पुनर्वसु नक्षत्र अवलोकन

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, 27 नक्षत्र और पुनर्वसु नक्षत्र क्रम में 7वां होता है। पुनर्वसु शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है। पहला है पुनर और दूसरा है वसु। पुनर का अर्थ है पुनः, या वापसी/पुनरावृत्ति और वसु का अर्थ है प्रकाश की किरण।

इस प्रकार, संयुक्त रूप से पुनर्वसु शब्द का अर्थ प्रकाश की वापसी या फिर से प्रकाश बनना है। पुनर्वसु नक्षत्र को पुनर्पूसम नटचथिरम और पुनर्थम नक्षत्र के नाम से भी जाना जाता है। पुनर्वसु नक्षत्र स्वामी (Punarvasu nakshatra swami)ग्रह बृहस्पति है।

पुनर्वसु नक्षत्र दिनांक 2024

हिंदी में पुनर्वसु नक्षत्र (Punarvasu nakshatra in hindi)2024 की कुछ महत्वपूर्ण तिथियाँ इस प्रकार हैं।

तारीखसमय शुरूअंत समय
बुधवार, 24 जनवरी 202406:28 सुबह , 24 जनवरी08:11 सुबह, 25 जनवरी
मंगलवार, 20 फरवरी 202412:17 रात, 20 फरवरी02:13 दोपहर, 21 फरवरी
सोमवार, 18 मार्च 202406:13 शाम, 18 मार्च08:07 रात, 19 मार्च
सोमवार, 15 अप्रैल 202401:37 दोपहर, 15 अप्रैल03:02 सुबह, 16 अप्रैल
रविवार, 12 मई 202410:29 सुबह, 12 मई11:21 सुबह, 13 मई
शनिवार, 8 जून 202407:44 शाम, 08 जून08:18 शाम, 09 जून
शनिवार, 6 जुलाई 202404:08 सुबह, 06 जुलाई04:45 सुबह, 07 जुलाई
शुक्रवार, 2 अगस्त 202411:02 सुबह, 02 अगस्त11:55 सुबह, 03 अगस्त
गुरुवार, 29 अगस्त 202404:41 शाम, 29 अगस्त05:54 शाम, 30 अगस्त
बुधवार, 25 सितंबर 202410:25 रात, 25 सितंबर11:31 रात, 26 सितंबर
बुधवार, 25 सितंबर 202410:25 रात, 25 सितंबर11:31 रात, 26 सितंबर
मंगलवार, 19 नवंबर 202402:59 दोपहर, 19 नवंबर02:47 दोपहर, 20 नवंबर
मंगलवार, 17 दिसंबर 202401:15 दोपहर, 17 दिसंबर12:41 रात, 18 दिसंबर

सटीक भविष्यवाणी के लिए कॉल या चैट के माध्यम से ज्योतिषी से जुड़ें

पुनर्वसु नक्षत्र की महत्वपूर्ण विशेषताएँ

हिंदी में पुनर्वसु नक्षत्र (Punarvasu nakshatra in hindi)के कुछ महत्वपूर्ण पहलुओं में शामिल हैं:-

पहलूविशेषताएँ
पुनर्वसु नक्षत्र स्वामी ग्रहबृहस्पति
पुनर्वसु नक्षत्र शुभ अंक7
पुनर्वसु नक्षत्र राशिमिथुन और कर्क
पुनर्वसु नक्षत्र राशि चिन्हमिथुन और कर्क
पुनर्वसु नक्षत्र शुभ रंगसीसा या स्टील ग्रे
पुनर्वसु नक्षत्र स्वामीअदिति
पुनर्वसु नक्षत्र रत्नपीला नीलम
पुनर्वसु नक्षत्र चिन्हतीर
पुनर्वसु नक्षत्र वृक्षबांस
पुनर्वसु नक्षत्र पशुबिल्ली
पुनर्वसु नक्षत्र गुणरजस/सत्व
पुनर्वसु नक्षत्र गणदेवता
पुनर्वसु नक्षत्र दोषवात
पुनर्वसु नक्षत्र तत्वपानी

