धनिष्ठा नक्षत्र - सफलता की ओर पथ

धनिष्ठा नक्षत्र चंद्रमा के लिए 23वां चंद्र स्थान है। मान लीजिए कि हम ‘धनिष्ठा’ शब्द को खंडित करते हैं, हम पाते हैं कि यह दो शब्दों - ‘धन’, जिसका अर्थ है ‘पैसा’, और ‘निष्ठा’, जिसका अर्थ है ‘निवास’ से बना है। यह स्पष्ट रूप से इंगित करता है कि यह नक्षत्र मूल निवासियों पर ‘धन और भाग्य की वर्षा’ पर केंद्रित है। यह उन लोगों के बारे में है जो सबसे धनी हैं या जिनके बारे में सबसे ज्यादा सुना जाता है। धनिष्ठा नक्षत्र के देवता के रूप में ‘ख्यपायत्री शक्ति’ और ‘आठ वसुओं’ के साथ, जातकों को प्रसिद्धि और प्रचुरता की शक्ति प्रदान की जाती है। और ‘मंगल’, सत्तारूढ़ ग्रह, ‘ताकत’ और ‘निर्भयता’ देता है।

धनिष्ठा नक्षत्र की यह जानकारी जानना दिलचस्प है कि धनिष्ठा नक्षत्र को संगीतमय नक्षत्र भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसके अंतर्गत धनिष्ठा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल यह है की इनका झुकाव संगीत और कला की ओर होता है। और इसके साथ, हम धनिष्ठा नक्षत्र के प्रतीक पर आते हैं, एक ‘संगीतमय ढोल’ जो ताल, संगीत, नृत्य और परमात्मा के साथ संबंध को इंगित करता है। कोई आश्चर्य नहीं कि इसे ‘सिम्फनी का सितारा’ कहा जाता है। इसके अलावा, धनिष्ठा नक्षत्र दो राशियों को जोड़ता है जब चंद्रमा किसी व्यक्ति के जन्म के दौरान मकर राशि 23.20' से कुंभ राशि 6.40' के बीच यात्रा करता है। धनिष्ठा नक्षत्र की जानकारी और अधिक रोमांचक तथ्य जानने के लिए आपको आगे पढ़ना चाहिए।

अब, आप धनिष्ठा नक्षत्र के बारे में अंग्रेजी और हिंदी में पढ़ सकते हैं और इंस्टाएस्ट्रो ऐप और वेबसाइट पर एक व्यक्तिगत जीवन रिपोर्ट प्राप्त कर सकते हैं।

सटीक भविष्यवाणी के लिए कॉल या चैट के माध्यम से ज्योतिषी से जुड़ें

धनिष्ठा नक्षत्र राशि चक्र चिन्ह: सिंहावलोकन

धनिष्ठा नक्षत्र राशि या राशि चिन्ह मकर और कुंभ है, जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है। नक्षत्र की पहली और दूसरी तिमाही मकर को कवर करती है, जबकि तीसरी और चौथी तिमाही कुंभ राशि को कवर करती है। आइए धनिष्ठा नक्षत्र के अंतर्गत दोनों राशियों की विशेषताओं को अलग-अलग देखते हैं।

आइए धनिष्ठा नक्षत्र के अंतर्गत दोनों राशियों की विशेषताओं को अलग-अलग देखते हैं।

मकर राशि

मकर राशि वाले भीड़ से अलग होते हैं। ये बहादुर होते हैं और सही चीजों के लिए स्टैंड लेने से नहीं डरते। धनिष्ठा में जन्में लोग बुद्धिमान और विचारशील होते हैं। उनकी संवेदनशीलता उन्हें एक परिपक्व राशि का हिस्सा बनाती है। वे “रोकें, सोचें और कार्य करें” के मंत्र का पालन करते है। ये अपने काम, परिवार और दोस्तों के प्रति बहुत सावधान रहते हैं। कम उम्र में ही प्रतिकुल परिस्थितियां उन्हें मजबूत और स्वतंत्र बना देती हैं। वे यथासंभव अपने ज्ञान का विस्तार करते हैं और उच्च अध्ययन के लिए विदेशी विश्वविद्यालयों में जाते हैं। वे इस ज्ञान का उपयोग मुख्य रूप से तकनीक के माध्यम से समाज में योगदान करने के लिए करना चाहते हैं।

