ज्योतिष में बुध का महत्व

ग्रह व्यक्ति के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। किसी व्यक्ति के जन्म के समय उनकी स्थिति मूल निवासी के जीवन के कुछ महत्वपूर्ण पहलुओं का प्रतिनिधित्व करती है। इसके अलावा किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में एक विशिष्ट घर में उनका स्थान और उनका नवांश चार्ट हमें यह बताकर भविष्य में अंतर्दृष्टि प्रदान करता है कि व्यक्ति के लिए भविष्य में आगे क्या है?

व्यक्ति के भविष्य के अंदर झांकने के लिए विशिष्ट रूप से नवग्रह के लिए विभिन्न ग्रहों की स्थिति की गणना करके एक जन्म चार्ट बनाया जाता है। यदि आपके पास प्रश्न हैं। जैसे कि जन्म चैट द्वारा प्रदान की जाने वाली जानकारी कैसे प्रासंगिक है और यह हमारी मदद कैसे करती है? खैर जन्म कुंडली में 12 भाव होते हैं जिन पर विभिन्न ग्रहों का शासन होता है। प्रत्येक घर एक व्यक्ति के जीवन के विभिन्न और बहुत ही महत्वपूर्ण और अहम पहलुओं का प्रतिनिधित्व करता है। इसके अलावा इन घरों में शासक ग्रहों की उपस्थिति जातक के व्यक्तित्व लक्षणों और व्यवहार संबंधी विशेषताओं का वर्णन करती है। यह न केवल हमें किसी व्यक्ति के व्यवहार के बारे में बताता है बल्कि करियर, प्रेम जीवन, विवाह, परिवार, स्वास्थ्य और शारीरिक बनावट जैसे पहलुओं पर भी ध्यान केंद्रित करता है। समग्रता में हम कह सकते हैं कि वे व्यक्ति के सभी पहलुओं पर प्रकाश डालते हैं। जीवन और इस प्रकार यह मूल निवासी के लिए काफी फायदेमंद है। यदि किसी भी दशा में जातक पर कोई बुरा या अशुभ ग्रह हो तो किसी पंडित या ज्योतिषी द्वारा बताए गए कुछ सरल उपायों का प्रयोग करके और उनका पालन करके इसके प्रतिकूल और नकारात्मक प्रभावों को रोका जा सकता है।

जब हम बुध ग्रह के बारे में बात करते हैं। सामान्य तौर पर यह एक व्यक्ति में बुद्धि के पहलुओं का वर्णन करता है। हिंदी में इसे बुध ग्रह से संबोधित किया जाता है। यदि ग्रह अपनी मजबूत स्थिति और बल में है तो यह जातकों को जीवन के सभी सुख प्रदान करेगा। हालांकि दूसरी ओर यदि यह इतना मजबूत नहीं है और कमजोर हो जाता है तो यह जातक के जीवन पर नकारात्मक और हानिकारक प्रभाव डाल सकता है। विभिन्न घरों में इसकी स्थिति भी व्यक्ति के जीवन को अलग तरह से प्रभावित करती है। यदि आप भी यह जानने के लिए उत्सुक हैं कि आपके जन्म या नवमांश चार्ट में किसी विशिष्ट घर में अपनी स्थिति के आधार पर बुध आपके जीवन को कैसे प्रभावित करते हैं। तो अपनी जिज्ञासा को शांत करने और अपने सवालों के जवाब खोजने के लिए इस ब्लॉग को पढ़ें। इसके अलावा यदि आप इस बात से अनजान हैं कि आपकी जन्म कुंडली में बुध किस भाव पर राज करता है तो इंस्टाएस्ट्रो पर जाएं। अपनी कुंडली मुफ्त में बनवाने के लिए वेबसाइट या ऐप डाउनलोड करें। आप इसका विश्लेषण पहली बार मात्र 1 रुपये से शुरू करके सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषियों से भी करवा सकते हैं।