पुनर्वसु नक्षत्र राशि चिन्ह

आइए पुनर्थम नक्षत्र हिंदी (Punarvasu nakshatra hindi)में उसकी राशि के बारे में गहराई से जानें। इस नक्षत्र में लोगों का जन्म तब होता है जब चंद्रमा की स्थिति मिथुन राशि के 20 डिग्री से कर्क के भीतर 3'20 डिग्री के बीच होती है, जो इस नक्षत्र की सीमा है। पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र राशि या राशि चक्र, जैसा कि पहले ही उल्लेख किया गया है, कर्क और मिथुन हैं और पुनर्वसु नक्षत्र स्वामी (Punarvasu nakshatra swami) बृहस्पति है।

इस नक्षत्र के बारे में एक और दिलचस्प तथ्य यह है कि इस नक्षत्र से जुड़े तारे कैस्टर और पोलक्स हैं। जेमिनी तारामंडल में पोलक्स सबसे चमकीला तारा है, इसके बाद कैस्टर दूसरे स्थान पर है।

चूँकि भगवान राम का जन्म इसी नक्षत्र में हुआ था, इसलिए कहा जाता है कि जातकों में उनसे संबंधित गुण हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, जातक का परिवार बहुत बड़ा हो सकता है और उन्हें अपने परिवार से गहरा प्रेम होगा और वे अपने परिवार की भलाई और खुशी के लिए कुछ भी त्याग करने को तैयार होंगे।

पुनर्वसु नक्षत्र लक्षण: पुरुष

यहां पुनर्वसु नक्षत्र हिंदी(Punarvasu nakshatra hindi)में पुरुष जातकों की विस्तृत विशेषताएं और व्यवहार दिया गया है:

भौतिक उपस्थिति

पुनर्वसु नक्षत्र के पुरुष में बहुत विशिष्ट विशेषताएं होंगी। वे बहुत आकर्षक और गोरे रंग के होंगे। कुछ मामलों में जातक का रंग गेहुंआ भी हो सकता है। पुनर्वसु नक्षत्र के पुरुष लक्षणों में उनके चेहरे या पीठ पर जन्म चिह्न या तिल होना भी शामिल है। इसके अलावा, जातक काफी लंबा होगा और उसकी जांघें लंबी होगी। लम्बा चेहरा होना भी जातक की विशेषताओं में से एक है।

करियर

आइए पुनर्वसु नक्षत्र करियर पर नजर डालें। महत्वपूर्ण निर्णय लेते समय जातक को बहुत सावधान रहना होगा। कुछ ग्रहों की स्थिति के कारण जातक गलत निर्णय ले सकते हैं। हालांकि, जब जातक 32 वर्ष का हो जाएगा, तो सितारे उसके पक्ष में होंगे।

पेशे की दृष्टि से जातक सेवा क्षेत्र में काम करने के लिए सबसे उपयुक्त होता है। साझेदारी व्यवसाय जातक के लिए अच्छा फैसला नहीं होगा क्योंकि साझेदारों के बीच टकराव की संभावना अधिक होती है और इससे व्यवसाय में नुकसान हो सकता है। इसके अलावा, चूंकि जातक बहुत मेहनती होता है, इसलिए वह जिस भी क्षेत्र में जाता है, उसमें सफलता निश्चित होती है।

व्यक्तित्व और व्यवहार

इस नक्षत्र के जातक बहुत दयालु और उदार स्वभाव के होते हैं। वे आध्यात्मिक रुझान के लिए भी आते हैं। इसके अलावा, जातकों को समझना थोड़ा कठिन हो सकता है क्योंकि कभी-कभी वे ऐसे काम कर सकते हैं जो उनके स्वभाव के विपरीत हों। इससे उनकी जटिलता बढ़ जाएगी और लोगों को उन्हें समझने में कठिनाई होगी।

जीवन के बाद के चरणों में, जातकों की सफलता के कारण, वे अहंकारी हो सकते हैं और अपने जूनियर्स के प्रति दुष्ट हो सकते हैं। साथ ही, अवैध गतिविधियां उनको नुकसान पंहुचा सकती हैं। वह उनमें शामिल नहीं होंगे और किसी और को भी ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित नहीं करेंगे।

