स्वास्थ्य एवं ज्योतिष

स्वास्थ्य आपके जीवन के सबसे महत्वपूर्ण तत्वों में से एक है। एक स्वस्थ जीवनशैली के कई फायदे हैं, जिनमें जीवनकाल में वृद्धि और जीवन की बेहतर गुणवत्ता शामिल है। दिलचस्प बात यह है कि ज्योतिष आपके स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आपके ज्योतिषीय चार्ट में ग्रहों की स्थिति आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बहुत कुछ बता सकती है। इसे ध्यान में रखते हुए, हमारे पास स्वस्थ रहने के ज्योतिष उपाय या स्वास्थ्य के लिए कुछ प्रभावी उपाय हैं जो आपको स्वस्थ और खुशहाल जीवन जीने में मदद करते हैं। आइये हिंदी में स्वास्थ्य समस्याओं के लिए ज्योतिषीय उपाय (Astrological remedies for health problems in hindi)के जरिए अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखें।

स्वस्थ जीवन शैली जीने के ज्योतिषीय उपाय

क्या आप जानते हैं कि आपकी अस्वास्थ्यकर जीवनशैली और मौसमी बदलावों के अलावा कई ज्योतिषीय कारक आपके स्वास्थ्य पर बहुत प्रभाव डालते हैं? इसलिए, हमने आपको स्वस्थ जीवन शैली जीने में मदद करने के लिए अच्छे स्वास्थ्य के लिए ज्योतिष उपायों या हिंदी में हेल्थ टिप्स(Health tips in hindi)की जानकारी दी है।

स्वास्थ्य के लिए वैदिक उपाय

क्या आप जानते हैं कि आपकी जन्म कुंडली में कमजोर और अशुभ ग्रह आपके शारीरिक स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकते हैं? चिकित्सा ज्योतिष ग्रहों की विभिन्न घरों में चाल और आपकी जन्म कुंडली में स्थिति आपके स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है। तो, आइए स्वस्थ रहने के ज्योतिष उपाय और स्वास्थ्य के ज्योतिष उपाय पर गौर करें।

सटीक भविष्यवाणी के लिए कॉल या चैट के माध्यम से ज्योतिषी से जुड़ें

मंगल ग्रह

मंगल वह ग्रह है जो व्यक्तियों के स्वास्थ्य पर सबसे अधिक प्रभाव डालता है। यदि आपकी कुंडली में मंगल कमजोर है, तो आप कई गंभीर शारीरिक स्वास्थ्य समस्याओं का अनुभव कर सकते हैं, जिनमें गंभीर रक्त हानि भी शामिल है। यह सर्जरी, दुर्घटना या गर्भपात के माध्यम से हो सकता है।

उपाय:

  • चूंकि स्वास्थ्य समस्याएं और ज्योतिष साथ-साथ चलते हैं, इसलिए सबसे प्रभावी उपाय हमेशा अपनी जेब में लाल रंग का रुमाल रखना है।
  • अपनी जन्म कुंडली में मौजूद मंगल ग्रह को प्रसन्न करने के लिए रक्तदान करें, जिससे आपको गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से मुक्ति मिल सकती है।
  • कमजोर मंगल के कारण स्वास्थ्य समस्याओं की संभावना को कम करने के लिए आप गरीब लोगों को तांबे के बर्तन दे सकते हैं।
  • आप बंदरों को खाना खिला सकते हैं, जो घातक स्थितियों से खुद को बचाने का एक शक्तिशाली उपाय है।

शनि ग्रह

यदि आपकी कुंडली में शनि कमजोर है तो आप बच नहीं सकते। स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं इसके कमजोर स्थान और प्रभावी चिकित्सा ज्योतिष उपायों के कारण होती हैं। कमजोर शनि के कारण लोगों में आम तौर पर होने वाली एक गंभीर शारीरिक स्वास्थ्य समस्या बार-बार जोड़ों और पीठ में दर्द होना है। यह कभी-कभी अत्यधिक हो सकता है, जिससे भविष्य में गठिया की समस्या हो सकती है।

उपाय:

  • इस चिकित्सा ज्योतिष ग्रह के लिए प्रभावी उपाय पीपल के पेड़ पर कच्चा दूध चढ़ाना और शनि देव की पूजा करना है।
  • आपको रोजाना पीपल के पेड़ पर जल भी चढ़ाना चाहिए और दीया भी जलाना चाहिए।
  • शनिवार के दिन घास पर नंगे पैर चलना शनिदेव को प्रसन्न करने और अपने शनि को मजबूत बनाने का सबसे प्रभावी तरीका हो सकता है।
  • घर में यज्ञ या हवन करने से आपके घर की आभा में सुधार हो सकता है, जिससे घर में रहने वाले आपके सदस्य किसी भी बीमारी से मुक्त हो सकते हैं।

राहु ग्रह

छाया ग्रहों और उत्तरी चंद्र नोड में से एक होने के कारण, राहु व्यक्तियों के स्वास्थ्य और सौभाग्य को काफी खराब कर देता है। राहु मस्तिष्क और लीवर से संबंधित रोगों का कारण बन सकता है, जिससे जातक शारीरिक रूप से कमजोर हो सकते हैं। इन व्यक्तियों को पेट में तेज दर्द के कारण बार-बार गिरने का भी खतरा होता है। आइये स्वास्थ्य के ज्योतिष उपाय की जानकारी प्राप्त करते हैं।

उपाय:

  • रोजाना तांबे के बर्तन से पानी पिएं, जिससे धीरे-धीरे आपकी सेहत में सुधार हो सकता है।
  • प्रतिदिन राहु स्तोत्र का पाठ करें और प्रत्येक सोमवार को भगवान शिव को नीले फूल चढ़ाएं।
  • तांबे के बर्तन में गेहूं और गुड़ रखकर किसी नदी में प्रवाहित करने से आपकी सभी स्वास्थ्य समस्याएं दूर हो जाएंगी।
  • पक्षियों को खाना खिलाने से आपकी जन्म कुंडली में राहु के नकारात्मक प्रभाव को दूर करने में मदद मिल सकती है, जिससे आप शारीरिक रूप से मजबूत और स्वस्थ हो सकते हैं।

केतु ग्रह

जब केतु ग्रह, चंद्रमा का दक्षिणी नोड, आपके चार्ट में होता है, यदि यह नकारात्मक स्थिति में है, तो यह आपके शारीरिक स्वास्थ्य के लिए समस्या का कारण हो सकता है। आपके चार्ट में केतु की अशुभ व्यवस्था के कारण होने वाली कुछ सामान्य शारीरिक स्वास्थ्य समस्याएं शरीर में चोट, घाव, एलर्जी, अचानक बीमारी और आपके जोड़ों में कठिनाइयां हैं। अगर सही समय पर चिकित्सीय ज्योतिष उपायों से इलाज न किया जाए तो यह बिगड़ सकता है।

उपचार

  • केतु मंत्र ‘ओम केम केतवे नमः’ का प्रतिदिन 108 बार जाप करें।
  • मंगलवार के दिन जरूरतमंद और गरीब लोगों को भोजन और वस्त्र दान करें।
  • केतु ग्रह की नकारात्मक ऊर्जा से खुद को बचाने के लिए हर शनिवार को पीपल के पेड़ के नीचे घी का दीपक जला कर रखें।
  • प्रत्येक शनिवार को एक लोटे जल में थोड़ी सी कुशा और दूर्वा (राहु-केतु की पवित्र घास) डालकर पीपल की जड़ में चढ़ाएं।

स्वास्थ्य के लिए वास्तु उपाय

वास्तु के अनुसार अपना घर बनाने से परिवार के सदस्यों का कल्याण होता है। कभी-कभी, हम अपने घरों में छोटी-छोटी चीजों से बचते हैं, जो हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को खराब कर सकती हैं। तो, आइए ज्योतिष स्वास्थ्य समस्याओं में सुधार के लिए कुछ वास्तु उपायों या हिंदी में स्वास्थ्य समस्याओं के लिए ज्योतिषीय उपाय(Astrological remedies for health problems in hindi)की जानकारी प्राप्त करें।

अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए शयनकक्ष टिप्स

ये कुछ वास्तु शयनकक्ष यानि बेडरूम टिप्स हैं ताकि आपके बेडरूम का हर कोना वास्तु शास्त्र के अनुसार डिजाइन किया जा सके।

