ज्योतिष में सातवां घर - रिश्तों का घर

हम सभी जानते हैं कि प्रत्येक ग्रह की अपनी कक्षा होती है और वह विभिन्न गृहों में घूमता रहता है। आइए जानें ज्योतिष में सातवें घर में ग्रहों का प्रभाव। जन्म कुंडली में सातवां घर सबसे शक्तिशाली घरों में से एक है। किसी व्यक्ति के कनेक्शन और गठबंधन के संबंध, जिसमें सहयोग, बातचीत और कानूनी हेरफेर की उनकी क्षमता शामिल है।

कुंडली में सातवां घर किसी व्यक्ति की सार्वजनिक छवि और उनके रिश्तों के संबंध में प्रतिष्ठा के साथ-साथ संभावित साथियों के रूप और व्यक्तित्व पर भी प्रकाश डालता है। 7वें घर में ग्रहों की स्थिति और प्रभाव को समझकर रिश्तों पर किसी व्यक्ति के नजरिये और लंबे समय तक चलने वाले रिश्ते की क्षमता के बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकती है। ज्योतिष में सप्तम भाव हिंदी में (7th house in astrology in hindi) अत्यधिक जानकारी के लिए लेख को पढ़ना जारी रखें।

ज्योतिष शास्त्र का 7वां घर साझेदारी, विवाह, रिश्ते, अनुबंध और समझौतों के लिए है। यह एक महत्वपूर्ण घर है। खुले शत्रुओं का घर और विवाह इसके कुछ नाम हैं। किसी व्यक्ति के रिश्तों और साझेदारियों की प्रकृति का अनुमान सातवें घर में ग्रहों की स्थिति और उस पर शासन करने वाले ग्रह से लगाया जा सकता है।

उदाहरण के लिए, यदि शुक्र सातवें घर पर शासन करता है, तो यह सुझाव देता है कि व्यक्ति सुखद और प्रेमपूर्ण संबंधों का अनुभव कर सकता है। 7वां घर उन विशेषताओं को भी दर्शाता है जो एक व्यक्ति अपने जीवनसाथी या साथी में आकर्षित कर सकता है, साथ ही उन गुणों को भी दर्शाता है जिन्हें वह एक साथी में तलाश रहा है।

सातवां घर अक्सर आर्थिक गठबंधनों, अनुबंधों और कानूनी समझौतों का प्रतीक है। किसी व्यक्ति को इन क्षेत्रों में जिस सफलता या कठिनाइयों का अनुभव हो सकता है। उसका संकेत सातवें घर में ग्रह की स्थिति से हो सकता है। पहला घर, जो स्वयं का प्रतीक है, सातवें घर के सामने स्थित है। यह विरोधाभास दर्शाता है कि साझेदारी को सफल बनाने के लिए, एक व्यक्ति को अपनी और अपने साथी की जरूरतों और इच्छाओं के बीच संतुलन बनाना सीखना होगा।

यदि सातवें घर में अशुभ ग्रह हों या सातवें घर का स्वामी ग्रह कमजोर या पीड़ित हो तो यह रिश्तों में बाधाओं या कठिनाइयों का संकेत हो सकता है, जैसे संघर्ष, व्यभिचार या तलाक।

इसके अलावा, यदि आप अपने निजी जीवन पर इसके प्रभावों के बारे में अधिक जानना चाहते हैं ज्योतिष में सप्तम भाव का हिंदी में अर्थ (7th house in astrology meaning in hindi)तो आप इंस्टाएस्ट्रो के विशेषज्ञ ज्योतिषी से चैट कर सकते हैं।

सटीक भविष्यवाणी के लिए कॉल या चैट के माध्यम से ज्योतिषी से जुड़ें

सातवें घर के मूल तत्व

  • विवाह और साझेदारी: ज्योतिष का सातवां घर रिश्तों और विवाह की प्रतिबद्धता को नियंत्रित करता है और इसे अक्सर ‘विवाह का घर’ कहा जाता है।
  • खुले शत्रु: यह भाव उन लोगों का भी प्रतिनिधित्व करता है जो खुले तौर पर आपका विरोध करते हैं या जो आपके खिलाफ खड़े हैं। इन्हें खुले शत्रु के रूप में जाना जाता है।
  • अनुबंध और समझौते: यह सदन साझेदारी सहित सभी कानूनी मामलों की देखरेख करता है।
  • सहयोग और समझौता: सातवां घर इन पारस्परिक कौशल की क्षमता का प्रतीक है, जो किसी भी प्रतिबद्ध साझेदारी में महत्वपूर्ण हैं।
  • साझेदारों की शक्ल और व्यक्तित्व: 7वां घर संभावित साथियों की विशेषताओं को भी प्रदर्शित करता है, जिसमें उनकी शक्ल और चरित्र भी शामिल है, जिससे एक व्यक्ति आकर्षित हो सकता है।
  • सार्वजनिक छवि: यह घर किसी की प्रतिष्ठा और सार्वजनिक छवि से भी जुड़ा होता है, खासकर जब कनेक्शन और व्यावसायिक सहयोग की बात आती है।