परिवार, प्यार और शादी

परिवार के मामले में जातकों का अपने परिवार के साथ अच्छा संबंध रहेगा। वह अपने परिवार से बहुत प्यार करेगा और उन्हें खुश करने के लिए हर संभव कोशिश करेगा। इस बात की संभावना है कि जातक को अपने चचेरे भाइयों के साथ वास्तव में अच्छा व्यवहार मिलेगा और जरूरत के समय ये चचेरे भाई उसके सहारा बनेंगे।

दूसरी ओर, पुनर्वसु नक्षत्र वाले पुरुष का वैवाहिक जीवन उतना अच्छा नहीं रहेगा। पुनर्वसु नक्षत्र विवाह अनुकूलता के अनुसार जातकों और उनके जीवनसाथी के बीच काफी वाद-विवाद और झगड़े होंगे। इससे अलगाव या तलाक की नौबत भी आ सकती है। पुनर्वसु नक्षत्र विवाह अनुकूलता बहुत अच्छी नहीं होगी। इसके अलावा, पुनर्वसु नक्षत्र में वैवाहिक जीवन में लगातार होने वाली बहस और झगड़ों से जातक के स्वास्थ्य को नुकसान होगा और उन्हें इलाज भी कराना पड़ सकता है।

स्वास्थ्य

जातक को जीवन में मानसिक शांति नहीं मिलेगी, जिसके कारण उसे लगातार मानसिक आघात झेलना पड़ेगा। जातकों के डिप्रेशन से गुजरने की संभावना अधिक रहती है। बुढ़ापे में उन्हें मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी शारीरिक समस्याओं का भी अनुभव होगा।

पुनर्वसु नक्षत्र लक्षण: स्त्री

यहां पुनर्वसु नक्षत्र की महिला जातकों की विस्तृत विशेषताएं और व्यवहार दिया गया है:

भौतिक उपस्थिति

पुनर्वसु नक्षत्र में जन्मी स्त्रियां दिखने में औसत लेकिन कुछ बहुत सुंदर नैन-नक्श वाली होगी। पुनर्वसु नक्षत्र की स्त्री विशेषताओं में उसकी चमकदार लाल आँखें भी शामिल होंगी। उनके घुंघराले बाल और तीखी, ऊँची नाक भी होगी। इसके अलावा जातक की आवाज मधुर होगी।

करियर

पुनर्वसु नक्षत्र में जन्मी स्त्रियां बहुत रचनात्मक होगा। इसके अलावा, उन्हें संगीत, कला और फैशन से बहुत प्यार होगा। इस प्रकार, इस बात की बहुत अधिक संभावना है कि जातकों को इन क्षेत्रों में सफलता मिलेगी। जातक के लिए सबसे उपयुक्त करियर विकल्प फैशन और अभिनय उद्योग होगा क्योंकि उसे इन क्षेत्रों में बहुत रुचि है। जब उसकी रचनात्मक प्रतिभा को उसके जुनून के साथ जोड़ दिया जाता है, तो जातक के लिए सफलता की गारंटी होती है।

व्यक्तित्व और व्यवहार

जातक भौतिकवादी होंगे और उसे सबसे सुखद आनंद इन सांसारिक वस्तुओं से मिलेगा। यहीं उसकी ख़ुशी होगी, हालाँकि जातक की वाणी मधुर होगी। जातक अपनी राय प्रस्तुत करने से नहीं कतराएगा, जो कभी-कभी जातक को अपमानजनक समझे जाने का कारण भी बन सकता है। जातक केवल उन्हीं लोगों का सम्मान करेंगे जिनके बारे में वे सोचते हैं कि वे इसके लायक हैं और उन्हें हर कोई पसंद नहीं करेगा।