बुध से जुड़ी पौराणिक कथा

चंद्र, तारा, बृहस्पति और बुध का जन्म

बृहस्पति को सभी देवों के गुरु के रूप में जाना जाता है। इस स्थिति के कारण वह हमेशा देवों के साथ व्यस्त रहते थे। उनकी समस्याओं को हल करते थे और उन्हें महत्वपूर्ण मामलों पर सलाह देते थे। चूंकि बृहस्पति हमेशा देवों से घिरे रहते थे। इसलिए उनकी पत्नी तारा ने उनके द्वारा अपने आप को उपेक्षित महसूस किया करती थी। एक दिन चंद्रमा के देवता चंद्र कुछ महत्वपूर्ण मामलों पर सलाह लेने के लिए बृहस्पति से मिलने आए। हालांकि अपनी यात्रा के दौरान उसने तारा को देखा और जैसे ही उसकी नज़र उस पर पड़ी। चंद्र उसकी सुंदरता पर मंत्रमुग्ध हो गया और उसने खुद से सोचा कि यह महिला बृहस्पति के समान बुढ़ी बल्कि बृहस्पति से आयु में काफी छोटी है और चंद्र की क्यों नहीं है? इसलिए उसने तारा को छल या बल से पाने का फैसला किया। चंद्र ने तारा को पाने के लिए उस पर जादू कर दिया और उसे सम्मोहित करने की भी कोशिश की। सम्मोहन काम कर गया और तारा को चंद्र ने बुलाया। चंद्र ने आगे चलकर तारा के साथ भाग जाने की योजना बनाई।

जब बृहस्पति को इस बात का पता चला तो वह चंद्र से बहुत नाराज होने के साथ-साथ क्रोधित भी हुए। बृहस्पति आगे चलकर चंद्र के पास गए और उनसे तारा को वापस लौटाने को कहा। हालांकि चंद्र अहंकारी था और उसने बृहस्पति के अनुरोध को अस्वीकार कर दिया। दोनों देवता एक बहस में पड़ गए और यह इतना बुरा हो गया कि वे युद्ध के लिए जाने वाले थे। युद्ध में देवों ने बृहस्पति का और असुरों ने चंद्र का साथ दिया। हालांकि भगवान ब्रह्मा को इस बारे में पता चल गया और युद्ध को रोकने के लिए तुरंत चंद्र के पास गए। उन्होंने चंद्र से तारा को बृहस्पति को वापस करने के लिए कहा। चंद्र ब्रह्म देव के आदेश को टाल नहीं सकते थे। जिसका अर्थ है कि उन्होंने तारा को वापस बृहस्पति को लौटा दिया। हालांकि उस समय तक तारा चंद्र के बच्चे के साथ पहले से ही गर्भवती थी। बृहस्पति ने यह देखकर तारा से पूछा कि उसका पिता कौन है तो तारा ने बताया कि वह चंद्र है। बृहस्पति इतने क्रोधित हुए कि उन्होंने बच्चे को स्वीकार करने से इनकार कर दिया। बच्चे का जन्म हुआ और बाद में उसे बुध के नाम से जाना जाने लगा। बाद के समय में बृहस्पति ने बुध की बुद्धिमत्ता और बुद्धि की प्रशंसा की और फिर उसे अपनाने के लिए आगे बढ़े। बुध ने बृहस्पति को अपने पिता के रूप में देखा और चंद्र के प्रति घृणा और नफरत की भावना रखते थे। बुध को एक अन्य नाम भगवान पारा से भी संबोधित किया जाता है।

सटीक भविष्यवाणी के लिए कॉल या चैट के माध्यम से ज्योतिषी से जुड़ें

बुध का महत्व - ज्योतिष और खगोल विज्ञान

खगोल विज्ञान में बुध सबसे छोटा ग्रह है जो सूर्य के सबसे निकट का ग्रह भी है। यह सौर मंडल का पहला और सबसे महत्वपूर्ण ग्रह है। इसके अलावा बुध एक स्थलीय ग्रह होता है। इसके अलावा इसमें पृथ्वी जैसी चट्टानी सतह होती है। जैसा कि मनुष्य पृथ्वी के अलावा अन्य ग्रहों पर जीवन खोजने की कोशिश कर रहे हैं। बुध को इस शोध से बाहर कर दिया गया था क्योंकि सूर्य के इतने करीब होने के कारण अध्ययन किया गया था इसकी गर्मी जीवन को पर्याप्त नहीं कर पाएगी।