कुंभ राशि

कुम्भ एक बुद्धिमान राशि है। कुंभ राशि के जातकों के भविष्यफल में दृढ़ संकल्प और इच्छाशक्ति होती है। उनका जीवन के प्रति आदर्शवादी दृष्टिकोण है। इनका झुकाव सामाजिक कार्यों की ओर होता है और दान-पुण्य में विश्वास रखते हैं। वे योजनाएँ नहीं बनाते, लेकिन वे सपने देखते हैं। और उन्हें पूरा करने की हिम्मत रखते हैं। आप उनके माध्यम से बहुत कुछ सीखते हैं। वे अपनी प्रतिभा और उपलब्धियों के बारे में कभी घमंड नहीं करते हैं और जब उन्हें अचानक पहचान मिलती है तो वे आपको आश्चर्यचकित कर देते हैं।

धनिष्ठा में राहु

राहु प्रसिद्धि, विदेशी भूमि, धन, नियम तोड़ने वाला, जुनून, इच्छा, नशा, रचनात्मकता, सिनेमा, भौतिकवाद, धोखा, असंतोष, भ्रम का प्रतिनिधि है।

जबकि, धनिस्ता धन, विलासिता, सेलिब्रिटी का प्रतीक है। जब राहु धनिष्ठा नक्षत्र में होता है, तो सब कुछ अनुपात से बाहर हो जाता है। ये संयोजन या तो ऐसी स्थितियाँ पैदा करते हैं जहाँ एक व्यक्ति बहुत अमीर और अमीर परिवार में पैदा होता है या फिर वे अपनी मेहनत से धन का निर्माण करते हैं। राहु विदेश से भी लाभ और आय ला सकता है। भौतिकवादी दृष्टिकोण से देखे तो धनिष्ठा नक्षत्र की जानकारी बताती है कि व्यक्ति, संयोजन में बहुत अच्छा है; यह जीवन में बहुत ऊपर लाएगा। लेकिन, जब रिश्तों की बात आती है तो यह संयोजन बहुत भ्रम ला सकता है और धोखा देने का परिदृश्य भी हो सकता है।

धनिष्ठा नक्षत्र की खास बाते और इसके लिए जिम्मेदार आवश्यक विशेषताएं

नक्षत्रविशेषताएं
धनिष्ठा नक्षत्र स्वामी ग्रहमंगल ग्रह
धनिष्ठा नक्षत्र राशि चक्रमकर और कुंभ
धनिष्ठा नक्षत्र लिंगमादा
धनिष्ठा नक्षत्र चिन्हएक संगीतमय ढोल
धनिष्ठा नक्षत्र देवतावसु - आठ देवता
धनिष्ठा नक्षत्र गणराक्षस
धनिष्ठा नक्षत्र गुणतमस
धनिष्ठा नक्षत्रा में योनिशेर
धनिष्ठा नक्षत्र का पसंदीदा अक्षरG
धनिष्ठा नक्षत्र का पसंदीदा रत्नलाल मूंगा
धनिष्ठा नक्षत्र लकी कलरचाँदी
धनिष्ठा नक्षत्र लकी नंबर8 और 9
धनिष्ठा नक्षत्र तत्वआकाश
धनिष्ठा नक्षत्र पशु और पक्षीमादा शेर और सुनहरी मधुमक्खी

धनिष्ठा नक्षत्र 2023 के लिए जरूरी तिथियां

  • 05 जनवरी, 2023, गुरुवार।
  • 01 फरवरी 2023, बुधवार।
  • 01 मार्च 2023, बुधवार।
  • 28 मार्च 2023, मंगलवार।
  • 24 अप्रैल , 2023, सोमवार।
  • 21 मई , 2023, रविवार।
  • 18 जून , 2023, रविवार।
  • 15 जुलाई 2023, शनिवार।
  • 12 अगस्त , 2023, शनिवार।
  • 08 सितम्बर 2023, शुक्रवार।
  • 05 अक्टूबर , 2023, गुरुवार।
  • 02 नवम्बर , 2023, गुरुवार।
  • 29 नवम्बर , 2023, बुधवार।
  • 26 दिसम्बर, 2023, मंगलवार।

अगर आप भी इस नक्षत्र के प्रति जिज्ञासु है या नहीं, instaastro.com और InstaAstro ऐप पर हिंदी और अंग्रेजी में धनिष्ठा नक्षत्र देखें।