किसी व्यक्ति के सबसे महत्वपूर्ण रिश्तों और साझेदारियों के गुण उनके 7वें घर की गतिशीलता से प्रकट होते हैं, जो ज्योतिष में समग्र रूप से किसी व्यक्ति के चार्ट का एक अनिवार्य पहलू है। हिंदी में ज्योतिष में सप्तम भाव (7th house in astrology in hindi) के अलग- अलग पहलू को आप इस लेख में समझेंगे।

सातवें घर में ग्रह

किसी व्यक्ति के रिश्ते और गठबंधन उसकी जन्म कुंडली के सातवें घर में ग्रह की स्थिति से महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित हो सकते हैं। ज्योतिष में सप्तम भाव का हिंदी में अर्थ (7th house in astrology meaning in hindi)सातवें घर में विभिन्न ग्रहों के संभावित प्रभावों का संक्षिप्त विवरण नीचे दिया गया है:

  • सातवें घर में सूर्य: सातवें घर में सूर्य वाला व्यक्ति रोमांटिक रिश्तों में बहुत रुचि रखता है और एक ऐसे साथी की तलाश कर सकता है जो उनके व्यक्तित्व को बढ़ाए। एक जोड़े के रूप में पहचाने जाने की उनकी तीव्र इच्छा के कारण वे अपने जीवन के अन्य पहलुओं की तुलना में अपने संबंध को अधिक महत्व दे सकते हैं।
  • सातवें घर में चंद्रमा: सातवें घर में चंद्रमा वाले लोग अपने रिश्तों में काफी भावुक हो सकते हैं और एक ऐसे साथी की तलाश कर सकते हैं जो उन्हें भावनात्मक सुरक्षा की भावना प्रदान कर सके। इसके अलावा, वे अपने साथी पर बहुत अधिक ध्यान केंद्रित कर सकते हैं, जिससे कभी-कभी शादी में समस्या पैदा हो सकती हैं।
  • सातवें घर में शुक्र: चूंकि शुक्र स्वाभाविक रूप से सातवें घर पर शासन करता है, इसलिए यहां इसका स्थान अत्यधिक भाग्यशाली माना जाता है। सातवें घर में शुक्र एक ऐसे व्यक्ति को बताता है जो संभावित रूप से बहुत आकर्षक है और जिसमें खुशहाल रिश्ते बनाने की क्षमता है। इसके अलावा, यदि वे वास्तव में रचनात्मक हैं, तो वे अपनी कलात्मक प्रतिभा का उपयोग दूसरों के साथ अपने संबंधों को मजबूत करने के लिए कर सकते हैं।
  • सातवें घर में मंगल: चूंकि मंगल क्रिया और ऊर्जा का ग्रह है, इसलिए सातवें घर में इसकी स्थिति को कभी-कभी एक भावुक और ऊर्जावान रोमांटिक रिश्ते की इच्छा के रूप में समझा जा सकता है। सातवें घर में मंगल पारस्परिक संबंधों में तर्कशील या आक्रामक व्यवहार की प्रवृत्ति का भी संकेत दे सकता है, जिसके परिणामस्वरूप कभी-कभी समस्याएं हो सकती हैं।
  • सातवें घर में बृहस्पति: चूंकि बृहस्पति विकास और विस्तार का ग्रह है, इसलिए सातवें घर में इसकी स्थिति एक जबरदस्त विस्तार और संतोषजनक रिश्ते की इच्छा का संकेत हो सकती है। सातवें घर में बृहस्पति व्यक्ति को स्थायी, पारस्परिक रूप से लाभप्रद संबंध स्थापित करने के लिए स्वाभाविक प्रवृत्ति भी प्रदान करता है।
  • सातवें घर में शनि: शनि अनुशासन और संरचना का ग्रह है। इस प्रकार, सातवें घर में इसकी स्थिति एक ठोस और सुव्यवस्थित रिश्ते की इच्छा का संकेत दे सकती है। इसके अलावा, सातवें घर में शनि वाले व्यक्ति में अपने रिश्तों में सतर्क या संयमित रहने की प्रवृत्ति हो सकती है, जिससे कभी-कभी बंधन बनाना मुश्किल हो सकता है।
  • सातवें घर में राहु: राहु की ऊर्जा अराजक और शक्तिशाली है और सातवें घर में इसकी स्थिति लोगों को अजीब और असामान्य साथियों की चाहत पैदा कर सकती है। यह प्लेसमेंट किसी ऐसे व्यक्ति की ओर भी इशारा कर सकता है जो अपने रिश्तों में नवीनता और उत्साह का आनंद लेता है, जिसके परिणामस्वरूप कभी-कभी अस्थिर या कुछ ही समय में समाप्त होने वाले संबंध बन जाते हैं।
    सातवें घर में राहु अत्यधिक आत्म-केंद्रित होने की प्रवृत्ति का भी प्रतिनिधित्व कर सकता है, जिससे अन्य व्यक्तियों के साथ सामंजस्यपूर्ण संबंध स्थापित करना चुनौतीपूर्ण हो जाता है।
  • सातवें घर में केतु: वैदिक ज्योतिष में केतु एक छाया ग्रह है जिसका व्यक्ति के जीवन पर आध्यात्मिक और कार्मिक प्रभाव पड़ता है। जब केतु जन्म कुंडली के सातवें घर में स्थित होता है तो रिश्तों और साझेदारियों पर काफी प्रभाव पड़ सकता है। यह स्थान दूसरों के साथ वास्तविक संबंध बनाने में कठिनाई महसूस करने की प्रवृत्ति का संकेत दे सकता है।
    सांसारिक मामलों, विशेष रूप से रोमांटिक रिश्तों में वैराग्य और उदासीनता की भावना, केतु की ऊर्जा के कारण उत्पन्न हो सकती है। इससे सातवें घर में केतु वाले व्यक्ति के लिए सम्मान और विश्वास पर आधारित स्थायी रिश्ते स्थापित करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

