श्रवण नक्षत्र - दिव्य ज्ञान की खोज

श्रवण नक्षत्र को चंद्रमा का 22वां चंद्र स्टेशन या हवेली कहा जाता है। 'श्रवण' शब्द 'श्रव' से बना है, जिसका अर्थ है 'सुनना', और श्रवण का अर्थ है 'श्रोता'। इसलिए, यह दर्शाता है की श्रवण सीखने और ज्ञान प्राप्त करने का एक नक्षत्र है। प्राचीन काल में, मौखिक शिक्षा व्यापक थी, और श्रवण नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति आज भी उसी पद्धति का पालन करने का प्रयास करते हैं। वे देखने और लिखने से ज्यादा सुनकर सीखते हैं। एक अवधारणा यह भी है कि इस नक्षत्र का प्रतीक व्यक्ति के कान को बताया गया है। इस नक्षत्र के देवता 'भगवान विष्णु' हैं, और 'चंद्रमा' शासक ग्रह है। श्रवण नक्षत्र में तीन तारे होते हैं - अल्टेयर, अलशैन और ताराज़ेड जो वैदिक ज्योतिष में अक्विला नामक गरुड़ के सिर के आकार में रखे गए हैं।

लोगों का जन्म श्रवण नक्षत्र में तब होता है जब चंद्र की स्थिति मकर राशि में 10°00' से 23°20' के बीच होती है। यदि आप या आपका कोई जानने वाला मकर राशि का है, तो आपको उसके जीवन, करियर, विवाह, भाग्य और बहुत कुछ के बारे में जानने के लिए आगे पढ़ना चाहिए।

अब, instaastro.com पर अंग्रेजी और हिंदी में श्रवण नक्षत्र(Shravana nakshatra in hindi) के बारे में पढ़ें और इंस्टाएस्ट्रो ऐप पर व्यक्तिगत जानकारी प्राप्त करें।

श्रवण नक्षत्र में राशि और राशि चिन्ह

श्रवण नक्षत्र राशि, या राशि चिन्ह, मकर है। मकर राशि वालों को भगवान विष्णु से रक्षक होने का गुण प्राप्त होता है। वे दूसरों की परवाह करते हैं और जरूरतमंदों की मदद के लिए तैयार रहते हैं। ये बुद्धिमान होते हैं और तेज दिमाग वाले होते हैं। वे जानते हैं कि कठिन परिस्थितियों से कैसे निपटना है। इसमें बहुत धैर्य होता है और ये गुरु और पंडितों के प्रिय होते हैं। वे हमेशा इन संतों के माध्यम से उत्तर तलाशते हैं और स्पष्टता प्राप्त करते हैं। वे 20 के दशक की शुरुआत में कमाई करना शुरू करते हैं और स्वतंत्र हो जाते हैं। वे अपने काम को लेकर बहुत सतर्क रहते हैं, इसलिए इसमें कोई गलती नहीं होती है|

श्रवण नक्षत्र में जन्मे लोगों की समस्याओं के प्रति सहानुभूति रख सकते हैं क्योंकि उन्होंने अपने परिवार में प्रतिकूल परिस्थितियों को देखा होगा जब उन्हें मजबूत कार्य करने की आवश्यकता थी। उनके पास अच्छा संचार कौशल है, और लोग उनकी ईमानदारी और स्पष्टवादिता को पसंद करते हैं। इनका सेंस ऑफ ह्यूमर अच्छा होता है और ये अपने दोस्तों के चेहरों पर हंसी लाते हैं। वे समझदार हैं और जानते हैं कि कैसे जिम्मेदार होना है। वे किसी भी उम्र के लोगों से बात कर सकते हैं। ये बहुत महत्वाकांक्षी होते हैं और पढ़ाई के दौरान परेशान होना पसंद नहीं करते। वे देवी सरस्वती के नक्षत्र में पैदा हुए हैं और उन्हें प्रचुर मात्रा में ज्ञान, शिक्षा, बुद्धि और दिमागीपन का आशीर्वाद प्राप्त है। श्रवण नक्षत्र में उनकी उपस्थिति के कारण उनका झुकाव संगीत और नृत्य की ओर भी है, क्योंकि यह देवी सरस्वती का जन्म नक्षत्र है। हिंदी में श्रवण नक्षत्र(Shravana nakshatra in hindi) की संपूर्ण जानकारी के लिए लेख को पढ़ना जारी रखें।

