप्रैल 202403:07 दोपहर, 16 अप्रैल05:12 सुबह, 17 अप्रैल
सोमवार, 13 मई 202411:25 सुबह, 13 मई01:01 रात, 14 मई
रविवार, 9 जून 202408:24 रात, 09 जून09:38 रात, 10 जून
रविवार, 7 जुलाई 202404:49 सुबह, 07 जुलाई06:01 सुबह, 08 जुलाई
शनिवार, 3 अगस्त 202411:59 सुबह, 03 अगस्त01:22 दोपहर, 04 अगस्त
शुक्रवार, 30 अगस्त 202405:56 शाम, 30 अगस्त07:35 शाम, 31 अगस्त
गुरुवार, 26 सितंबर 202411:34 रात, 26 सितंबर01:18 दोपहर, 28 सितंबर
गुरुवार, 24 अक्टूबर 202406:15 सुबह, 24 अक्टूबर07:35 सुबह, 25 अक्टूबर
बुधवार, 20 नवंबर 202402:50 दोपहर, 20 नवंबर03:32 दोपहर, 21 नवंबर
बुधवार, 18 दिसंबर 20242:44 दोपहर, 18 दिसंबर12:55 दोपहर, 19 दिसंबर

सटीक भविष्यवाणी के लिए कॉल या चैट के माध्यम से ज्योतिषी से जुड़ें

पुष्य नक्षत्र के महत्वपूर्ण पहलू

हिंदी में पुष्य नक्षत्र (Pushya nakshatra in hindi)के कुछ महत्वपूर्ण पहलुओं में शामिल हैं: -

AspectFeatures
पुष्य नक्षत्र स्वामी देवबृहस्पति
पुष्य नक्षत्र का प्रतीकगाय, तीर और चक्र
पुष्य नक्षत्र राशि चिन्हकर्क
पुष्य नक्षत्र स्वामी ग्रहशनि
पुष्य नक्षत्र गणदेवा
पुष्य नक्षत्र गुणराजस/सत्व/तमस
पुष्य नक्षत्र पशुबकरी
पुष्य नक्षत्र शुभ दिशापूर्व
पुष्य नक्षत्र शुभ रत्ननीलम
पुष्य नक्षत्र शुभ रंगलाल
पुष्य नक्षत्र शुभ अंक8
पुष्य नक्षत्र शुभ लैटरH और D
पुष्य नक्षत्र का वृक्षपीपल
पुष्य नक्षत्र दोषपित्त
पुष्य नक्षत्र तत्वजल
पुष्य नक्षत्र देह पराशरहोंठ
पुष्य नक्षत्र राशिकर्क राशि

पुष्य नक्षत्र राशि चिन्ह

यह एक अत्यंत शुभ नक्षत्र है। कर्क राशि पुष्य नक्षत्र (Karka rashi pushya nakshatra) में जन्म लेने वाले लोग इस नक्षत्र के अंतर्गत आते हैं। कर्क राशि पुष्य नक्षत्र (Karka rashi pushya nakshatra)में इसका मान 93:2 से 106:4 तक होता है। इसे महा नक्षत्र कहा जाता है। पुष्य नक्षत्र की राशि कर्क है। पुष्य नक्षत्र में जन्मे लोग (Pushya nakshatra me janme log) या व्यक्तियों में सहानुभूति और देखभाल की स्वाभाविक भावना होती है।

पुष्य नक्षत्र लक्षण: पुरुष जातक

पुष्य नक्षत्र के पुरुष जातकों की विस्तृत विशेषताएं और व्यवहार इस प्रकार हैं:

पुष्य नक्षत्र पुरुषों का शारीरिक स्वरूप

पुष्य नक्षत्र की विशेषताओं के मामले में, पुरुष सुगठित, गोरे रंग के होंगे और उनके शरीर पर अलग-अलग निशान होंगे। यह निशान जन्म के समय किसी निशान जैसा हो सकता है, लेकिन कुछ मामलों में यह एक अलग और विशिष्ट तिल भी हो सकता है।