राशियाँ और सातवें घर पर उनका प्रभाव

  • मेष: मेष राशि की ज्योतिष विशेषताएं स्वतंत्रता और निर्भीकता हैं। जब मेष राशि सातवें घर में होती है तो व्यक्ति उन साझेदारों की ओर आकर्षित हो सकता है जो समान रूप से स्वतंत्र और सशक्त होते हैं, लेकिन यह स्थिति साझेदारी में संघर्ष या प्रतिस्पर्धा की प्रवृत्ति की ओर भी इशारा कर सकती है।
  • वृषभ: वृषभ एक चिन्ह है जो सुरक्षा और स्थिरता का प्रतीक है। सातवें घर में वृषभ रिश्तों में अधिकारवादी या भौतिकवादी होने की प्रवृत्ति और ऐसे साथियों की आवश्यकता का संकेत दे सकता है जो स्थिरता और सुरक्षा प्रदान कर सकें।
  • मिथुन: मिथुन राशि की विशेषता अनुकूलनशीलता और संचार है। सातवें घर में मिथुन राशि रिश्तों में आवेगी या बेचैन होने की प्रवृत्ति के साथ-साथ बौद्धिक और संचार भागीदारों के प्रति आकर्षण का संकेत दे सकती है।
  • कर्क: कैंसर भावनात्मक संवेदनशीलता और गहराई का लक्षण है। जब कर्क राशि सातवें घर में होती है तो व्यक्ति ऐसे साथियों की तलाश कर सकता है जो समान भावनात्मक संबंध साझा करते हों, लेकिन यह स्थिति अत्यधिक निर्भर होने या रिश्तों से चिपके रहने की प्रवृत्ति की ओर भी इशारा कर सकती है।
  • सिंह: सिंह राशि का ज्योतिषीय चिन्ह रचनात्मकता और आत्म-आश्वासन से जुड़ा है। जब सिंह सातवें घर में होता है, तो व्यक्ति रचनात्मक और आत्मविश्वासी साथियों की ओर आकर्षित हो सकता है। फिर भी, यह स्थिति रोमांटिक रिश्तों में स्वार्थ या ध्यान आकर्षित करने की प्रवृत्ति की ओर भी इशारा कर सकती है।
  • कन्या: कन्या राशि वह चिन्ह है जो संरचना और यथार्थवाद का प्रतिनिधित्व करता है। जब कन्या राशि सातवें घर में होती है, तो व्यक्ति जिम्मेदारी और व्यावहारिकता की समान भावना वाले भागीदारों की तलाश कर सकता है। फिर भी, यह स्थिति रिश्तों में अत्यधिक उधम मचाने या आलोचनात्मक होने की प्रवृत्ति का भी संकेत दे सकती है।
  • तुला: तुला राशि न्याय, संतुलन और निष्पक्षता का प्रतिनिधित्व करती है। सातवें घर में तुला राशि होने पर व्यक्ति का झुकाव ऐसे साझेदारों की ओर हो सकता है जो रिश्तों में शांति और संतुलन को महत्व देते हैं। इसका स्थान साझेदारियों में भौतिक विशेषताओं या सतह-स्तरीय विशेषताओं के साथ अनावश्यक रूप से व्यस्त रहने की प्रवृत्ति है।