  • याद रखने वाली पहली बात यह है कि आपका मुख्य शयन कक्ष हमेशा दक्षिण-पश्चिम दिशा में बनाया जाना चाहिए।
  • अपने दर्पण को इस प्रकार रखने से बचें कि वह सीधे आपके बिस्तर के सामने हो ताकि जब आप उठें तो आप स्वयं को दर्पण में न देख सकें।
  • अपने शयनकक्ष में आहार संबंधी मूर्ति या पोस्टर रखने से बचें क्योंकि इससे घातक स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।
  • अपना बिस्तर दक्षिण-पश्चिम क्षेत्र में रखें और सोते समय आपका सिर हमेशा पूर्व या दक्षिण दिशा में होना चाहिए।

शारीरिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए रसोई टिप्स

अपनी रसोई बनाते समय सावधानी बरतने योग्य बातें। ये हिंदी में हेल्थ टिप्स(Health tips in hindi) और वास्तु टिप्स हैं जो स्वास्थ्य के लिए एक ज्योतिषीय उपाय के रूप में काम करते हैं।

  • महत्वपूर्ण स्वास्थ्य समस्याओं से बचने के लिए व्यक्ति को अपना रसोईघर हमेशा उत्तर-पश्चिम दिशा में बनाना चाहिए।
  • रात के समय बर्तनों को कभी भी बिना धोए न छोड़ें। जाने से पहले तय कर लें कि आपकी रसोई साफ सुथरी है।
  • माना जाता है कि रसोईघर की दक्षिण-पश्चिम दिशा में अनाज रखने से शारीरिक स्वास्थ्य अच्छा रहता है। यह भोजन की देवी के आशीर्वाद को आमंत्रित करने के लिए भी कहा जाता है, जो अच्छे स्वास्थ्य और सौभाग्य को बनाए रख सकता है।
  • स्लैब और खाना पकाने का स्टोव दक्षिण-पूर्व दिशा में रखा जाना चाहिए। हमेशा यह तय करें कि आपकी रसोई में सूर्य की रोशनी का प्रवेश द्वार हो।

स्वास्थ्य समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए सामान्य वास्तु टिप्स

यहां सरल और लाभकारी वास्तु उपाय दिए गए हैं जिनका पालन आपको अपने दैनिक जीवन में होने वाली छोटी-छोटी गलतियों से होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए करना चाहिए।

  • यदि आप वास्तु के अनुसार अपना घर बना रहे हैं तो आपको इसे उत्तर पूर्व के उत्तर और दक्षिण पूर्व के दक्षिण में बनाना चाहिए।
  • अपने घर में तुलसी का पौधा लगाना और उसकी प्रतिदिन पूजा करने से आप सभी रोगों से मुक्त रहते हैं।
  • अपने घर में रोजाना सुबह और शाम कपूर जलाने से वातावरण हानिकारक ऊर्जाओं से मुक्त होता है जो आपके स्वास्थ्य पर असर डाल सकती हैं।
  • अपने घर में टूटी हुई वस्तुएं, टूटे हुए शीशे या लीक हुए पाइप रखने से बचें। ये नकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करते हैं जो आपके शारीरिक स्वास्थ्य को खराब कर सकती हैं और आपको शारीरिक रूप से कमजोर और थका हुआ बना सकती हैं।

स्वास्थ्य के लिए लाल किताब के उपाय

यहां त्वचा रोग, पेट की समस्याओं और कई अन्य शारीरिक स्वास्थ्य समस्याओं के लिए कुछ आसान और प्रभावी लाल किताब टोटके दिए गए हैं। सुखी और स्वस्थ जीवन शैली जीने के लिए ये कुछ सरल उपाय हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सुझाए गए उपाय चिकित्सा उपचारों को प्रतिस्थापित करने के लिए नहीं हैं। वे केवल बाहरी कारक हैं जो तेजी से उपचार को बढ़ावा देते हैं।

  • शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार के लिए चांदी के आभूषण पहनना सबसे प्रभावी लाल किताब उपायों में से एक है। उदाहरण के लिए, आप अपनी तर्जनी पर चांदी की अंगूठी या अपने हार पर एक चेन पहन सकते हैं।
  • चूंकि मंगल ग्रह पेट से संबंधित है, इसलिए कमजोर मंगल वाले व्यक्तियों को पेट से संबंधित संक्रमण का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए, बहते पानी में रेवड़ी या बताशा प्रवाहित करना पेट की समस्याओं के लिए ज्योतिषीय उपचार के रूप में काम करता है।
  • शनिवार के दिन सरसों के तेल का दीपक जलाना और उसे शनिदेव को अर्पित करना त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए सबसे प्रभावी ज्योतिषीय उपाय हो सकता है।
  • रोज सुबह सूर्य देव को जल चढ़ाने और सूर्य बीज मंत्र का जाप करने से व्यक्तियों को हृदय रोगों से जल्दी ठीक होने में मदद मिल सकती है।

स्वास्थ्य के लिए राशि एवं रत्न संबंधी उपाय

सभी राशियों के बीच सबसे आम स्वास्थ्य स्थितियों को देखते हुए, हमें कुछ शानदार और प्रभावी रत्न मिले हैं जो चिकित्सा ज्योतिष उपचार के रूप में काम करते हैं। तो देखिए कि कौन सा रत्न आपके लिए सबसे उपयुक्त रहेगा।

मेष (21 मार्च – 19 अप्रैल)

मंगल ग्रह द्वारा शासित मेष राशि, क्रोधी होते है और वे आमतौर पर माइग्रेन और बार-बार होने वाले सिरदर्द से जूझते हैं। इन जातकों के लिए लाल मूंगा रत्न सर्वोत्तम रत्न है। वे इस रत्न को अपने प्रमुख हाथ की अनामिका ऊँगली में पहन सकते हैं।

वृषभ (20 अप्रैल – 20 मई)

गर्दन और गले से संबंधित, वृषभ राशि वालों को बार-बार गले में खराश और सर्दी होने का खतरा होता है, इसलिए नीलम पहनने की सलाह दी जाती है। वे इसे अपने दाहिने हाथ की मध्यमा उंगली में पहन सकते हैं।

मिथुन (21 मई – 20 जून)

मिथुन राशि के जातक आमतौर पर फेफड़ों और हृदय की समस्याओं से प्रभावित होते हैं, इसलिए इन जातकों के लिए एगेट पहनना सबसे अच्छा है। वे एगेट रत्न को अंगूठी या पेंडेंट के रूप में पहन सकते हैं।

कर्क (21 जून – 22 जुलाई)

लाल जैस्पर कर्क राशि वालों के लिए सबसे उपयुक्त रत्न है क्योंकि यह उनके त्रिक चक्रों को नियंत्रित करता है और उनके शरीर में रक्त के उचित प्रवाह में मदद करता है। इसे दाहिने हाथ में पहनने से कर्क राशि वालों को लाभ हो सकता है।

सिंह (23 जुलाई – 22 अगस्त)

सिंह राशि वालों की पेट की समस्याओं के लिए ज्योतिषीय उपाय या तो गोमेद या माणिक्य हैं। इन्हें दाहिने हाथ की अनामिका (पुरुषों के लिए) या बाएं हाथ (महिलाओं के लिए) में पहना जा सकता है।

कन्या (23 अगस्त – 22 सितंबर)

कन्या राशि वालों में पीठ और रीढ़ की समस्याएं सबसे आम लक्षण हैं, क्योंकि वे अपनी सीमा से परे जाकर ऐसे काम करते हैं जिससे उनके जोड़ों में दर्द होता है। इसलिए, वे अपनी हड्डियों में होने वाले गंभीर दर्द से राहत पाने के लिए कार्नेलियन या एवेंट्यूरिन रत्न पहन सकते हैं।

तुला (23 सितंबर – 22 अक्टूबर)

किडनी और त्वचा संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए तुला राशि वाले हीरा रत्न पहन सकते हैं। इन्हें शुक्ल पक्ष के प्रत्येक शुक्रवार को सूर्योदय के बाद धारण करना चाहिए।

वृश्चिक (23 अक्टूबर – 21 नवंबर)