धनिष्ठा नक्षत्र पद

वैदिक इतिहास में उल्लेख है कि लोगों के जीवन में बेहतर अंतर्दृष्टि को समझने और आकर्षित करने के लिए प्रत्येक धनिष्ठा नक्षत्र चार चरणों में वर्गीकृत किया गया है। आइए हम धनिष्ठा नक्षत्र की खास बातें जाने।

धनिष्ठा नक्षत्र प्रथम पद: इस पद के जातक जीवन में अत्यधिक सफल होते हैं। सिंह नवमांश में जन्मे, वे किसी भी चीज़ में सफलता पाते हैं। शादी को छोड़कर सभी इच्छाएं पूरी हो जाती हैं। इनका वैवाहिक जीवन अच्छा नहीं हो सकता है। धनिष्ठा नक्षत्र में सूर्य इस पद का भविष्यफल तय करता है। इसमें जन्म लेने वाले जातकों के द्वार पर सिद्धियाँ लाता है।

धनिष्ठा नक्षत्र द्वितीय पद: इस पद के जातक एथलेटिक्स या संगीत में रुचि रखते हैं तो वे जीवन में उत्कृष्टता प्राप्त करते हैं। कन्या नवांश में जन्मे, करियर के विशिष्ट क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित किया गया है, जिसके लिए उन्हें जाना चाहिए। धनिष्ठा नक्षत्र में बुध इस पद का स्वामी है, जो उन्हें सफल संगीतकार या एथलीट बनाता है। लेकिन पिछले पाड़ा की तरह ही वैवाहिक जीवन भी थोड़ा कठिन हो सकता है।

धनिष्ठा नक्षत्र तृतीय पद: इस पद के जातकों को सफल वैवाहिक जीवन और शांत मन का उपहार मिलता है। इनकी मानसिक स्थिति अच्छी रहती है। तुला नवमांश में जन्मे जातक परिवार के साथ अपने निजी जीवन का आनंद लेंगे। धनिष्ठा नक्षत्र में शुक्र नक्षत्र का शासक है, और जातक का झुकाव प्रदर्शन कला, ज्योतिष और आध्यात्मिकता की ओर होता है।

धनिष्ठा नक्षत्र चतुर्थ पद: इस पद के जातक बाहरी गतिविधियों में शामिल होते हैं और शारीरिक रूप से मजबूत होते हैं। उन्हें बेहद ऊर्जावान माना जाता है। वृश्चिक नवमांश में जन्मे, वे वंचितों की मदद करते हैं लेकिन परिवार के साथ एक अच्छा बंधन साझा नहीं कर पाते हैं। धनिष्ठा नक्षत्र में मंगल नक्षत्र का शासक है। जो इस पद के लोगों को शक्ति और जीवन शक्ति प्रदान करता है।

शक्तियां और कमजोरियां

प्रत्येक व्यक्ति के व्यक्तित्व लक्षणों में ताकत और कमजोरियां होती हैं। आइए इन्हें धनिष्ठा नक्षत्र के संदर्भ में देखें।

  1. ताकत
  2. धनिष्ठा नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग अपने हर काम में विशेषज्ञ और बहु-प्रतिभाशाली होते हैं। उनमें से कुछ अच्छी शारीरिक शक्ति के साथ अच्छे दिखने वाले होते हैं। वे महान शिक्षार्थी हैं और तेज दिमाग वाले हैं। इनकी मुस्कान आकर्षक होती है। वे धार्मिक होते हैं और दूसरों के प्रति व्यवहार के मामले में अच्छे व्यवहार रखते हैं। हर कोई उन्हें उनकी काबिलियत और चरित्र के लिए पसंद करता है। वे स्वभाव से विनम्र होते हैं। वे शब्दों के साथ अच्छे हैं और दूसरों के साथ अच्छी तरह से बातचीत करते हैं। वे मिलनसार और बेहद सामाजिक हैं। इन्हें अकेले रहने की आदत नहीं होती क्योंकि ये हर समय लोगों से घिरे रहते हैं। वे ईश्वर से डरने वाले और ऊर्जा से भरे हुए हैं। इसलिए वे अपनी जिम्मेदारियों को निभाने में कभी पीछे नहीं हटते। ये जीवन की सभी समस्याओं और बाधाओं से लड़कर विजयी होते हैं। वे नृत्य और संगीत से जुड़े हुए हैं। तर्क-वितर्क करने में ये अच्छे होते हैं और अच्छी बहस में पड़ सकते हैं। व्यक्ति की यहीं खुबियां धनिष्ठा नक्षत्र की जानकारी के बारे में बताते है।