  • वृश्चिक: वृश्चिक का ज्योतिषीय चिन्ह तीव्रता और परिवर्तन से जुड़ा है। सातवें घर में वृश्चिक रिश्तों में स्वामित्व या नियंत्रण रखने की प्रवृत्ति का संकेत दे सकता है, लेकिन यह ऐसे साथियों की इच्छा का भी संकेत दे सकता है वह उतने ही प्रखर और परिवर्तनकारी हों।
  • धनु: धनु राशि का चिन्ह स्वतंत्रता और अन्वेषण का प्रतिनिधित्व करता है। सातवें घर में धनु राशि रिश्तों में प्रतिबद्धता-फोबिक या बेचैन होने की प्रवृत्ति और स्वतंत्रता और रोमांच को महत्व देने वाले भागीदारों के प्रति आकर्षण का संकेत दे सकती है।
  • मकर राशि: मकर राशि का ज्योतिष चिन्ह जिम्मेदारी और आकांक्षा से जुड़ा है। जब मकर राशि सातवें घर में होती है, तो व्यक्ति ऐसे साझेदारों की तलाश कर सकता है जो जिम्मेदारी और प्रेरणा की भावना को साझा करते हों। यह प्लेसमेंट वर्क हॉलिज्म की ओर झुकाव या रिश्ते की स्थिति पर अत्यधिक एकाग्रता को प्रस्तुत करता है।
  • कुंभ: कुंभ राशि अपने नयी चीज़ें और स्वतंत्र स्वभाव के लिए जानी जाती है। कुंभ राशि के सातवें घर में होने पर व्यक्ति उन साझेदारों की ओर आकर्षित हो सकता है जो व्यक्तित्व और आविष्कार शीलता की सराहना करते हैं। फिर भी, यह स्थिति भावनात्मक अलगाव या रिश्तों में अप्रत्याशित होने की प्रवृत्ति की ओर भी इशारा कर सकती है।
  • मीन: मीन राशि का चिन्ह अपनी करुणा और आध्यात्मिकता के लिए जाना जाता है। मीन राशि के सातवें घर में होने पर व्यक्ति करुणा और आध्यात्मिकता की समान भावना वाले साथियों की तलाश कर सकता है। यह प्लेसमेंट रिश्तों में अत्यधिक रोमांटिक या पलायनवादी होने की प्रवृत्ति की ओर इशारा करता है।

7वाँ घर विवाह साथी

ज्योतिष में 7वां घर अक्सर विवाह और गठबंधन से जुड़ा होता है और यह किसी व्यक्ति के आदर्श जीवनसाथी के बारे में महत्वपूर्ण विवरण प्रदान कर सकता है। सातवें घर में राशि चक्र और ग्रह उन गुणों के बारे में संकेत प्रकट कर सकते हैं जिनकी एक व्यक्ति अपने साथी में सराहना करता है। सातवें घर में विवाह साथी अत्यधिक रोमांटिक होता है।

उदाहरण के लिए, सातवें घर में शुक्र वाला व्यक्ति अपने रिश्ते के सामंजस्य, सुंदरता और रोमांस की प्रशंसा कर सकता है। इसके विपरीत, सातवें घर में मंगल वाला व्यक्ति जुनून, बहादुरी और दृढ़ता को महत्व दे सकता है। सातवें घर की सीमा पर राशि चिन्ह आदर्श साथी के गुणों और व्यक्तित्व विशेषताओं के बारे में विवरण भी बता सकता है।