सटीक भविष्यवाणी के लिए कॉल या चैट के माध्यम से ज्योतिषी से जुड़ें

श्रवण नक्षत्र की विशेषताएं और उनके लिए जिम्मेदार विशेषता

नक्षत्रनक्षत्र
श्रवण नक्षत्र का स्वामी ग्रहचांद
श्रवण नक्षत्र के देवताभगवान विष्णु
श्रवण नक्षत्र की राशिमकर राशि
श्रवण नक्षत्र में लिंगपुरुष
श्रवण नक्षत्र का गुणराजाओं
श्रवण नक्षत्र में गणदेवता
श्रवण नक्षत्र के तत्तव और तत्ववायु
श्रवण नक्षत्र की योनीबंदर
श्रवण नक्षत्र के पशु या पक्षीमादा बंदर और फ्रेंकोलिन
श्रवण नक्षत्र का भाग्यशाली रंगनीला
श्रवण नक्षत्र की भाग्यशाली संख्या2 और 22
श्रवण नक्षत्र में भाग्यशाली पत्थरपर्ल (मोती स्टोन)
श्रवण नक्षत्र में अक्षरK और J

श्रवण नक्षत्र 2023 की महत्वपूर्ण तिथियां

  • 22 जनवरी 2023, रविवार।
  • 18 फरवरी 2023, शनिवार।
  • 18 मार्च 2023, शनिवार।
  • 14 अप्रैल , 2023, शुक्रवार।
  • 11 मई 2023, गुरुवार।
  • 7 जून 2023, बुधवार।
  • 5 जुलाई 2023, बुधवार।
  • 1 अगस्त 2023, मंगलवार।
  • 29 अगस्त 2023, मंगलवार।
  • 25 सितंबर 2023, सोमवार।
  • 22 अक्टूबर 2023, रविवार।
  • 19 नवम्बर 2023, रविवार।
  • 16 दिसंबर 2023, शनिवार।

श्रवण नक्षत्र पद

किसी व्यक्ति के जीवन, करियर, विवाह, व्यवहार और विशेषताओं के बारे में बेहतर जानकारी के लिए प्रत्येक नक्षत्र को चार भागों में बांटा गया है। आइए हम श्रवण नक्षत्र के चार भागों को देखें।

  1. श्रवण नक्षत्र का चरण 1: मंगल इस पद का स्वामी है और इस पद में पैदा हुए लोगों को महत्वाकांक्षी, केंद्रित, आत्म-निर्भर बताया गया है। यह असाधारण तार्किक क्षमता रखते है और लोगों को प्रभावित करते है। इस पद के जातक मेष नवमांश के अंतर्गत आते हैं और लक्ष्य केंद्रित होते हैं। अगर इनके लक्ष्य या उद्देश्य पूरे नहीं होते हैं तो ये जल्द ही चिढ़ जाते हैं।
  2. श्रवण नक्षत्र चरण 2: शुक्र इस पद का स्वामी है, और यह इसमें पैदा हुए लोगों के लिए कूटनीति लाता है। इस पद में जन्में लोग सभी को पसंद आते हैं क्योंकि वे हमेशा तटस्थ रहते हैं। वे किसी का पक्ष नहीं लेते। इस पद के जातक वृष नवमांश के अंतर्गत आते हैं और काम में डूबे रहने वाले होते हैं। ये बोलने में विनम्र होते हैं और अपने काम को गंभीरता से लेते हैं। श्रवण नक्षत्र में सूर्य इस पद के जातकों को संगीत उद्योग की ओर आकर्षित करता है।
  3. श्रवण नक्षत्र का चरण 3: इस पद का स्वामी बुध है, और यह इसमें जन्म लेने वाले जातकों को ज्ञान प्राप्त करने और अच्छा सुनने की क्षमता का भविष्यफल प्रदान करता है। बुद्ध के पास अच्छा संचार कौशल होता है। इस पद के मूल निवासी मिथुन नवमांश के अंतर्गत आते हैं और श्रवण नक्षत्र के लोगों को प्यार, करियर और संघ बनाने के मामले में सर्वश्रेष्ठ बनाते हैं।
  4. श्रवण नक्षत्र का चरण 4: इस पद का स्वामी चंद्रमा है, और यह इस नक्षत्र में पैदा हुए लोगों के लिए सहानुभूतिपूर्ण और मैत्रीपूर्ण स्वभाव लाता है। इस पद में पैदा हुए लोग चतुर और गलती को आसानी से पकड़ने में माहिर होते है। इस पद के मूल निवासी कर्क नवमांश के अंतर्गत आते हैं और अच्छे श्रोता होते हैं, जो श्रवण नक्षत्र की मुख्य विशेषता है।