पुष्य नक्षत्र पुरुष करियर

जातकों का करियर आशाजनक रहेगा। सफलता की गारंटी है, लेकिन इसमें देर होगी। जातक के करियर के शुरुआती दौर में, वे खुद को साबित करने की चाह में बहुत मेहनत करेंगे। दबाव को झेलने में असमर्थ, जातक को असफलता का अनुभव होगा। इसलिए, शुरुआती वर्षों में उन्हें संघर्ष करना पड़ेगा। लेकिन धीरे-धीरे और लगातार, वे बेहतर होते जाएंगे और अंततः अपने लक्ष्य को प्राप्त करेंगे।

पुष्य नक्षत्र पुरुष व्यक्तित्व एवं व्यवहार

पुष्य नक्षत्र के पुरुष कभी-कभी आक्रामक हो जाते हैं। अगर चीजें उनके हिसाब से नहीं चल रही हों, तो जातकों द्वारा आक्रामकता का प्रदर्शन किया जाता है। इसके अलावा, जातकों में न्याय की गहरी भावना होगी। वह दबंग स्वभाव का भी होगा और परिवार का मुखिया होगा।

जातक में स्वार्थ और पाखंडी व्यवहार के बुरे गुण होंगे। भावुक होना भी जातक की एक प्रमुख विशेषता होगी। इसके अलावा, जातकों को लोगों पर भरोसा करना मुश्किल लगेगा और अकेले रहने पर वे अधिक सहज और बेहतर महसूस करेंगे।

पुष्य नक्षत्र पुरुष पारिवारिक जीवन

जातक के अपने परिवार के साथ अच्छे संबंध होंगे, हालांकि जीवन के बाद के चरण में, वह अपने परिवार से दूर चला जाएगा। इसका कारण जातक का आक्रामक व्यवहार हो सकता है। दूसरी ओर, उसके अपने दोस्तों के साथ अच्छे संबंध होंगे क्योंकि जातक बहुत से लोगों पर भरोसा नहीं करते हैं। वह अपने दोस्तों को बुद्धिमानी से चुनेगा और वे दुनिया से उसका जीवन यापन और उसके सबसे बड़े समर्थक होंगे। रिश्तेदारों के साथ संबंध भी जातक के लिए बहुत फायदेमंद होंगे और उन्हें उनके धन और संपत्ति विरासत में मिलने की संभावना है।

पुष्य नक्षत्र पुरुष का वैवाहिक जीवन/प्रेम जीवन

पुष्य नक्षत्र की विवाह अनुकूलता के बारे में, जातकों का अपने जीवनसाथी के साथ बहुत अच्छा रिश्ता होगा। इसलिए, पुष्य नक्षत्र के पुरुष का वैवाहिक जीवन पूर्ण होगा और वह अपने जीवनसाथी और बच्चों से बहुत प्यार करेगा। पुष्य नक्षत्र का प्रेम जीवन काफी पूर्ण होता है जब उन्हें एक ऐसा साथी मिल जाता है जो उनके साथ अनुकूल हो।

पुष्य नक्षत्र पुरुषों का स्वास्थ्य

स्वास्थ्य के मामले में जातक स्वस्थ और संतुष्ट जीवन का आनंद लेंगे। ऐसा तब होगा जब वह 15 वर्ष की आयु पार कर लेगा। उससे पहले जातकों को स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां होने की संभावना है, लेकिन वे गंभीर नहीं होंगी।

पुष्य नक्षत्र लक्षण: स्त्री जातक

पुष्य नक्षत्र के पुरुष जातकों की विस्तृत विशेषताएं और व्यवहार इस प्रकार हैं:

पुष्य नक्षत्र स्त्री शारीरिक स्वरूप

पुष्य नक्षत्र स्त्री यानि महिलाओं की विशेषताओं में गेहुँआ रंग शामिल होगा। औसत ऊँचाई मुख्य विशेषता होगी। महिलाएँ स्वाभाविक रूप से सजने-संवरने की ओर झुकाव रखती हैं क्योंकि वे हमेशा आकर्षक और सर्वश्रेष्ठ दिखना पसंद करती हैं। उनका शरीर भी संतुलित होगा, ऐसा संभवतः इसलिए है क्योंकि वे अपने खान-पान का ध्यान रखती हैं और उसके प्रति सतर्क रहती हैं।

पुष्य नक्षत्र महिला करियर

आज की अधिकांश महिलाओं की तरह, पुष्य नक्षत्र स्त्री यानि महिला स्वतंत्र होगी। वह जिस भी क्षेत्र में हो, उसके करियर में सफल होने की संभावना अधिक होती है। उसका अधिकांश पैसा भूमि संसाधनों से आएगा और उसी पर खर्च भी होगा। जातक के लिए सबसे उपयुक्त पेशा रियल एस्टेट विभाग में होना है क्योंकि कुछ ग्रहों की स्थिति, भूमि और भाग्य उसके लिए एक साथ चलते हैं।

पुष्य नक्षत्र स्त्री व्यक्तित्व एवं व्यवहार

जातक अपने स्वास्थ्य और खानपान को अत्यधिक महत्व देगा। वह आकर्षक व्यक्तित्व और शारीरिक बनावट से संपन्न है। वह मृदुभाषी भी है और पुराने नैतिक मूल्यों में विश्वास रखती है, जिसमें अपने बड़ों का सम्मान करना भी शामिल है। हालांकि, वह कितनी भी मधुर और जीवंत क्यों न हो, उसके साथियों द्वारा उसके साथ दुर्व्यवहार किए जाने की संभावना अधिक होती है।

पुष्य नक्षत्र स्त्री पारिवारिक जीवन

उसका करियर जितना अच्छा होगा, उसका पारिवारिक और निजी जीवन उतना अच्छा नहीं होगा। जातक को अपने परिवार के साथ कठिन समय का सामना करना पड़ेगा। इसके अलावा, उसके जीवन भर समस्या बनी रहेगी। इसका मुख्य कारण यह है कि वह परिवार से ज़्यादा अपने काम को प्राथमिकता देती है।

पुष्य नक्षत्र स्त्री वैवाहिक जीवन/प्रेम जीवन

पुष्य नक्षत्र वाली महिलाओं का वैवाहिक जीवन यानि पुष्य नक्षत्र फीमेल मैरिज लाइफ उतार-चढ़ाव से भरी होगा। वह एक अनुकूल साथी चाहती है, लेकिन खुद के लिए बोलने और अपने विचारों को व्यक्त करने में असमर्थता उसे उसके सपनों का आदमी पाने से रोकती है।

इसके अलावा, पुष्य नक्षत्र फीमेल मैरिज लाइफ उसके पति के साथ बहस में शामिल होगा, जिसे संदेह है कि वह अपने कार्य क्षेत्र में किसी के साथ धोखा कर रही है। पुष्य नक्षत्र की महिला जातक के लिए सबसे उपयुक्त विवाह आयु 24 वर्ष की आयु के बाद है। पुष्य नक्षत्र में प्रेम जीवन कठिन हो सकता है क्योंकि सभी गुणों वाले पुरुष की तलाश होती है।

पुष्य नक्षत्र स्त्री स्वास्थ्य

पुष्य नक्षत्र के पुरुष जातक की तरह ही, महिला जातक को भी 20 की उम्र से पहले छोटी-मोटी बीमारियां होंगी। हालाँकि, उस उम्र के बाद, उसे कोई स्वास्थ्य समस्या नहीं होगी और वह जीवन के सभी सुखों का आनंद लेगी।

पुष्य नक्षत्र पद

अन्य 26 नक्षत्रों की तरह पुष्य नक्षत्र 4 चरण में विभाजित किया गया है। इन पदों को एक निश्चित समय अवधि के दौरान चंद्रमा की स्थिति के आधार पर विभाजित किया जाता है। पुरुष नक्षत्र 4 चरण जातक के जीवन के बारे में भी जानकारी देते हैं, हमें जातक के जीवन की विशेषताओं और प्रमुख पहलुओं के बारे में बताते हैं। आइए पुष्य नक्षत्र के चार पदों पर नज़र डालें।