कुंडली में सातवां घर

कुंडली (जन्म कुंडली) में 7वां घर वैदिक ज्योतिष में सबसे महत्वपूर्ण घरों में से एक माना जाता है क्योंकि यह विवाह, साझेदारी और रिश्तों का प्रतीक है। इसलिए, सातवें घर में ग्रह की स्थिति और सातवें घर की सीमा को नियंत्रित करने वाला चिन्ह किसी व्यक्ति के डेटिंग के नजरिये और संभावित जीवनसाथी के गुणों के बारे में जानकारी प्रकट कर सकता है।

उदाहरण के लिए, यदि अशुभ ग्रह मंगल, शनि या राहु किसी व्यक्ति के सातवें घर में हैं, तो यह आदर्श साथी ढूंढने में कठिनाई और उनके रिश्तों में चुनौतियों और बाधाओं का संकेत दे सकता है। इसके विपरीत, यदि शुक्र या बृहस्पति जैसे शुभ ग्रह 7वें घर को नियंत्रित करते हैं तो एक सामंजस्यपूर्ण और फलदायी विवाह या साझेदारी की भविष्यवाणी की जा सकती है।

किसी व्यक्ति के रिश्तों के प्रति नजरिया का अनुमान सातवें घर के शिखर पर स्थित चिन्ह से भी लगाया जा सकता है। यदि मेष राशि सातवें घर के शिखर पर है, तो इससे पता चलता है कि व्यक्ति अपने रिश्तों में स्वतंत्रता, जुनून और रोमांच की सराहना करता है। इसी प्रकार, यदि तुला राशि सातवें घर के कगार पर है, तो यह सुझाव दे सकता है कि व्यक्ति अपने रिश्तों में संतुलन, साझेदारी और सद्भाव पसंद करता है।

यदि लग्न कुंडली में सातवां घर खाली है, तो यह दर्शाता है कि उस घर में कोई ग्रह नहीं है। वैदिक ज्योतिष में एक खाली सातवां घर आवश्यक रूप से एक बुरे पहलू का संकेत नहीं देता है क्योंकि इसके आसपास के घरों में मौजूद ग्रह अभी भी सातवें घर पर प्रभाव डाल सकते हैं। या हम यह भी कह सकते हैं कि विवाह के सातवें घर में कोई ग्रह नहीं है। यानी लग्न कुंडली में सातवां घर खाली है।

यदि सप्तम भाव खाली है तो रिश्ते व्यक्ति की सर्वोच्च प्राथमिकता नहीं हो सकते हैं। इसके बजाय, उनका अलग-अलग जोर या उद्देश्य हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, लोग अपने काम, व्यक्तिगत विकास या अपने जीवन के अन्य पहलुओं पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। हालांकि, खाली सातवें घर का मतलब यह भी हो सकता है कि व्यक्ति को एक अनुकूल साथी खोजने में मदद की आवश्यकता हो सकती है या करीबी रिश्ते बनाने में परेशानी हो सकती है।

ज्योतिष में सातवें घर का सकारात्मक प्रभाव

ज्योतिष में विवाह, साझेदारी और रिश्तों को 7वें घर के रूप में जाना जाता है। सातवें घर पर शुक्र, बृहस्पति या चंद्रमा जैसे ग्रहों का सकारात्मक प्रभाव रिश्तों और साझेदारी के लिए सकारात्मक और सामंजस्यपूर्ण दृष्टिकोण का सुझाव देता है।

ज्योतिष में, उचित रूप से स्थित 7वें घर के कुछ लाभकारी प्रभावों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • विवाह और साझेदारी की प्रबल इच्छा
  • गहरे, सार्थक संबंध स्थापित करने की क्षमता
  • सफल और खुशहाल रिश्ते या विवाह
  • कूटनीति और बातचीत में बातचीत के लिए एक उपहार
  • बातचीत में न्याय और निष्पक्षता की मजबूत भावना
  • आज्ञाकारी और संगत साथी खोजने की क्षमता

जिन लोगों का सातवां घर ठीक से स्थित है, उनके जीवन में सफल कनेक्शन और साझेदारियां होने की संभावना अधिक होती है। फिर भी यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ज्योतिष किसी व्यक्ति के अनुभवों और जीवन को समझने का एक उपकरण मात्र है। इसके अलावा, रिश्तों को मजबूत और फलदायी बनाए रखने में अनुकूलता, संचार और व्यक्तिगत विश्वास महत्वपूर्ण कारक हैं।