श्रवण नक्षत्र में जन्में लोगों की ताकत और कमजोरियां

आइए हम श्रवण नक्षत्र के सकारात्मक और नकारात्मक व्यक्तित्व लक्षणों को देखें।

ताकत

श्रवण नक्षत्र का मान यह है कि श्रवण नक्षत्र की मकर राशि वाले लोग ईमानदार और पवित्र आत्मा होते हैं। वे अंदर और बाहर से एक जैसे होते है, उनमें कोई बनावट नहीं होती। लेकिन संदिग्ध लोगों से अपना बचाव करना जानते है। उनके करीबी लोग या जिनके साथ वे अच्छी तरह से बातचीत करते हैं, वे केवल उनके मज़ेदार पक्ष को देख सकते हैं। उनका हास्य अक्सर व्यंग्यात्मक होता है और चुटकुलों को समझने के लिए दिमाग की आवश्यकता होती है। उनके अच्छे दिल और दूसरों की देखभील करने के तरीके को लेकर के हर कोई उन्हें पसंद करता है। वे सामाजिक कार्यों में भाग लेना भी पसंद करते हैं, जैसे वंचित बच्चों को पढ़ाना। वे धूर्त होते हैं और जहां भी आवश्यक हो अपेक्षित परिणाम तक पहुंचने के लिए अपना पूरा प्रयास करते हैं। वे पहले से योजना बनाकर रखते हैं क्योंकि वे अधिक से अधिक समय बचाना चाहते हैं। एक रोडमैप होने से उन्हें कम मेहनत में काम पूरा करने में मदद मिलती है। वे बचाए गए समय का उपयोग दोस्तों और परिवार के साथ करते हैं। वे स्मार्ट वर्क की अवधारणा को जानते हैं। वे ईश्वर सर्वशक्तिमान में विश्वास करते हैं और हर धर्म का सम्मान करते हैं, उनके दिमाग में एक परिभाषित तर्क होता है। वे सच बोलते हैं, अपने परिवार के ज्योतिषियों पर विश्वास करते हैं, और उनकी छाया में आध्यात्मिक मार्ग तलाशते हैं और आध्यात्मिक पुस्तकें पढ़ते है। श्रवण नक्षत्र में बुध इन्हें अच्छा वक्ता बनाता है।

कमजोरियों

वे तेज दिमाग वाले और बुद्धिमान होते हैं लेकिन अक्सर अपनी महत्वाकांक्षाओं को बहुत गंभीरता से लेते हैं। बहुत जल्दी मिली मान्यता और प्रशंसा उनके सिर पर चढ़ सकती है और उन्हें आधिकारिक बना सकती है। श्रवण नक्षत्र में राहु उनकी मजबूत राय के बारे में बताता है, जिसे बदलना मुश्किल होगा। इसके कारण, वे अक्सर शत्रुओं का और न चाहने वाली स्थितियों का ध्यान आकर्षित करते हैं। अपने दूरदर्शी स्वभाव के कारण, उन्हें वित्तीय पहलुओं और नैतिक मानकों पर संतुष्ट करने वाले कार्यों की खोज करना कठिन हो सकता है। हो सकता है कि उन्हें अपने सपनों की नौकरी न मिले और जितनी सफलता वे हासिल करना चाहते हैं। उन्हें कम पर समझौता करना पड़ सकता है, जो उन्हें निराश कर सकता है और दूसरों के साथ उनके रिश्ते को बाधित कर सकता है। वे सफल लोगों के प्रति ईर्ष्या और घृणा पैदा कर सकते हैं। वे आगे नकारात्मक हो सकते हैं और अपने करीबी दोस्तों पर भी विश्वास करना बंद कर सकते हैं। उनके पास जो कुछ भी है उसके लिए आभारी महसूस करना उनके लिए महत्वपूर्ण है। श्रवण नक्षत्र का दोष यह है कि इस नक्षत्र के जातक हमेशा अपने घमंड़ में रहना पसंद करते है। उन्हें खामियों के साथ भी दूसरों में अच्छाई देखने का अभ्यास करना चाहिए, ताकि कठिन परिस्थिति का सामना करने पर वे शांत और स्थिर रह सकें।