ज्योतिष में बुध व्यक्ति के जीवन के संचार और बुद्धि पहलुओं का प्रतिनिधित्व करता है। यदि यह एक मजबूत स्थिति रखता है तो यह जातक के पास महान संचार कौशल होगा और उन्हें स्वभाव से काफी मजाकिया भी बनाता है। इसके अलावा मूल निवासी बहुत बुद्धिमान और जानकार होते हैं। हालांकि दूसरी ओर यदि जातक की जन्म कुंडली में अशुभ या कमजोर बुध होता है तो यह मूल निवासी को संचार और भाषण पहलुओं में कठिनाइयों का सामना करने के लिए प्रेरित करता है। इसके अलावा यह मूल निवासियों के स्वास्थ्य को प्रभावित करने के लिए भी जाना जाता है और उन्हें दीर्घकालिक बीमारियों से ग्रस्त कर सकता है। बुध शासक ग्रह माना जाता है और बुध ग्रह के स्वामी विष्णु हैं। बुध को कभी-कभी विष्णु के साथ जोड़ा जाता है क्योंकि उनमे काफी समान समानताएं हैं। बुध के अनुकूल ग्रहों में निम्न शामिल हैं - सूर्य और शुक्र। हालांकि दूसरी ओर बुध ग्रह के शत्रुओं में निम्न शामिल हैं - चंद्रमा और केतु। इस ग्रह के अशुभ ग्रह वाले जातकों के लिए बुध रत्न जो काफी अनुकूल होता है वह पन्ना है। इसके अलावा ज्योतिष के अनुसार पारा संबंधित पेशा या पेशे में लेखन, संपादकीय कार्य, वक्ता और शिक्षक शामिल हैं।

बुध पहलू - मजबूत

जातक की जन्म कुंडली में बुध ग्रह का मजबूत होना या बुध का स्वामी ग्रह होना जातक को जीवन के सभी सुखों का वहन करने में मदद करता है। विशेष रूप से ज्ञान और बुद्धि के पहलुओं में। आइए उन सभी सकारात्मक परिवर्तनों और प्रभावों पर एक नज़र डालते हैं जो एक मजबूत बुध व्यक्ति के जीवन में लाता है।

इन मजबूत बुध लाभ में शामिल हैं -

  1. बुध मजबूत होने से जातक अपने परिवेश और समाज में बहुत प्रसिद्ध होता है।
  2. एक मजबूत बुध भी जातक को दूसरों से बहुत सम्मान दिलाता है। ये व्यक्ति अपने समाज और समूहों में अत्यधिक सम्मानित होने के लिए आते हैं।
  3. मजबूत बुध होने से जातक उत्कृष्ट संचार कौशल का अधिकारी होता है।
  4. मजबूत बुध जातक को व्यवहारिक और नैतिक रूप से सही भी बनाता है।
  5. बुध बलवान होने से जातक स्वभाव से भी उदार होता है।
  6. मजबूत बुध जातक को काफी ज्ञानी भी बनाता है।

बुध भाव - कमजोर

किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में कमजोर बुध होने से उसकी बुद्धि और स्वास्थ्य पहलुओं पर असर पड़ सकता है। आइए उन सभी नकारात्मक प्रभावों और परिवर्तनों पर एक नज़र डालते हैं जो एक कमजोर बुध व्यक्ति के जीवन में लाता है।

बुध के कमजोर प्रभावों में शामिल हैं -

  1. कमजोर बुध होने से जातक को वाणी में दिक्कत आती है। वे हकलाने और इसी तरह की समस्याओं से काफी ग्रस्त रहते हैं।
  2. कमजोर बुध जातक को निर्णय लेने में काफी खराब बनाता है। मूल निवासी कोई भी निर्णय लेने से पहले सभी पहलुओं पर बहुत विचार और चिंतन करते हैं। लेकिन गलत निर्णय लेने से सब कुछ समाप्त हो जाता है। मूल निवासी बहुत अनिर्णायक भी हो सकते हैं।
  3. कमजोर बुध होने से जातक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से पीड़ित होता है। वे दीर्घकालीन रोगों से भी ग्रसित हो सकते हैं।
  4. कमजोर बुध जातक को मानसिक विकारों का भी शिकार बनाता है। घबराहट और चिंता के दौरे से पीड़ित होने की संभावना अधिक होती है।
  5. कमजोर बुध होने से भी जातक को कुछ आर्थिक हानियों का सामना करना पड़ता है।
  6. इसके अलावा कमजोर बुध जातक के अपने जीवनसाथी के साथ संबंधों में थोड़ी खटास लाता है। इसका मतलब यह है कि जातक और उनके जीवनसाथी के बीच संघर्ष और बहस की संभावना अधिक होती है।
  7. अंत में कमजोर बुध जातक को नशे की ओर प्रवृत्त करता है। नशा शराब से लेकर ड्रग्स तक कुछ भी हो सकता है।