ज्योतिष में सातवें घर के नकारात्मक प्रभाव और उपाय

ज्योतिष में सातवां घर विवाह, साझेदारी और रिश्तों का प्रतिनिधित्व करता है। मंगल, शनि या राहु जैसे अशुभ ग्रह सातवें घर पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। जो रिश्तों में कठिनाइयों और सही जीवनसाथी ढूंढने या शांतिपूर्ण संबंध बनाए रखने में कठिनाइयों का संकेत दे सकता है।

नकारात्मक रूप से प्रभावित सातवें घर के नकारात्मक प्रभावों में निम्न चीजें शामिल हो सकती हैं:

  • अनुकूल साथी ढूंढने में कठिनाई या देरी
  • दुखी या असफल रिश्ते या विवाह
  • रिश्तों में तकरार या मनमुटाव
  • साझेदारी में विश्वासघात या बेवफाई
  • साझेदारी संबंधी कानूनी या वित्तीय कठिनाइयाँ

हालांकि, खराब प्रभाव वाले सातवें घर के प्रभाव को कम करने के लिए कदम उठाए जा सकते हैं। लोकप्रिय उपचारों में से हैं:

  • सप्तम भाव पर शासन करने वाले ग्रह के शुभ प्रभाव को बढ़ाने के लिए उसकी पूजा करें
  • सातवें घर पर शासन करने वाले ग्रह से संबंधित रत्न पहनना
  • सप्तम भाव पर शासन करने वाले ग्रह से संबंधित विशिष्ट दिनों पर व्रत रखना
  • सातवें घर पर शासन करने वाले ग्रह को प्रसन्न करने के लिए विशेष ज्योतिषीय संस्कार और समारोह करना
  • सप्तम भाव के लिए किसी अनुभवी ज्योतिषी से बात करके व्यक्ति की कुंडली और परिस्थितियों के अनुकूल विशिष्ट इलाज पर सलाह लेना।

निष्कर्ष

निष्कर्षत, ज्योतिषीय सातवां घर, जो विवाह, साझेदारी और रिश्तों को नियंत्रित करता है, एक महत्वपूर्ण घरहै। सातवें घर में ग्रह और राशियों की स्थिति रिश्तों के प्रति व्यक्ति के नजरिया और उनके संभावित जीवनसाथी के गुणों के बारे में महत्वपूर्ण सुराग दे सकती है।

जबकि नकारात्मक प्रभाव वाला सातवां घर रिश्तों में कठिनाइयों और बाधाओं का संकेत दे सकता है, वहीं अनुकूल पहलुओं वाला एक अच्छी तरह से स्थित सातवां घर सफल और सामंजस्यपूर्ण रिश्तों का संकेत दे सकता है।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल-

ज्योतिष के 12 भावों में से एक, सप्तम भाव ज्योतिष व्यक्ति के जीवन के कई पहलुओं को दर्शाता है। साझेदारी, विवाह और रिश्ते सभी सातवें घर से संबंधित है। इसे अक्सर 'मिलन का घर' या 'विवाह का घर' कहा जाता है।
खाली सातवां घर यह संकेत दे सकता है कि कोई व्यक्ति विवाह और रिश्तों को कम महत्व देता है या साझेदारी को अधिक स्वतंत्र रूप से या असामान्य तरीके से अपना सकता है। किसी रिश्ते के लिए प्रतिबद्ध होने से पहले, यह व्यक्ति के लिए अपने व्यक्तिगत विकास और सुधार पर ध्यान केंद्रित करने का एक मौका है।
7वां घर शुक्र, बृहस्पति और चंद्रमा जैसे ग्रहों से सकारात्मक रूप से प्रभावित हो सकता है जबकि शनि, मंगल और राहु से नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
सातवां घर किसी व्यक्ति के आदर्श साथी, रिश्तों के प्रति दृष्टिकोण और भावी जीवनसाथी के गुणों के बारे में विवरण प्रकट कर सकता है।
रत्न धारण करने, अनुष्ठान करने या किसी कुशल ज्योतिषी से परामर्श लेने जैसे उपायों का उपयोग करके 7वें घर में नकारात्मक प्रभावों को कम किया जा सकता है।
जबकि अनुकूल पहलुओं के साथ उचित रूप से स्थित 7वां घर खुशहाल और फलदायी रिश्तों का सुझाव दे सकता है, व्यक्तिगत मूल्य, अनुकूलता और संचार जैसे अन्य तत्व खुशहाल और फलदायी रिश्तों को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है।
Karishma tanna image
close button

Karishma Tanna believes in InstaAstro

Urmila  image
close button

Urmila Matondkar Trusts InstaAstro