परिवार, प्यार और शादी

परिवार की दृष्टि से जातक का परिवार सहायक होगा और उसे अपने परिवार से प्यार और सम्मान मिलेगा। साथ ही, जरूरत के समय वह अपने परिवार के लिए खड़ी होगी। पुनर्वसु नक्षत्र में स्त्री का वैवाहिक जीवन अत्यंत फलदायी रहेगा। पुनर्वसु नक्षत्र विवाह अनुकूलता या पुनर्वसु नक्षत्र विवाह भविष्यवाणी कहती है कि उसे एक प्यार करने वाला, देखभाल करने वाला और सहायक पति मिलेगा। इसके अलावा, उनके बच्चे उनकी ताकत के सबसे बड़े स्तंभ होंगे।

स्वास्थ्य

जातक अपने जीवन में कुछ बीमारियों से पीड़ित रहेगा क्योंकि वह अपने आहार और स्वास्थ्य का उचित ध्यान नहीं रखता है। हालांकि, अगर उन्हें समय पर इलाज मिले तो वह इनसे उबर सकेगी।

पुनर्वसु नक्षत्र पद

प्रत्येक नक्षत्र को चार चरणों में विभाजित किया गया है। यही बात पुनर्वसु नक्षत्र पर भी लागू होती है। ये पद हमें यह समझने में मदद करते हैं कि उनके तहत पैदा हुए लोगों की विभिन्न विशेषताएं क्या होगी। इसके अलावा, वे हमें मूल निवासियों के जीवन के बारे में जानकारी देते हैं और हमें बताते हैं कि भविष्य में उनके लिए क्या मायने रखता है।

पद का विभाजन जातक के जन्म के दौरान चंद्रमा की ग्रह स्थिति पर आधारित होता है। आइए देखें कि पुनर्वसु नक्षत्र के विभिन्न पद हमें जातकों के बारे में क्या बताते हैं।

पुनर्वसु नक्षत्र पद 1

मेष नवांश के जातक साहसी होते हैं और वे हमेशा नई चीजें आज़माने की इच्छा रखेंगे। चूंकि मंगल इस पद पर शासन करता है, इसलिए जातक बहुत मेहनती और दूसरों का बहुत अच्छा मित्र होगा। इसके अलावा, मेष राशि होने के कारण जातक को यात्रा करना भी पसंद होता है और वह अपने प्रियजनों के प्रति प्रेमपूर्ण भी होता है।

पुनर्वसु नक्षत्र पद 2

वृषभ नवांश के लोग भौतिकवादी स्वभाव के होते हैं। जो चीज उन्हें सबसे अधिक खुशी देती है वह सांसारिक सुख होंगे। साथ ही, चूँकि इस पद का स्वामी शुक्र है, इसलिए जातक का झुकाव यौन सुख की ओर होगा। हालांकि, ये स्वभाव से काफी संवेदनशील भी होंगे। वृषभ राशि होने के कारण जातक को पर्यटन से भी गहरा प्रेम होगा और वह आयात और निर्यात उद्योग में व्यवसाय कर सकता है।

पुनर्वसु नक्षत्र पद 3

मिथुन नवांश के जातक बहुत बुद्धिमान होते हैं। उनमें महान प्रतिभा और ज्ञान होगा और उनमें तर्कसंगत निर्णय लेने की प्रवृत्ति होगी। चूंकि इस पद का स्वामी बुध है, इसलिए जातक के पास उत्कृष्ट रचनात्मक क्षमताएं होंगी और उसे इस क्षेत्र में सफलता भी मिलेगी।

मिथुन राशि होने का मतलब है कि जातक का ध्यान प्रकृति पर रहेगा और वह हमेशा परिणाम के बारे में सोचता रहेगा। अर्जुन की तरह ही उनका ध्यान भी हमेशा अपने लक्ष्य पर रहेगा और कोई भी चीज उन्हें अपने लक्ष्य की ओर जाने नहीं पाएगी।

पुनर्वसु नक्षत्र पद 4

कर्क नवांश के जातक बहुत दयालु और मददगार होते हैं। जातक के परोपकारी होने की संभावना अधिक होती है। साथ ही, चूंकि चंद्रमा इस पद का स्वामी है, इसलिए जातक का स्वभाव मातृभक्त और पोषण करने वाला होगा। वे अपने सभी प्रियजनों से प्यार करेंगे और उनसे प्यार करेंगे। कर्क राशि होने के कारण जातक में हास्य की एक अनोखी भावना हो सकती है और वह दूसरों के प्रति नासमझ हो सकता है।