पुष्य नक्षत्र पद 1

सिंह नवमांश में जातक दयालु और दानशील होते हैं। वे अपने परोपकारी कार्यों के लिए सबसे ज्यादा जाने जाते हैं। हालांकि, अपने निजी जीवन में, वे अकेलेपन में डूबे रहते हैं और डिप्रेशन से ग्रस्त रहते हैं। इस पद का स्वामी ग्रह सूर्य होने के कारण, जातक आकर्षक होते हैं और ध्यान का केंद्र बनना पसंद करते हैं। सिंह राशि होने के कारण, जातक अपनी इच्छा अनुसार कुछ भी हासिल करने के गुण रखते हैं, सहायक माता-पिता होने के कारण, वे धन को अपनी ओर आकर्षित करेंगे।

पुष्य नक्षत्र पद 2

कन्या नवांश के जातक बहुत ही देखभाल करने वाले और अत्यधिक संवेदनशील होते हैं। इसके अलावा, वे बहुत क्षमाशील स्वभाव के भी होते हैं। इसके अलावा, चूंकि इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह बुध है, इसलिए जातक विश्लेषणात्मक स्किल और बुद्धिमत्ता से संपन्न होते हैं। उनमें नए स्किल सीखने की निरंतर इच्छा भी होती है। इसके अलावा, कन्या राशि होने के कारण, जातक मेहनती, भौतिकवादी और आकर्षक होते हैं।

पुष्य नक्षत्र पद 3

तुला नवांश के जातक सहज और काफी प्यारे होते हैं। इसके अलावा, वे एक मानव चुंबक की तरह काम करेंगे क्योंकि जातक लोगों को अपनी ओर आकर्षित करने की कोशिश करते हैं। पुष्य नक्षत्र में जन्मे लोग (Pushya nakshatra me janme log)का शासक ग्रह शुक्र है। इस प्रकार, जातक स्वभाव से शांत होते हैं और अपने रूप और लोगों द्वारा उनके बारे में की जाने वाली धारणा के बारे में अत्यधिक सतर्क रहते हैं। तुला राशि होने का मतलब है कि जातक स्वाभाविक रूप से विलासितापूर्ण वस्तुओं की ओर आकर्षित होंगे और उन्हें आराम भी पसंद होगा।

पुष्य नक्षत्र पद 4

वृश्चिक नवांश में जातक असाधारण रूप से सामाजिक होते हैं और ऐसे व्यक्ति होते हैं जिन पर लोग आसानी से भरोसा कर सकते हैं। हालांकि, वे स्वभाव से काफी आक्रामक भी होंगे। इस पद का स्वामी ग्रह मंगल है। इस प्रकार, जातक अपने रिश्तों में हावी होते हैं और यौन सुख की गहरी इच्छा रखते हैं। इसके अलावा, वृश्चिक राशि होने के कारण जातकों को शिक्षा प्राप्त करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है और स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी जातकों के लिए चिंता का विषय होंगी।

पुष्य नक्षत्र में विभिन्न ग्रह

नीचे विभिन्न ग्रहों के पुष्य नक्षत्र में स्थित होने पर पड़ने वाले प्रभावों का उल्लेख किया गया है। इन ग्रहों की स्थिति व्यक्ति के जीवन को गहराई से प्रभावित करती है। ये प्रभाव इस प्रकार हैं:

  • पुष्य नक्षत्र में शुक्र: इस नक्षत्र में शुक्र की स्थिति व्यक्ति को किसी से प्यार करने के मामले में काफी सेल्फलेस बनाती है। इसके अलावा, ऐसे व्यक्ति स्वभाव से बहुत भावुक भी होते हैं।
  • बृहस्पति पुष्य नक्षत्र में: बृहस्पति के नक्षत्र में होने से व्यक्ति का स्वभाव काफी दयालु होता है। इसके अलावा, ऐसे व्यक्ति बहुत भाग्यशाली और उदार भी होते हैं।
  • पुष्य नक्षत्र में राहु: पुष्य नक्षत्र में राहु व्यक्ति को परिवार-उन्मुख व्यक्ति बनाता है। हालांकि, इससे व्यक्ति को अपने परिवार को खुश रखने के लिए अपने करियर में संघर्ष करना पड़ सकता है।
  • पुष्य नक्षत्र में मंगल: पुष्य नक्षत्र में मंगल व्यक्ति को काफी आक्रामक बनाता है। इसके अलावा, व्यक्ति स्वभाव से कूटनीतिक और जिद्दी भी होता है।
  • पुष्य नक्षत्र में सूर्य: इस नक्षत्र में सूर्य व्यक्ति को अधिकार संपन्न बनाता है। इसके अलावा, जातक बहुत धनवान भी बनते हैं।
  • पुष्य नक्षत्र में चंद्रमा: पुष्य नक्षत्र में चंद्रमा की स्थिति व्यक्ति को विद्वान बनाती है। इसके अलावा, ऐसे जातक संवाद करने में भी बहुत अच्छे होते हैं और अच्छे वक्ता होते हैं।
  • पुष्य नक्षत्र में बुध: इस नक्षत्र में बुध की स्थिति व्यक्ति को काफी बुद्धिमान बनाती है। इसके अलावा, जातक ज्ञानवान भी होते हैं।
  • पुष्य नक्षत्र में शनि: इस नक्षत्र में शनि की स्थिति जातकों को कानून का पालन करने वाला बनाती है। इसके अलावा, वे जो कुछ भी करते हैं उसमें बहुत व्यवस्थित होते हैं।
  • पुष्य नक्षत्र में केतु: इस नक्षत्र में केतु के होने से जातक को अपने परिवार से परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा, जातक अपने जीवन में माँ का प्यार या स्नेह नहीं देख पाते हैं।

पुष्य नक्षत्र की पौराणिक कथा

पुष्य नक्षत्र के पीछे पौराणिक कथाएं हैं और यहां दो कहानियां दी गई है जो पुष्य नक्षत्र के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करती हैं:

देवों के गुरु बृहस्पति का अनादर करना

बृहस्पति को देवों का गुरु माना जाता है। उनकी इस उपाधि के कारण कई देवता अपनी समस्याओं को लेकर उनके पास आते थे। एक बार इंद्र देव के साथ कुछ गंभीर काम निपटाने के बाद बृहस्पति देवलोक पहुंचे और इंद्र से इस मामले पर बात की। लेकिन इंद्र गहरे ध्यान में थे और उन्होंने बृहस्पति की बात पर ध्यान नहीं दिया। बृहस्पति ने इंद्र के इस कार्य को अपना अपमान समझा। इसके बाद वे देवलोक छोड़कर चले गए।

यह खबर राक्षसों तक पहुँची और उन्होंने इसे जीवन का सबसे बड़ा अवसर माना। वे जानते थे कि गुरु बृहस्पति के बिना देवता कमज़ोर थे और इसलिए उन्होंने उनके खिलाफ युद्ध छेड़ दिया। लड़ाई हुई और शुरू में राक्षसों की जीत हुई। देवता, अपने गुरु के मार्गदर्शन के बिना, जीत नहीं सकते थे।

इस प्रकार, सभी देवता बृहस्पति को खोजने निकल पड़े। उन्हें देखकर उन्होंने उनसे देवलोक लौटकर कार्यभार संभालने का आग्रह किया। सभी के अनुरोध पर बृहस्पति देव लोक लौटने को तैयार हो गए। देवताओं ने एक बार फिर राक्षसों के खिलाफ युद्ध किया और इस बार गुरु की मदद से बृहस्पति की जीत हुई।

