महादशा - पूर्ण आनंद या उथल-पुथल की अवधि

ज्योतिष में महादशा पृथ्वी पर मनुष्यों के जीवन में एक महत्वपूर्ण अवधि है। महादशा शब्द एक संस्कृत शब्द है। जिसका अर्थ है ‘प्रमुख अवधि’। हालांकी आपको इस बारे में नहीं पता की महादशा क्या होती है। लेकिन आपको अपने वास्तिवक जीवन में यह जानना बहुत महत्वपूर्ण है। कि महादशा क्या होती है।

महादशा अर्थ में समझे तो महादशा काफी व्यापक अवधि है। महादशा ग्रहों समय अवधि है। जिसमें हर एक इंसान या जीवित जीव चल रहा होता है। इसका मतलब यह है कि प्रत्येक ग्रह आपके जीवन के पाठ्यक्रम को आपके जन्म के समय से लेकर एक निश्चित अवधि के लिए प्रभावित करता है। यहां तक ​​कि कुत्ते या बिल्ली की भी महादशा चल रही होती है। ये समय काल, या महादशा काल, प्रत्येक मनुष्य के लिए कालानुक्रमिक क्रम में जाने वाले काल हैं और यह क्रम मृत्यु तक नहीं बदलता है।

महादशा में प्रवेश करने से आपके जीवन की सबसे प्रभावशाली घटनाएं शामिल होती हैं। जो कई बार घटित होती हैं। यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप कितने समय तक जीवित हैं। सभी के लिए समय अवधि या तिथियां अलग-अलग होती हैं। लेकिन ग्रहों का कालानुक्रम एक ही होता है। ये तिथियां बहुत महत्वपूर्ण होती हैं। क्योंकि यह आपके नए ग्रह काल में प्रवेश का प्रतीक है। महादशा अपने नाम से ही कुछ जोखिम भरा और डरावना संकेत देती है। लेकिन हमेशा ऐसा नहीं होता है। यह एक ऐसी स्थिति है। जो संभवतः आपके जन्म चार्ट में ग्रहों की स्थिति और आपके कर्म पर भी निर्भर करती है।

आइए महादशा अर्थ को गहराई से जानने के लिए आगे पढ़ें। इसके अलावा यदि आप अपनी वर्तमान महादशा और संलग्न सटीक अंतर्दृष्टि जानना चाहते हैं। तो आज ही इंस्टाएस्ट्रो में हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषियों से परामर्श करें।

महादशा और नौ ग्रह

यह ग्रहों का एक गेमप्ले है। जो हमारे जीवन से जुड़े विभिन्न महत्वपूर्ण क्षेत्रों से टकराता है। प्रत्येक ग्रह एक निश्चित अवधि तक हमारी राशि में रहकर अपना प्रभाव बनाता है। जिसे महादशा कहा जाता है। आइए पढ़ते हैं कि नौ ग्रह यहां कैसे अपनी भूमिका निभाते हैं।

  • महादशा और अंतर्दशा

किसी व्यक्ति के जीवन या कुंडली में महादशा ग्रहों की स्थिति पर आधारित होती है। ग्रहों की गति के आधार पर महादशा अवधि को नौ अवधियों में विभाजित किया जाता है। जो आगे अंतर्दशा या उप-विभाजनों में विभाजित होती हैं। आपको महादशा और अंतर्दशा के बीच भ्रमित होने की कोई जरुरत नहीं है।

ज्योतिष में महादशा 120 वर्षों की अवधि में फैली हुई है। क्योंकि माना जाता है कि मनुष्य के जीने की अधिकतम आयु यही होती है। इसे नौ महादशा अवधियों में विभाजित किया गया है। जहां प्रत्येक मंडल कालानुक्रमिक क्रम में एक विशेष ग्रह से संबंधित है। इस क्रम को महादशा अनुक्रम के रूप में भी जाना जाता है।

और अंतर्दशा शासक या मुख्य ग्रह के भीतर नौ ग्रहों की छोटी अवधि में प्रत्येक महादशा का एक और विभाजन या भुक्ति है। ध्यान देने वाली एक और महत्वपूर्ण बात यह है। कि जब कोई ग्रह महादशा में मजबूत महसूस किया जाता है। तो एक या सभी अंतर्दशा का अर्थ किसी व्यक्ति की कुंडली में सकारात्मक परिणाम लाता है और यदि ग्रह कमजोर है। तो वही संस्थाएं नकारात्मक परिणाम लाएगी।

इसलिए कुंडली में महादशा और अंतर्दशा आपस में जुड़ी हुई हैं और नौ ग्रह अप्रत्यक्ष रूप से सभी नौ महादशाओं पर अपनी चमक बिखेरते हैं। इसके अलावा महादशा राशि चक्र को यह ग्रह उससे संबंधित नक्षत्र या नक्षत्रों के समूह के माध्यम से प्रभावित करते है या पहचानते है। जिसे चंद्र भवन भी कहा जाता है। वैदिक विज्ञान के अनुसार हमारे पास ऐसे 27 नक्षत्र और 12 राशियां हैं।