पुनर्वसु नक्षत्र में विभिन्न ग्रह

अंग्रेजी में पुनर्वसु नक्षत्र का शाब्दिक अनुवाद 'रे ऑफ लाइट लूनर मेंशन' होता है। एक नक्षत्र में विभिन्न ग्रहों की स्थिति और उपलब्धता जातक के जीवन को प्रभावित कर सकती है। यह या तो जातक को सुखी जीवन जीने में मदद कर सकता है या फिर जातक को सभी कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। तो आइये पुनर्वसु नक्षत्र में विभिन्न ग्रहों की स्थिति पर एक नजर डालते हैं।

  • पुनर्वसु नक्षत्र में शुक्र जातकों को बहुत मददगार स्वभाव देता है। चूंकि पुनर्वसु नक्षत्र आर्द्रा नक्षत्र के बाद आता है। यह आम तौर पर जातक को दुर्घटना के बाद लोगों की मदद करने या सांत्वना देने की प्रवृत्ति देता है।
  • पुनर्वसु नक्षत्र में मंगल जातक को स्वभाव से आक्रामक बनाता है। इसके अलावा, मंगल की उपस्थिति के कारण जातक साहसी और पुष्ट होंगे।
  • पुनर्वसु नक्षत्र में सूर्य जातक को आत्मकेंद्रित बनाता है। वे ध्यान का केंद्र बने रहना पसंद करेंगे और बहुत आकर्षक होंगे। इसके अलावा, इस नक्षत्र में सूर्य की उपस्थिति जातकों को अपने परिवार और दोस्तों से बहुत प्यार करती है।
  • पुनर्वसु नक्षत्र में राहु जातकों को धोखाधड़ी की घटनाओं का कारण बन सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि उन्हें अपने साथी के साथ खुशी नहीं मिलेगी और उन्हें छोड़ने के बजाय उन्हें अपने साथी को धोखा देना ही सबसे अच्छा समाधान लगेगा। इसके अलावा, जातकों द्वारा अपने रिश्तों में धोखाधड़ी करने की भी अधिक संभावना होती है।
  • पुनर्वसु नक्षत्र में केतु जातक को आध्यात्मिक प्रवृत्ति वाला बनाता है। ईश्वर से जुड़ने पर जातक को शांति और सद्भाव मिलता है। इस प्रकार, वे इस विषय में काफी रुचि रखते हैं और इसके बारे में जानकार हैं।
  • पुनर्वसु नक्षत्र में चंद्रमा जातक को दूसरों की मदद करने में रुचि दिखाता है, खासकर उन लोगों की मदद करने में जो अतीत में पीड़ित हुए हैं। इसलिए, उनका स्वभाव बहुत मददगार, देखभाल करने वाला और प्यार करने वाला होगा। इसके अलावा, जातक अपने आस-पास लोगों को बहुत सहज महसूस कराएंगे।
  • पुनर्वसु नक्षत्र में बृहस्पति व्यक्ति को बहुत शर्मीला और शांत बनाता है। जातक बहुत आरक्षित भी हो जायेंगे।
  • पुनर्वसु नक्षत्र में बुध व्यक्ति को बहुत विनम्र बनाता है। इसके अलावा, वे बहुत जानकार व्यक्ति भी बनते हैं।
  • पुनर्वसु नक्षत्र में शनि व्यक्ति को अच्छी निर्णय लेने की क्षमता प्रदान करता है। इससे जातकों को काफी सफलता मिलेगी।

पुनर्वसु नक्षत्र से जुड़ी पौराणिक कथाएँ

आइए पुनर्वसु नक्षत्र के पीछे की पौराणिक कहानियों पर नजर डालें:

वामन, अदिति और महिषासुर की कहानी

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, अदिति मातृत्व, प्रजनन क्षमता, अतीत और भविष्य की देवी हैं। वह 12 आदित्यों की माता है। यह कहानी तब शुरू हुई जब एक शक्तिशाली असुर महिषासुर ने आदित्यों को उनके साम्राज्य से बाहर निकाल दिया था। अदिति खुद को असहाय महसूस कर रही थी और बेहद परेशान थी। वह भगवान विष्णु से मिलने गईं और उनसे इस कठिन समय में उनकी मदद करने के लिए कहा।