कमजोर बुध के उपाय

यदि आपकी कुंडली में बुध कमजोर है या बुध को कैसे मजबूत करें,बुध ज्योतिष उपाय या बुध ग्रह उपाय जैसे प्रश्न हैं? तो चिंता न करें क्योंकि हम आपके लिए बुध से संबंधित कुछ उपाय लेकर आए है। नीचे बताए गए कुछ बहुत ही सरल और लाभकारी बुध के ज्योतिष उपाय हैं जो आपके बुध को मजबूत बनाने में मदद कर सकते हैं और इसके प्रतिकूल या नकारात्मक प्रभाव भी प्रचलित कर सकते हैं। कमजोर बुध के उपाय में निम्न उपाय शामिल हैं -

  1. अपने बुध को मजबूत करने के लिए जातक को हरा रंग पहनने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह बुध ग्रह से जुड़ा रंग है।
  2. कमजोर बुध के प्रतिकूल प्रभावों को रोकने के लिए जातक को बुधवार का व्रत करने की सलाह दी जाती है क्योंकि सप्ताह का यह दिन बुध से जुड़ा होता है।
  3. अपने बुध को मजबूत करने के लिए जातक को अपने तकिए के नीचे या पर्स के अंदर कुछ सौफ रखने की सलाह दी जाती है।
  4. कमजोर बुध के प्रतिकूल प्रभावों को रोकने के लिए जातक को सूर्य को जल चढ़ाने की सलाह दी जाती है।
  5. अपने बुध को मजबूत करने के लिए जातक को सूर्योदय से पहले गरीबों को दूध, चावल और दाल का दान करने की सलाह दी जाती है।
  6. कमजोर बुध के प्रतिकूल प्रभावों को रोकने के लिए जातक को पारा रत्न और गले में चांदी की चेन पहनने की सलाह दी जाती है।
  7. अपने बुध को मजबूत करने के लिए जातक को भगवान विष्णु की पूजा करने की सलाह दी जाती है क्योंकि वह इस ग्रह के स्वामी हैं।
  8. अंत में कमजोर बुध के प्रतिकूल और नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए पारा मंत्र का जाप करना चाहिए। मंत्र है 'प्रियंगुकलकाशं रूपपुणप्रतिम बुधम सौम्यं सौम्यगुणोपेत व बुध प्रणामम्यहम' और 'ॐ ब्रं ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः'

विभिन्न घरों में बुध

आइए अब हम किसी व्यक्ति के जीवन के उन पहलुओं को देखें जो उस विशिष्ट घर में शासक ग्रह के रूप में बुध की स्थिति से प्रभावित होते हैं।

  1. बुध प्रथम भाव में

पहले घर में बुध जातक को बहुत बुद्धिमान और स्वभाव से आकर्षक बनाता है। इसके अलावा यह मूल निवासी को तार्किक सोच और महान गणित प्रतिभा भी देता है। साथ ही इस भाव में बुध होने से जातक अवसाद ग्रस्त हो जाता है और उनमें नैतिक मूल्यों का भी अभाव हो जाता है।

  1. बुध दूसरे भाव में

दूसरे भाव में बुध होने से जातक पारिवारिक मूल्यों को संजोते हैं और स्वभाव से कूटनीतिक होते हैं। इसके अलावा यह मूल निवासी को अच्छे शैक्षणिक कौशल के साथ-साथ नंबरों के साथ भी अच्छा बनाता है। इसके अलावा इस घर में बुध होने से जातक अपनी गणित प्रतिभा के कारण बहुत अधिक धन प्राप्त करने और जमा करने के लिए प्रवृत्त होता है और उन्हें वित्त के मामले में महान ज्ञान भी प्राप्त होता है।