  1. कमजोरियों
  2. इस नक्षत्र के जातक अपनी सफलता और पहचान को अपने सिर पर ले लेते हैं और इनके पांव जमीन पर नहीं टिकते हैं। धनिष्ठा नक्षत्र में केतु उन्हें अत्यधिक अहंकारी बनाता है। यदि वे विनम्र होने की आदत का अभ्यास नहीं करते हैं और दिल में करुणा रखते हैं, तो वे अत्यंत तर्कशील, विचारों वाले और स्वयं से भरे हुए हो सकते हैं। अपने बदलते स्वभाव के कारण, वे मित्रों और परिवार से दूर हो सकते हैं। वे मतलबी हो जाते हैं, और उनकी निडरता उन्हें शराब और धूम्रपान की आदतों में ले जाती है। वे लालची हो जाते हैं और भौतिक संपदा से बढ़कर किसी चीज को महत्व नहीं देते। वे बेईमान गतिविधियों और अपराध में भी लिप्त हो सकते हैं।

धनिष्ठा नक्षत्र पुरुष लक्षण

  1. भौतिक विशेषताएं: धनिष्ठा नक्षत्र के पुरुष जातकों का शरीर दुबला पतला होता है। वे ऊंचाई में लंबे हैं। उनमें से कुछ मोटे या भारी-भरकम होते हैं।
  2. व्यक्तित्व और विशेषताएं: धनिष्ठा नक्षत्र के पुरुष जातक अपने कार्यों में निपुण होते हैं। ये सभी के जैसे भी हो सकते हैं यानी ये एक साथ बहुत कुछ जान सकते हैं। वे अच्छे शिक्षार्थी होते हैं और उनमें उच्च बुद्धि होती है। इन्हें दूसरे लोगों के जीवन में कोई समस्या पैदा करना पसंद नहीं है। इनकी जन्म कुंडली दर्शाती है कि ये अत्यंत धार्मिक और ईश्वर से डरने वाले होते हैं। उनके पास उच्च बुद्धि और तेज दिमाग है, लेकिन वे विनम्र हैं। वे स्व-निर्मित व्यक्ति होते हैं जो अपने पैसे और नियमों से जीना पसंद करते हैं। वे असहमतियों को जारी रखना पसंद नहीं करते। उनके पास हाथी की ऊर्जा है, जिसका अर्थ है कि वे अपने बड़े पैमाने पर विनाश के माध्यम से बुरे कर्मों वाले लोगों को एक अच्छा सबक सिखाने के लिए सही समय की प्रतीक्षा करते हैं।
  3. करियर: धनिष्ठा नक्षत्र पुरुषों का करियर सफलता दिलाने वाला होता है। वे अपने द्वारा चुने गए किसी भी पेशे में सफलता पाते हैं। एक संगीत नक्षत्र होने के कारण, उनमें से कुछ का झुकाव संगीत और प्रदर्शन कलाओं की ओर होता है और वे महान गायक, संगीतकार, वाद्य वादक, अभिनेता और निर्देशक बन सकते हैं। वे राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय एथलीट प्रतियोगिताओं में देशों के प्रतिनिधियों के बीच भी पाए जाते हैं। उनके पास अच्छा संचार कौशल है और अच्छे तर्क देते हैं। इसलिए, कानून, सिविल सेवा और राजनीति में भी शामिल हो सकते हैं। वे रहस्य छुपा सकते हैं, इसलिए, खुफिया ब्यूरो संघों से अच्छा करियर बना सकते हैं।
  4. धन: धनिष्ठा नक्षत्र पुरुष जातकों के भाग्य में धन बहुत समृद्धि लाता है। वे कम उम्र में ही सफल भूमिकाएं ढूंढ लेते हैं और अमीर बन जाते हैं। उनका ज्ञान और स्व-निर्मित कहानियां भी उनके बच्चों को प्रेरित करती हैं। वे समाज के प्रतिष्ठित परिवारों में शामिल हैं।
  5. वैवाहिक जीवन: धनिष्ठा भाद्रपद मैरिड़ लाइफ सौभाग्य का संकेत देता है। इस नक्षत्र के पुरुष जातक अपने जीवन साथी को पाकर खुद को भाग्यशाली महसूस करते हैं। उनकी पत्नियों के अच्छे गुण उनके विवाह को फलदायी बनाते हैं। उनकी शादी के बाद ही पदोन्नति, उच्च वेतन वृद्धि और अधिक विलासिता की संभावनाएं हैं।
  6. अनुकूलता: इनका उच्च अधिकार होता है और पारिवारिक मामलों में इनका दबदबा होता है। वे अपने भाई-बहनों के साथ एक अच्छा बंधन साझा करते हैं। उनके रिश्तेदार उनके और उनके ससुराल वालों के बीच मतभेद पैदा करने की कोशिश कर सकते हैं। लेकिन यह लंबे समय तक नहीं टिकेगा। धनिष्ठा नक्षत्र में स्त्री जातकों के साथ पुरुषों की अनुकूलता बहुत अच्छी होती है। पुरुष जातक भाग्यशाली होते हैं जिन्हें अच्छे जीवन साथी मिलते हैं। वे उन्हें अपने जीवन में देवी लक्ष्मी का रूप मानते हैं, जो भाग्य और खुशियां लेकर आई हैं। विवाह के मामले में, वे मीन राशि में पूर्वा-भाद्रपद के जातकों, मिथुन राशि में अश्लेषा और पुनर्वसु के साथ सबसे अच्छी अनुकूलता साझा करेंगे।
  7. स्वास्थ्य: इस नक्षत्र के पुरुष जातकों का स्वास्थ्य चिंता का विषय हो सकता है। उन्हें स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है लेकिन उन्हें अनदेखा कर सकते हैं। स्थिति जोखिमपूर्ण होने पर ही वे उपचार या दवा खोज सकते हैं। यह एक अच्छा संकेत नहीं है। वे बुखार, सर्दी, खांसी और एनीमिया से प्रभावित होते हैं।