श्रवण नक्षत्र पुरुष लक्षण

श्रवण नक्षत्र पुरुष की शारीरिक विशेषताएं:

श्रवण नक्षत्र के पुरुष जातक आकर्षक होते हैं। इनका कद छोटा होता है और इनके चेहरे पर संभवतः तिल के रूप में कोई निशान या चिन्ह होता है। कुछ जातकों के कंधों के पास काला तिल भी देखा जाता है।

श्रवण नक्षत्र पुरुष का व्यक्तित्व और विशेषताएं:

श्रवण नक्षत्र के पुरुष, मूल निवासी जीवन में व्यवस्थित होते हैं। वे पहले से योजनाएँ बनाते हैं। खा़सकर काम के उद्देश्यों के लिए, इसलिए अंतिम समय पर कोई बोझ नहीं होता है। श्रवण नक्षत्र में केतु उन्हें विनम्र और मृदुभाषी बनाता है। उनके पास नैतिक मूल्यों का एक समूह है जिसका वे धार्मिक रूप से पालन करते हैं। ये मददगार स्वभाव के होते हैं और बदले में कुछ भी उम्मीद नहीं करते हैं। लेकिन उनकी अच्छाई की वजह से उनका शोषण होता है और उन्हें मूर्ख भी बनाया जाता है। जब वे किसी पर विश्वास करते हैं तो वे अपने बूरे पक्ष को दबा देते हैं। वे भगवान में विश्वास करते हैं और एक गुरु या पारिवारिक पंडित का अनुसरण करते हैं। वे जीवन में कई कठिनाइयों से गुजरते हैं और अपना आधा जीवन एक मध्यमवर्गीय व्यक्ति के रूप में व्यतीत करते हैं। लेकिन बाद में, वे नई चीजें सीख सकते हैं और समाज में बेहतर स्तर प्राप्त कर सकते हैं।

.श्रवण नक्षत्र वाले पुरुष का करियर:

श्रवण पुरुष जातकों को अपने करियर में काफी संघर्षों का सामना करना पड़ता है और वे 35 वर्ष की आयु तक नौकरी बदलते रहते हैं। वे 45 वर्ष की आयु के बाद ही एक स्थिर करियर पाते हैं। रसायन विज्ञान और पेट्रोलियम और तेल इंजीनियरिंग उनके लिए उपयुक्त और धन पैदा करने वाले करियर हैं।

श्रवण नक्षत्र वाले पुरूष की धन सूची:

इस नक्षत्र के पुरुष जातकों के पास अस्थिर धन होता है क्योंकि उनके पास विस्तारित अवधि के लिए एक आशाजनक कैरियर नहीं हो सकता है। इसके अलावा, कोई पीढ़ीगत संपत्ति नहीं है जो उनकी स्थिति में सुधार कर सके। उनकी बचत उन्हें जीवित रहने में मदद करेगी।

श्रवण नक्षत्र पुरुष का वैवाहिक जीवन:

पुरुष जातकों का वैवाहिक जीवन अच्छा होता है। उनकी पत्नियां बहुत केयरिंग होती हैं और एक परफेक्शनिस्ट की तरह घर का प्रबंधन करती हैं। हालाँकि उनकी पत्नियाँ प्यारी हैं और पुरुष जातकों को यौन संतुष्टि प्रदान करती हैं, लेकिन उनके विवाहेतर संबंधों में लिप्त होने या घर के बाहर किसी महिला का ध्यान आकर्षित करने की संभावना होती है। श्रवण नक्षत्र विवाह सफल रहेगा।

श्रवण नक्षत्र पुरू्ष की अनुकूलता:

श्रवण नक्षत्र पुरुष जातक के काम और निजी जीवन को समान समय देते हैं। उनके जीवन साथी अपने व्यस्त जीवन के बावजूद अपनो पार्टनर पर ज्यादा ध्यान देते हैं और उनसे प्यार करते हैं। उनके पास अश्विनी नक्षत्र मूल निवासी, वृष राशि में कृतिका नक्षत्र मूल निवासी, पुष्य नक्षत्र मूल निवासी, उत्तरा-भाद्रपद नक्षत्र मूल निवासी और मकर राशि में धनिष्ठ मूल निवासी के साथ अच्छी संगती का उच्च अवसर है।

श्रवण नक्षत्र के पुरूष का स्वास्थ्य:

श्रवण नक्षत्र के पुरुष जातकों को स्वास्थ्य में समस्याओं का सामना करना देखा गया है। उन्हें त्वचा विकार, तपेदिक, कान और पाचन तंत्र में समस्याएं हैं। अपनी त्वचा की जांच कराने के लिए उन्हें त्वचा विशेषज्ञ से बार-बार चेक-अप करवाना चाहिए।

श्रवण नक्षत्र स्त्री लक्षण

श्रवण नक्षत्र महिलाओं की शारीरिक विशेषताएं:

श्रवण नक्षत्र की महिला का शरीर पतला और बहुत लंबा होता है। उसका चौड़ा सिर और बड़ा चेहरा होता है। उसके बड़े दांत भी हैं जिनके सामने एक गैप है और एक बड़ी नाक है।

श्रवण नक्षत्र स्त्री का व्यक्तित्व और विशेषताएं:

श्रवण नक्षत्र की महिला जातक उदार, अच्छे दिल वाली मंदिरों, सहायता-संगठनों और अनाथालयों में समाज के वंचित वर्ग के लिए दान के लिए हमेशा तैयार रहती हैं। ये अक्सर समय-समय पर मानवतावादी और सामाजिक कार्यों में शामिल होते हैं, लेकिन समाज में इसके बारे में शेखी बघारना इन्हें अच्छा लगता है। वे एक नेक काम में मदद कर लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचना चाहती हैं। वे बहुत गपशप करते हैं और कोई राज़ नहीं रख सकते, खासकर अपने जीवन साथी से। उनके पास आकर्षक व्यक्तित्व हैं और बहुत से पुरुषों का ध्यान आकर्षित करते हैं। जो विवाहित हैं वे अपने पति के प्रति वफादार होती हैं और ऐसे मुठभेड़ों पर कभी ध्यान नहीं देती हैं। वे बहुत बुद्धिमान होते हैं और उनके पास बहुत सारे विचार और योजनाएँ होती हैं लेकिन कुछ शत्रुओं के कारण वे उन पर अमल नहीं कर पाते हैं।

श्रवण नक्षत्र की महिलाओं का करियर:

श्रवण नक्षत्र महिला जातकों का झुकाव धार्मिक कार्यों की ओर होता है और वे पेशेवर रूप से स्थानों की यात्रा करती रहती हैं। वे अच्छे डांसर भी हैं और बहुत सी कलाोओं से प्रेरित हैं और इसलिए इस करियर क्षेत्र को आगे बढ़ा सकते हैं। लेकिन इस नक्षत्र की अधिकांश महिलाएँ कम पढ़ी-लिखी होती हैं और 20 साल की उम्र में शादी कर लेती हैं और गृहिणी बन जाती हैं। यदि वे एक रूढ़िवादी परिवार से नहीं हैं, तो उनका 26 वर्ष की आयु के बाद फलता-फूलता करियर होगा।

श्रवण नक्षत्र की महिलाओं का धन योग:

इस नक्षत्र की महिला, मूल निवासी अगर काम करने की अनुमति देती हैं तो वे धन सींचती हैं। वे एक डांसर के रूप में अपने पेशेवर करियर से बहुत पैसा कमा सकते हैं। नाम और प्रसिद्धि प्राप्त कर सकते हैं। आमतौर पर, वे धन के पहलू के लिए कमोबेश पुरुष जातकों पर निर्भर होती हैं।

श्रवण नक्षत्र महिलाओं का वैवाहिक जीवन:

श्रवण नक्षत्र की महिला जातक अपने महान वैवाहिक जीवन के लिए जिम्मेदार होती हैं। ये घर और परिवार को बखूबी संभालती हैं। हालाँकि, उनके पति, जिनसे वे भक्तिपूर्वक प्यार करती हैं, पूर्ण नहीं हैं और बाहर की महिलाओं के साथ जुड़ सकते हैं।

श्रवण नक्षत्र महिलाओं की अनुकूलता:

श्रवण नक्षत्र की महिलाएं अपने परिवार के सदस्यों को खुश रखती हैं। न केवल उनके पति बल्कि परिवार के बाकी सभी लोग, रिश्तेदारों सहित, उनके सफल गृह प्रबंधन के लिए उनकी पूजा करते हैं।
श्रवण नक्षत्र की महिला जातकों को चित्रा नक्षत्र, तुला राशि में विशाखा नक्षत्र, मीन राशि में पूर्वा-भाद्रपद नक्षत्र और रेवती नक्षत्र के साथ अपना सर्वश्रेष्ठ मेल मिलता है।

श्रवण नक्षत्र की महिलाओं का स्वास्थ्य:

श्रवण नक्षत्र की महिला जातकों को अपनी त्वचा की बहुत देखभाल करनी पड़ती है। एक्जिमा और कुष्ठ रोग जैसे त्वचा विकार होने की संभावना इन्हें ज्यादा होता है। उन्हें क्षय रोग होने का भी खतरा रहता है।

श्रवण नक्षत्र के प्रमुख व्यक्तित्व

श्रवण नक्षत्र के अनुसार नाम की जन्म लेने वाली कई प्रसिद्ध हस्तियां हैं। आइए एक-एक करके इनके बारे में जानते हैं।

  1. करीना कपूर: करीना कपूर भारतीय सिनेमा की सबसे लोकप्रिय अभिनेत्रियों में से एक हैं। उन्हें फिल्म इंडस्ट्री में बिना रुके काम करते हुए 20 साल से ज्यादा हो गए हैं।
  2. मनीषा कोइराला: मनीषा कोइराला एक भारतीय अभिनेत्री हैं, जिन्होंने न केवल हिंदी फिल्मों में बल्कि क्षेत्रीय सिनेमा में भी काम किया। उन्हें उनके अभिनय प्रदर्शन के लिए समीक्षकों द्वारा सराहा गया है।
  3. ब्रूस विलिस: स विलिस एक अमेरिकी अभिनेता हैं। वह फिल्मों से रिटायर हो चुके हैं। उन्होंने 100 से अधिक फिल्मों में काम किया है और मूनलाइटिंग नामक कॉमेडी शो से पहचान हासिल की है। वह अपनी एक्शन फिल्मों के लिए भी जाने जाते हैं।
  4. मुहम्मद अली: मुहम्मद अली को प्रसिद्ध रूप से महानतम कहा जाता है और वह अमेरिका के प्रसिद्ध खेल हस्तियों में से एक थे। वह एक मुक्केबाज और कार्यकर्ता थे। 3 जून 2016 को उनका निधन हो गया।
  5. हेनरी फोर्ड: हेनरी फोर्ड, फोर्ड मोटर कंपनी के संस्थापक थे। वह एक अमेरिकी व्यवसायी थे। 7 अप्रैल 1947 को उनका निधन हो गया।

श्रवण नक्षत्र में विभिन्न ग्रह

किसी व्यक्ति के जीवन के महान लोगों को प्रभावित करने के लिए ग्रह की स्थिति आ सकती है। श्रवण नक्षत्र में स्थित विभिन्न ग्रहों के प्रभावों पर एक नजर डालते हैं। ये इस प्रकार हैं:

  • श्रवण नक्षत्र में शुक्र : व्यक्ति को काफी भावहीन बना देता है। व्यक्ति अपनी भावनाओं को दूसरों को दिखाने के लिए प्रवृत्त नहीं होता है। इसके अलावा, जातक स्वभाव से थोड़ा सख्त भी होता है।
  • श्रवण नक्षत्र में बृहस्पति : व्यक्ति को प्रकृति में आध्यात्मिक रूप से काफी इच्छुक बनाता है। इसके अलावा, व्यक्ति बहुत रचनात्मक भी होता है।
  • श्रवण नक्षत्र में राहु : व्यक्ति का स्वभाव से बहुत भयानक बना देता है। हालांकि मूल निवासी शांतिपूर्ण मानसिकता रखने की कोशिश करेंगे।
  • श्रवण नक्षत्र में मंगल : जातक को बहुत धैर्यवान बनाता है। इसके अलावा, व्यक्ति भी बहुत लक्ष्य उन्मुख व्यक्ति बन जाते हैं।
  • श्रवण नक्षत्र में सूर्य : व्यक्ति को स्वभाव से काफी व्यावहारिक बनाता है। इसके अलावा, व्यक्तियों को भी बहुत संगठित और उचित होने के लिए जाना जाता है।
  • श्रवण नक्षत्र में चंद्रमा : व्यक्ति को स्वभाव से बहुत बेचैन करने वाला होता है। साथ ही यह जातक काफी चतुर भी होते हैं।
  • श्रवण नक्षत्र में बुध : एक व्यक्ति के गुणों को बनाता है जिसमें उन्हें एक विद्वान व्यक्ति के रूप में शामिल किया जाता है। हालांकि, वे संचार करने में बहुत धीमी गति से आएंगे।
  • श्रवण नक्षत्र में शनि : व्यक्ति को स्वभाव से काफी व्यावहारिक बनाता है। इसके अलावा, व्यक्ति अपने लक्ष्यों पर केंद्रित होते हैं और उन्हें प्राप्त करने के लिए कुछ भी और सब कुछ करेंगे। श्रवण नक्षत्र में शनि का फल लाभकारी होता है।
  • श्रवण नक्षत्र में केतु : व्यक्ति को महान सहज ज्ञान युक्त शक्तियां प्रदान करता है। इसके अलावा, वे ध्यान में निपुण होने के लिए भी आते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल-

श्रवण नक्षत्र में सुनने और सुनाने की कला के माध्यम से ज्ञान और शिक्षा प्राप्त करने की अवधारणा शामिल है।
श्रवण नक्षत्र देवी सरस्वती का जन्म नक्षत्र है। वह ज्ञान की देवी हैं। यह श्रवण नक्षत्र जातक को बुद्धि और शिक्षा प्रदान करता है।
श्रवण नक्षत्र चिन्ह राशि और राशि मकर है। लोगों का जन्म श्रवण नक्षत्र में तब होता है जब चंद्रमा 10°00' मकर और 23°20' मकर राशि के बीच होता है।
श्रवण नक्षत्र पुरुष, मूल निवासी के पास अश्विनी नक्षत्र मूल निवासी, वृष राशि में कृतिका नक्षत्र मूल निवासी, पुष्य नक्षत्र मूल निवासी, उत्तरा-भाद्रपद नक्षत्र मूल निवासी और मकर राशि में धनिष्ठ मूल निवासी के साथ अच्छी संगती का उच्च अवसर है। श्रवण नक्षत्र की महिला जातकों को चित्रा नक्षत्र, तुला राशि में विशाखा नक्षत्र, मीन राशि में पूर्वा-भाद्रपद नक्षत्र और रेवती नक्षत्र के साथ अपना सर्वश्रेष्ठ मेल मिलता है।
श्रवण नक्षत्र, उतार-चढ़ाव का सामना करने के बावजूद शांतिपूर्ण जीवन व्यतीत करेगा। उनकी बिना रुके कड़ी मेहनत उन्हें बाद के जीवन में एक स्थिर और सफल करियर की ओर ले जाएगी। इसके अलावा, देवी सरस्वती के प्रभाव में जातक को बुद्धि, ज्ञान और शिक्षा प्राप्त होती है।
श्रवण नक्षत्र का भाग्यशाली रत्न मोती (MOTI STONE) है। श्रवण नक्षत्र का शुभ अंक 2 और 22 है। श्रवण नक्षत्र का शुभ रंग नीला है। श्रवण नक्षत्र के भाग्यशाली अक्षर K और J हैं।
Karishma tanna image
close button

Karishma Tanna believes in InstaAstro

Karishma tanna image
close button

Urmila Matondkar Trusts InstaAstro