  1. बुध तीसरे भाव में

किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में तीसरे घर में बुध जातक को अपने संचार कौशल के साथ बहुत अच्छा बनाता है और जातक को स्वभाव से काफी सामाजिक भी बनाता है। इसके अलावा यह जातक को अलौकिक से संबंधित विषयों में बहुत रुचि रखता है। साथ ही इस भाव में बुध के होने से जातक लिखने और पढ़ने की क्षमता से युक्त होता है। साथ ही यह भाव बुध ग्रह की स्थिति के लिहाज से भी बहुत शुभ और अनुकूल माना जाता है। इसके अलावा मूल निवासी अपने संचार कौशल और बुद्धि का उपयोग करके दूसरों को धोखा देने के लिए प्रवृत्त होते हैं।

  1. चतुर्थ भाव में बुध

चतुर्थ भाव में बुध के प्रभाव से जातक बहुत रचनात्मक और ज्ञानी स्वभाव के होते हैं। इसके अलावा यह जातक को पेशे से प्रेरित और अपने करियर के मामले में काफी सफल भी बनाता है। इस भाव में बुध वाले जातकों के लिए विदेश में बसने और यात्रा करने के प्रबल योग बनते हैं। इसके अलावा इस घर में बुध होने से जातक को कई अफेयर्स होने का खतरा होता है और वह अपने जीवन में बहुत सारे रिश्तों में भी शामिल होता है। इसके अलावा उच्च संभावना है कि मूल में अनैतिक व्यवहार संबंधी विशेषताएं होंगी।

  1. बुध पंचम भाव में

पंचम भाव में बुध वाले जातक अच्छे संचार कौशल वाले होते हैं और स्वभाव से काफी ज्ञानी और बौद्धिक भी होते हैं। इसके अलावा यह जातक को ज्योतिष से संबंधित विषयों में गहरी रुचि भी देता है। इसके अलावा इस घर में बुध होने से जातक स्वभाव से अनिर्णय का शिकार हो जाता है और गणित और संख्या के साथ भी बहुत अच्छा हो जाता है।

  1. छठे भाव में बुध

छठे भाव में बुध वाले जातक स्वभाव से काफी सामाजिक व्यक्ति होते हैं। इसके अलावा यह जातक को बहुत प्रसिद्धि भी दिलाता है। लेकिन दूसरी ओर यह जातक को अधिक सोचने जैसी समस्याओं से भी पीड़ित करता है और बौद्धिक क्षमता भी कम करता है। साथ ही इस घर में बुध की स्थिति जातक को अपने जीवन में बहुत सारी समस्याओं और बाधाओं से ग्रस्त करती है।

  1. बुध सातवें घर में

सातवें घर में बुध का होना मतलब जातक का बहुत ही प्यार करने वाला और रोमांटिक स्वभाव होता है। इसके अलावा यह जातक को अपने साथी के प्रति गहरा प्यार भी देता है और जातक भी बहुत जानकार और विद्वान बनेंगे। इसके अलावा इस घर में बुध होने से जातक की कई इच्छाएं होती है और एक ऐसा साथी भी होता है जो अत्यधिक करियर उन्मुख और बहुत बुद्धिमान भी होगा। हालांकि इस बात की भी संभावना है कि जातक अपने जीवनसाथी के साथ बहुत अधिक बहस और झगड़े में पड़ जाए।

  1. बुध आठवें घर में

आठवें घर में बुध जातक को जीवन के प्रति एक विश्लेषणात्मक और तार्किक दृष्टिकोण बनाता है और वित्त के पहलुओं में भी भाग्यशाली होता है। इसके अलावा यह मूल निवासी को महान संचार क्षमता भी देता है। इसके अलावा इस घर में बुध का होना जातक को अवसाद और अन्य संबंधित मनोवैज्ञानिक विकारों का शिकार बनाता है। साथ ही यह जातक को स्वभाव से काफी अनिर्णायक बनाता है।