धनिष्ठा नक्षत्र स्त्री लक्षण

  1. शारीरिक विशेषताएं: धनिष्ठा नक्षत्र की महिलाएं 40 वर्ष की उम्र पार करने के बाद भी अविश्वसनीय रूप से युवा दिखती हैं। सुंदर होंठ उनकी सबसे आकर्षक विशेषता है जो उनके पास है। हालांकि, उनमें से कुछ को उभरे हुए दांतों के साथ देखा गया है जो कि बिन कारण हो सकता है।
  2. व्यक्तित्व और विशेषताएँ: इस नक्षत्र की महिला जातकों के सपने और आकांक्षाएँ बहुत अधिक होती हैं। वे गैर-जिम्मेदाराना ढंग से बहुत पैसा खर्च करती हैं। वे अपनी विचार प्रक्रिया में विनम्र और उदार होते हैं। इनके मन में अपार सहानुभूति होती है। ये परिवारोन्मुखी होते हैं और प्रतिदिन की गलतफहमियों को सुलझाकर सदस्यों को जोड़े रखते हैं। पारिवारिक मामलों में इनकी राय अच्छी होती है और इसलिए हर निर्णय उनकी राय के बाद ही लिया जाता है। जैसे श्रवण का जन्म होता है, उनमें परिवार में उन चीजों को लागू करने की ताकत होती है जो सद्भाव ला सकती हैं।
  3. करियर: धनिष्ठा नक्षत्र महिला जातकों का करियर जीवन जानना दिलचस्प है। इस नक्षत्र की स्त्रियों की भीड़ विभिन्न पेशों में देखी जाती है। वे अत्यधिक योग्य हैं और उनके पास ऐसे करियर हैं जो उन्हें पहचान दिलाते हैं। हालाँकि, साहित्य और विज्ञान में उनकी रुचि बहुत देखी जाती है। धनिष्ठा नक्षत्र की महिला जातकों के लिए सबसे संभावित करियर शिक्षक, शोधकर्ता, वैज्ञानिक और प्रोफेसर हैं।
  4. धन: महिला जातक परिवार के लिए संतोषजनक धन लाती हैं। उनका धन उनके परिवार को खुश रखने के लिए पर्याप्त है। उनके पास करियर है जो उन्हें अपने परिवेश में सम्मान देता है। उनके पति और परिवार के सदस्य उन्हें भाग्य और धन की देवी मानते हैं।
  5. वैवाहिक जीवन: धनिष्ठा नक्षत्र में वैवाहिक जीवन आनंददायक होती है। उनके ससुराल वाले और पति उन्हें पाकर बेहद भाग्यशाली महसूस करते हैं। वे घर का प्रबंधन करती हैं और कुशलता से काम करती हैं। नतीजतन, उन्हें अपने भागीदारों के साथ बिताने के लिए पर्याप्त समय मिलता है, और वे गलतफहमी या बहस के लिए कोई जगह नहीं छोड़ती। महिला और उनके पति एक अच्छा संबंध साझा करते हैं।
  6. संगतता: धनिष्ठा नक्षत्र महिला जातकों के साथ उनके परिवार के सदस्यों के साथ अनुकूलता अच्छी होती है। वे अपने परिवार के सदस्यों के करीब रहते हैं और अच्छे घरेलू प्रशासक साबित होते हैं। वे परिवार में सभी का बहुत सम्मान और प्यार करते हैं। हर महत्वपूर्ण निर्णय में उनका हमेशा अंतिम कहना होता है। साथ ही उनके पति भी उनसे खुश रहते हैं। उनके पास कोई व्यक्तिगत तनाव नहीं है क्योंकि उनकी पत्नियों के रूप में उनके पास एक अच्छा परिवार प्रबंधक है। विवाह के मामले में, वे कन्या राशि में उत्तरा-फाल्गुनी, मकर राशि में उत्तरा-आषाढ़, श्रवण, पूर्व-फाल्गुनी और स्वाति नक्षत्र के जातकों के साथ सबसे अच्छी अनुकूलता साझा करेंगे।
  7. स्वास्थ्य: धनिष्ठा नक्षत्र की महिला जातकों का अपने स्वास्थ्य के प्रति लापरवाह रवैया होता है। स्वास्थ्य के प्रति गंभीर होने को लेकर ये पुरुष जातकों की तरह ही व्यवहार करती हैं। वे अपने स्वास्थ्य के बारे में तब तक बात करने से बचते हैं जब तक कि यह बहुत गंभीर न हो। उन्हें एनीमिया जैसी रक्त संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसके साथ ही गर्भाशय में समस्या और बार-बार बुखार आना भी देखा गया है।