एक्वामरीन रत्न में उपचार गुण होते हैं और मूत्राशय के संक्रमण को रोकने और हल करने के लिए ऊर्जावान सहायता प्रदान करने के लिए इसे हार के रूप में पहना जा सकता है।

धनु (22 नवंबर - 21 दिसंबर)

धनु राशि वालों के लिए पीली किस्म के नीलम के लिए सही उंगली पहली उंगली है, जो उनकी कमजोर आंखों और दृष्टि के लिए फायदेमंद है। वे पुखराज रत्न भी पहन सकते हैं, जिसे शुक्ल पक्ष के दौरान गुरुवार की सुबह पहनना चाहिए।

मकर (22 दिसंबर – 19 जनवरी)

मकर राशि के लिए आदर्श रत्न रॉबी या हेमेटाइट है, जो जोड़ों के दर्द को नियंत्रित करने के लिए फायदेमंद है।

कुंभ (20 जनवरी - 18 फरवरी)

कुंभ राशि वालों के लिए एक्वार्टज़ हार सबसे अच्छा उपाय है, जो उन्हें मांसपेशियों की ऐंठन के दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है। इस रत्न को रोजाना पहनने से लगातार और विश्वसनीय परिणाम मिल सकते हैं।

मीन (19 फरवरी - 20 मार्च)

मीन राशि के जातकों की प्रतिरक्षा प्रणाली आमतौर पर कमजोर होती है, जिसके कारण वे बार-बार बीमार पड़ते हैं। मीन राशि वालों के लिए छोटी-मोटी स्वास्थ्य स्थितियाँ भी गंभीर समस्या बन सकती हैं। इसलिए, उन्हें मजबूत, फिट और स्वस्थ रखने के लिए फ्लोराइट और एमेथिस्ट रत्न पहनना सबसे अच्छा है।

अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए ऊपर कुछ सरल चिकित्सा ज्योतिष उपाय दिए गए हैं। अधिक जानकारी के लिए, आप इंस्टाएस्ट्रो ज्योतिषियों से बात/चैट कर सकते हैं या हमारे ऐप का उपयोग करके परामर्श बुक कर सकते हैं। इसके अलावा, अधिक ज्योतिषीय सेवाओं के लिए हमारे ऑनलाइन स्टोर को देखें।

(अस्वीकरण: यह सलाह दी जाती है कि किसी व्यक्ति को स्वास्थ्य के लिए डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।)

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल-

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, विशेषज्ञ व्यक्तियों की कुंडली देखते हैं और बताते हैं कि व्यक्तियों को किन स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है या वे जूझ रहे हैं। हालांकि, हो सकता है कि वे स्थितियों का ठीक-ठीक नाम न बताएं लेकिन यह बता सकते हैं कि शरीर का कौन सा अंग प्रभावित हो सकता है।
कुछ प्रमुख ग्रह जो जन्म कुंडली में अच्छी स्थिति में नहीं होने पर स्वास्थ्य की स्थिति पैदा कर सकते हैं, वे हैं मंगल, शनि, राहु और केतु।
ज्योतिष में निश्चित रूप से स्वास्थ्य समस्याओं के लिए कुछ ज्योतिषीय उपाय हैं जिनका उपयोग चिकित्सा उपचार के साथ-साथ जातकों को तेजी से ठीक होने और फिट और स्वस्थ बनने में मदद के लिए किया जा सकता है।
वैदिक ज्योतिष के अनुसार, सभी ग्रहों का किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य पर कुछ प्रभाव पड़ता है, लेकिन समग्र स्वास्थ्य के लिए सूर्य, चंद्रमा और लग्न सबसे महत्वपूर्ण कारक हैं।
ज्योतिष में, छठा घर स्वास्थ्य से जुड़ा है और इस पर बुध ग्रह और कन्या राशि का शासन है।
एक प्रमुख ज्योतिषीय कारक जो व्यक्तिगत स्वास्थ्य को खराब कर सकता है वह है जन्म कुंडली में कमजोर ग्रह। यह ग्रह विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकते हैं जो व्यक्तियों के जीवन को बहुत प्रभावित करते हैं।

अपनी राशि चुनें

Karishma tanna image
close button

Karishma Tanna believes in InstaAstro

Urmila  image
close button

Urmila Matondkar Trusts InstaAstro