  1. बुध नवम भाव में

नवम भाव में बुध के होने से जातक स्वभाव से बहुत बुद्धिमान होते हैं। इसके अलावा यह मूल निवासी को एक उच्च आध्यात्मिक झुकाव भी देता है। साथ ही इस भाव में बुध के होने से जातक की विदेश यात्राएं भी खूब होती हैं। दूसरी ओर यह जातकों को सभी चीजों को एक साथ करने के लिए प्रेरित करता है। लेकिन इससे जातक एक चीज पर ठीक से ध्यान केंद्रित नहीं कर पाता है।

  1. बुध दसवें भाव में

10 वें घर में बुध के होने से जातकों में ऐसे गुण होते हैं जो उन्हें प्रकृति में करियर उन्मुख बनाते हैं और जीवन कौशल में महारत हासिल कराते हैं। इसके अलावा यह जातक को बहुत सफल बनाता है और बहुत सारा धन संचित करता है। साथ ही इस भाव में बुध होने से जातक के विदेश यात्राएं करने का भी योग बनता है।

  1. बुध 11वें भाव में

11वें घर में बुध जातक को स्वभाव से बहुत सामाजिक बनाता है और अलौकिक शक्तियों में भी बहुत रुचि रखता है। इसके अलावा यह जातक में ऐसी योग्यताएं भी पैदा करता है जो उन्हें दूसरों को धोखा देने के लिए प्रवृत्त करती हैं। साथ ही इस भाव में बुध का होना जातक को करियर उन्मुख बनाता है और भौतिक सुख-सुविधाओं में भी उनकी रुचि कम करता है।

  1. बुध बारहवें भाव में

बुध 12वें भाव में होने से जातकों का स्वभाव बहुत कल्पनाशील होता है और अलौकिक से संबंधित विषयों में उनकी रुचि भी पैदा करता है। इसके अलावा यह जातक को वाणी दोष भी बनाता है। इसके अलावा इस घर में बुध के होने से जातक को लंबे समय तक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

कमजोर बुध के लिए कोई उपाय बताएं?

कमजोर बुध द्वारा लाए जाने वाले नकारात्मक प्रभावों और परिवर्तनों को रोकने के उपायों में निम्नलिखित शामिल हैं -

  1. - हरा रंग अधिक से अधिक पहनें और विशेष रूप से बुधवार के दिन।
  2. - बुधवार का व्रत करें।
  3. - गरीबों को दूध और चावल का दान करें।
  4. - चांदी की चेन पहनें।

    कैसे करें बुध देव को प्रसन्न?

    बुध देव को कैसे प्रसन्न करें? इसके उपाय के लिए कुछ विधियां नीचे दी गई है। इस ग्रह के स्वामी विष्णु को प्रसन्न करने के लिए व्यक्ति नीचे दी गई विधियों का पालन कर सकता है। इन विधियों में शामिल हैं:

    1. बुधवार का व्रत करें।
    2. चाँदी की जंजीर पहने।
    3. बुध मंत्र का जाप करें - 'ॐ ब्रं ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः'।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल-

बुध एक ऐसे ग्रह के रूप में जाना जाता है जो व्यक्ति के जीवन में संचार, बुद्धि और बुद्धि के पहलुओं में सकारात्मकता लाता है। इसके अलावा बुध की सबसे अनुकूल स्थिति तब देखी जाती है जब वह तीसरे भाव में स्थित होता है।
इस ग्रह के देवता भगवान विष्णु हैं। इस प्रकार कमजोर बुध के नकारात्मक प्रभावों को कम करने के लिए भगवान विष्णु की पूजा करने की सलाह दी जाती है।
बुध वह ग्रह है जो व्यक्ति के जीवन में संचार, बुद्धि और बुद्धि के पहलुओं का नेतृत्व करता है। इस ग्रह की सबसे अनुकूल स्थिति तीसरे भाव में स्थित होने पर जानी जाती है।
राहु और केतु को अंग्रेजी में चंद्रमा के नोड्स के रूप में जाना जाता है। राहु को उत्तरी नोड कहा जाता है और केतु को दक्षिणी नोड कहा जाता है।
Karishma tanna image
close button

Karishma Tanna believes in InstaAstro

Urmila  image
close button

Urmila Matondkar Trusts InstaAstro