धनिष्ठा नक्षत्र के नाम की प्रसिद्ध हस्तियां

  1. जया प्रदा: जया प्रदा भारतीय फिल्म उद्योग की एक अभिनेत्री हैं और एक राजनीतिज्ञ भी हैं। वह हिंदी और तेलुगु सिनेमा की कुछ सबसे प्रतिष्ठित फिल्मों का हिस्सा रही हैं।
  2. राखी गुलज़ार: राखी गुलज़ार हिंदी और बंगाली सिनेमा की एक भारतीय अभिनेत्री हैं। अपने 4 दशक के करियर में उन्होंने ऐसी फिल्में दी हैं जिन्हें लोग आज भी याद करते हैं।
  3. राजकुमारी डायना: राजकुमारी डायना ब्रिटिश शाही परिवार की सदस्य थीं, जो 1981 में किंग चार्ल्स III, प्रिंस ऑफ वेल्स की पहली पत्नी थीं। उन्होंने ब्रिटेन और दुनिया भर में धर्मार्थ कारणों में जबरदस्त योगदान दिया और तलाक के बाद भी प्रसिद्ध थीं। रॉयल्स।
  4. सुनील दत्त: सुनील दत्त एक भारतीय अभिनेता, निर्देशक और राजनीतिज्ञ थे, जिनका 25 मई 2005 को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह अभिनेता संजय दत्त के पिता थे।
  5. रिकी पोंटिंग: रिकी पोंटिंग एक पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर हैं जो टेस्ट मैचों और एकदिवसीय मैचों में रन बनाने के मामले में सचिन तेंदुलकर के बाद दूसरे स्थान पर हैं। वह वर्तमान में एक क्रिकेट कोच और कमेंटेटर हैं।
  6. सलमान खान: सलमान खान भारतीय फिल्म उद्योग में एक लोकप्रिय अभिनेता हैं। उन्होंने पुरस्कार और रियलिटी शो की मेजबानी भी की है।
  7. जेआरडी टाटा: जेआरडी टाटा (जहांगीर रतनजी दादाभाई टाटा) टाटा ग्रुप के चेयरमैन थे। वह एक सफल उद्यमी और फ्रेंच-भारतीय एविएटर थे।