भगवान विष्णु अदिति के दर्द और पीड़ा को नहीं देख सके और उन्होंने उनसे कहा कि वह अपने एक अवतार में उनके यहां जन्म लेंगे और वह अवतार उनकी मदद करेगा। बाद में अदिति से वामन का जन्म हुआ। वामन भगवान विष्णु के ही अवतार थे। इसलिए, वामन असुरों से युद्ध करने गए और विजयी हुए। उसने उनके राज्य पर दावा किया और इसे अर्ध-देवताओं, आदित्यों को वापस दे दिया।

रुद्र और ब्रह्मा की कहानी

पुनर्वसु नक्षत्र से पहले आने वाला नक्षत्र आर्द्रा नक्षत्र है। भगवान शिव के विनाशकारी अवतार में, रुद्र ने ब्रह्म देव की ओर एक तीर चलाया, जिससे ब्रह्म देव बेहोश हो गए। पुनर्वसु नक्षत्र में कहा गया है कि रुद्र ने ब्रह्म देव पर जो बाण चलाया था वह वापस उन्हीं के पास आ जाता है।

इस नक्षत्र के जातकों के लिए दोनों कहानियां बहुत महत्व रखती हैं। पहली कहानी के अनुसार जातक की सबसे छोटी संतान उनके लिए वरदान साबित होगी। बच्चा उनका सबसे मजबूत सहारा होगा और जरूरत पड़ने पर जातक उसकी मदद कर सकता है।

इसी प्रकार, दूसरी कहानी के अनुसार, यह जातक को यह सिखाती है कि दुनिया उसके साथ वैसा ही व्यवहार करेगी जैसा वह दुनिया के साथ करना चाहेगा। यह कर्म के सिद्धांत पर काम करता है और जातकों को उचित रूप से वही मिलेगा जिसके वे हकदार हैं। यदि वे दूसरों के प्रति कठोर या असभ्य हैं, तो उन्हें दूसरों के समान व्यवहार का सामना करना पड़ेगा। हालांकि, यदि वह मददगार और दयालु है, तो दुनिया में उसके लिए एक उत्कृष्ट जगह होगी।

पुनर्वसु नक्षत्र प्रसिद्ध व्यक्तित्व

नीचे पुनर्वसु नक्षत्र में जन्मी कुछ प्रसिद्ध हस्तियों के बारे में बताया गया है। आइए उन पर एक नजर डालें:

  • शकीरा
  • शिन्जो अबे
  • आर.के. लक्ष्मण
  • सचिन तेंदुलकर
  • श्री श्री रविशंकर

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल-

पुनर्वसु नक्षत्र जातक के लिए करियर और परिवार के लिहाज से अच्छा माना जाता है। हालांकि, विवाह के दृष्टिकोण से ये अच्छे नहीं रहेंगे।
इस नक्षत्र के पुरुष जातकों के लिए तलाक की संभावना अधिक हो सकती है। साथ ही इस बात की भी संभावना है कि वे दोबारा शादी करेंगे।
पुनर्वसु नक्षत्र के बारे में दो विशेष बातें यह है कि पहला, इनका प्रतिनिधित्व मिथुन तारामंडल के सबसे चमकीले तारे करते हैं और दूसरा भगवान राम का जन्म इसी नक्षत्र में हुआ था।
पुनर्वसु नक्षत्र के नाम के लिए भाग्यशाली अक्षर की, का, हो, ही और ही हैं।
इनके विवाह के लिए सबसे शुभ नक्षत्र भरणी नक्षत्र और पुष्य नक्षत्र है।
पुनर्वसु नक्षत्र की राशि कर्क और मिथुन है जिसका अंग्रेजी में अनुवाद कैंसर और जैमिनी होता है।
Karishma tanna image
close button

Karishma Tanna believes in InstaAstro

Urmila  image
close button

Urmila Matondkar Trusts InstaAstro