बृहस्पति, चन्द्र और तारा

कहानी इस प्रकार है, बृहस्पति को चंद्र देव (चंद्रमा देवता) ने दर्शन दिए। चंद्र ने बृहस्पति की पत्नी तारा को देखा और तुरंत उसकी सुंदरता की प्रशंसा की। इसलिए चंद्र ने काले जादू की मदद से तारा को लुभाने की कोशिश की। बाद में, चंद्र के साथ तारा भाग गई। जब बृहस्पति को इस बारे में पता चला, तो वे तुरंत चंद्र के पास गए और अपनी पत्नी को वापस लाने की मांग की।

लेकिन चंद्र ने मना कर दिया और इस तरह, स्थिति इतनी खराब हो गई कि वे युद्ध की स्थिति में पहुंच गए। हालांकि, ब्रह्म देव ने हस्तक्षेप किया और चंद्र को तारा को बृहस्पति के साथ जाने देने के लिए राजी कर लिया। हालांकि, तारा उस समय तक चंद्र के बच्चे से गर्भवती हो चुकी थी, जिसे आज बुध के नाम से जाना जाता है। बृहस्पति को यह पता चलने पर गुस्सा आया। हालांकि, चूँकि वह एक नाजायज़ संतान था, इसलिए उसे चंद्र से कभी लगाव नहीं था और इसलिए वह हमेशा उससे ईर्ष्या करता था। इसके अलावा, बुध की प्रतिभा और दयालुता को देखते हुए, बृहस्पति ने उसे गोद ले लिया।

पुष्य नक्षत्र में जन्मे लोग(Pushya nakshatra me janme log)के जीवन में ये दोनों कहानियां अलग-अलग परिणाम दे सकती हैं। चूंकि इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह बृहस्पति है, तथा पुष्य नक्षत्र का स्वामी शनि है, इसलिए पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वाले जातक अपने गुरुओं के प्रति अपमानजनक रवैया दिखा सकते हैं।

पहली कहानी के अनुसार यह परिणाम है। लेकिन दूसरी कहानी के अनुसार जातकों के अपने जीवनसाथी के साथ रिश्ते में कड़वाहट आ सकती है। किसी तीसरे व्यक्ति के बहकावे में आकर तलाक या अलग होने की भी संभावना है।

पुष्य नक्षत्र में जन्मे हस्तियां

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वाली कुछ अंतरराष्ट्रीय हस्तियां और प्रसिद्ध व्यक्तित्व इस प्रकार हैं:

  • विवियन रिचर्ड्स
  • पुष्य नक्षत्र शुभ अंक - 8

कुछ प्रसिद्ध भारतीय पुष्य नक्षत्र हस्तियां शामिल हैं:

  • पुष्य नक्षत्र शुभ लैटर - H और D
  • पुष्यामी नक्षत्र का वृक्ष - पीपल
  • पुष्य नक्षत्र दोष - पित्त

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल-

पुष्य नक्षत्र को विवाह के लिहाज से अच्छा नहीं माना जाता है।
पुष्य नक्षत्र की अनुकूलता सबसे अधिक अश्विनी नक्षत्र से मेल खाती है।
ऐसा माना जाता है कि देवी लक्ष्मी पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वाली देवी हैं।
पुष्य नक्षत्र राशि कर्क राशि होती है।
प्राचीन ग्रंथों के अनुसार पुष्य नक्षत्र को सबसे शुभ और अनुकूल नक्षत्र माना जाता है। इस नक्षत्र के जातकों को धन, स्वास्थ्य और प्रचुर समृद्धि का आशीर्वाद प्राप्त होता है। पुष्य नक्षत्र के जातकों के पद 4 के नाम इस प्रकार हैं: हमप्रीत, हमशिका और हमसिहा।
पुष्य नक्षत्र के जातकों के लिए निम्नलिखित भाग्यशाली रंग है: नारंगी, पीला, सफेद और सुनहरा।
Karishma tanna image
close button

Karishma Tanna believes in InstaAstro

Urmila  image
close button

Urmila Matondkar Trusts InstaAstro