धनिष्ठा नक्षत्र में विभिन्न ग्रह

  • धनिष्ठा नक्षत्र में शुक्र : जातकों के अपने साथियों और उनके परिवार के सदस्यों के साथ बहुत अच्छे संबंध नहीं होते हैं।
  • धनिष्ठा नक्षत्र में बृहस्पति : व्यक्ति को स्वभाव से बहुत ही कामुक बनाता है। जातक को हमेशा अधिक की चाह रहेगी और जो उसके पास है उससे कभी संतुष्ट नहीं होगा।
  • धनिष्ठा नक्षत्र में राहु : सब कुछ अनुपात से बाहर कर देता है। ये संयोजन या तो ऐसी स्थितियाँ पैदा करते हैं जहाँ एक व्यक्ति बहुत अमीर और अमीर परिवार में पैदा होता है या फिर वे अपनी मेहनत से धन का निर्माण करते हैं।
  • धनिष्ठा नक्षत्र में मंगल : व्यक्ति को बहुत मेहनती व्यक्ति बनाता है। इसके अलावा, वे अत्यधिक लक्ष्य-उन्मुख व्यक्ति भी बनते हैं।
  • धनिष्ठा नक्षत्र में सूर्य : व्यक्ति को बहुत धनवान बनाता है। जातकों के जीवन में कई स्रोतों से धन का आगमन होगा।
  • धनिष्ठा नक्षत्र में चंद्रमा : जातक को संगठित और समयनिष्ठ बनाता है।
  • धनिष्ठा नक्षत्र में बुध : व्यक्ति को एक बहुत ही बुद्धिमान व्यक्ति बनाता है। उन्हें उनके साथियों और साथी साथियों द्वारा अत्यधिक ज्ञानी प्राणी कहा जाता है।
  • धनिष्ठा नक्षत्र में शनि : व्यक्ति को प्रकृति में बहुत भौतिकवादी बनाता है। जातक हमेशा अपने जीवन में सर्वोत्तम वस्तुओं और उत्पादों की इच्छा रखेगा।
  • धनिष्ठा नक्षत्र में केतु : व्यक्ति को बहुत ही आध्यात्मिक रूप से प्रवृत्त करता है। इसके अलावा, जातक ध्यान में भी बहुत अच्छा होगा।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल-

धनिष्ठा नक्षत्र में जन्मे लोग रहस्य रखने में अच्छे होते हैं। इस पर लोग उन पर भरोसा कर सकते हैं। वे इंटेलिजेंस ब्यूरो संघों में अच्छा करियर बना सकते हैं।
यह महाभारत के महान नायक भीष्म का जन्म नक्षत्र है। इसके अलावा, धनिष्ठा नक्षत्र में जन्मे आठ वसुओं के रूप में उनके देवता हैं जो हिंदू धर्म में आठ अलग-अलग तत्वों का प्रतिनिधित्व करते हैं। उनके नाम अपः, ध्रुव, धारा, अनिल, अनल, प्रत्युषा, प्रवेश और सोम हैं।
धनिष्ठा नक्षत्र राशी या राशि चक्र के संकेत मकर और कुंभ हैं। लोग इस नक्षत्र में पैदा होते हैं जब चंद्रमा मकर राशि 23.20' और कुंभ 6.40' के बीच होता है।
धनिष्ठा नक्षत्र में पैदा हुए लोगों को अपने जीवनकाल में कम से कम एक बार भारत के तमिलनाडु में कुंभकोणम के पास कोरुक्कई में "श्री पुष्पावली समधा श्री ब्रह्म ज्ञान शुद्धेश्वर मंदिर" का दौरा करना चाहिए और सफलता और अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रसाद चढ़ाना चाहिए।
धनिष्ठा नक्षत्र व्यक्ति के लिए अच्छा होता है। धनिष्ठा नक्षत्र में जन्म लेने वाला व्यक्ति विनम्र, पारिवारिक और सहानुभूति रखने वाला होता है।
धनिष्ठा नक्षत्र का शुभ रत्न लाल मूंगा है। धनिष्ठा नक्षत्र में जन्में भाग्य और ध्यान के लिए इसे धारण करना चाहिए।
Karishma tanna image
close button

Karishma Tanna believes in InstaAstro

Karishma tanna image
close button

Urmila Matondkar Trusts InstaAstro