सटीक भविष्यवाणी के लिए कॉल या चैट के माध्यम से ज्योतिषी से जुड़ें

  • महादशा प्रकार

हम किसी व्यक्ति की यात्रा में महादशा की समय अवधि को निर्धारित करने के लिए वैदिक ज्योतिष में महादशा या ‘विमशोत्री दशा प्रणाली’ का पालन करते हैं। संक्षेप में प्रत्येक ग्रह के प्रभावों को देखने से पहले आइए नौ खंडों में 120 वर्षों के विभाजन को देखें। जिसमें प्रत्येक पर एक ग्रह बैठा होता है। महादशा प्रदर्शित के रूप में एक ही क्रम में होती है।

महादशा नामअवधि (दशा अवधि)
सूर्य/सूर्य महादशा6 साल
शुक्र/शुक्र महादशा20 साल
शनि/शनि महादशा19 वर्ष
चंद्र/चंद्र महादशा10 वर्ष
बृहस्पति/गुरु महादशा16 वर्ष
केतु महादशा7 साल
राहु महादशा18 वर्ष
मंगल महादशा7 साल
बुध महादशा17 वर्ष
कुल120 साल

अब देखते हैं कि प्रत्येक महादशा का क्या कहना है।

  • सूर्य/सूर्य महादशा : नाम से ही पता चल जाता है कि इस महादशा का स्वामी सूर्य है। सूर्य शक्ति या अधिकार का सर्वोच्च स्रोत है और इसलिए यह प्रसिद्धि, धन, प्रतिष्ठा और करियर में पदोन्नति का प्रतिनिधित्व करता है। कुछ वैदिक ग्रंथों में यह भी उल्लेख है कि परिवार के मुखिया के पास ही सबसे महत्वपूर्ण अधिकार होते है। जो आमतौर पर एक पिता के रुप में जाना जाता है। इस महादशा से गुजरते समय राजनीति और उच्च शासी निकाय से जुड़े लोगों को अपना विशेष ध्यान रखना चाहिए।
    उच्च पद पर कार्यरत लोगों के कर्म उनकी राशि और संबंधित नक्षत्र में सूर्य की स्थिति तय करते है। साथ ही जातकों को अपने पिता के स्वास्थ्य पर ध्यान देना चाहिए और जो कोई पिता बनना चाहता है। उसे अपने अजन्मे बच्चे और होने वाली माँ के स्वास्थ्य के बारे में सावधान रहना चाहिए। यदि सूर्य सही स्थिति में है। तो लोग पहले बताए गए जीवन के सभी पहलुओं में सकारात्मक परिणाम की उम्मीद कर सकते हैं। यदि नहीं है तो जातक को चयापचय शक्ति में कमी, हृदय जोखिम, भ्रम और चिंता जैसे प्रतिकूल परिणामों का सामना करना पड़ सकता है। यह 6 साल तक कुंडली में बना रहता है।
  • शुक्र/शुक्र महादशा: जब कुंडली में शुक्र सत्तारूढ़ ग्रह के रुप में स्थित होता है। तो इसके सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव को शुक्र महादशा कहा जाता है। यह भावनात्मक और शारीरिक दोनों तरह से दिल के मामलों से संबंधित है। यह सुंदरता, मनोरंजन और रूमानियत पर भी प्रकाश डालता है। यह गर्भ धारण करने, रिश्तों को पोषित करने और व्यक्तिगत और व्यावसायिक स्थान के बीच संतुलन खोजने के बारे में भी है।
    जब किसी की जन्म कुंडली में शुक्र की स्थिति खराब होती है। तो पहले बताए गए पहलुओं में बुरे प्रभाव और बुरे परिणामों का अनुमान लगाया जा सकता है। कठिन समय को देखते हुए शादियां, प्रेमियों के बीच लगातार बहस, चर्म रोग, दिल टूटना सभी कारण प्रमुख हो जाते हैं। शुक्र अपनी दशा अवधि में कोमल होता है और अगर यह अनुचित तरीके से स्थित होकर आपको सबक सिखाना चाहता है तो यह आपको न्यूनतम पीड़ा देता है। इसलिए शुक्र महादशा के तहत 20 साल की समयावधि निश्चित रूप से एक रोलरकोस्टर की सवारी है। जहां आप बहुत सारे उतार देखते हैं। तो आपको अपने जीवन में भी बहुत सारे उतार देखने को मिलेंगे। जहां तक ​​स्वास्थ्य की बात है तो प्रजनन अंगों और गुर्दों पर ध्यान दें।
  • शनि/शनि महादशा: शनि एक देव ग्रह है और इनकी महादशा में प्रमुख स्थान व्यक्ति को सबक सीखाने और सीमाओं को स्थापित करने के बारे में है। यह आपको पूर्णता, सफलता और परिपक्वता के मार्ग पर ले जाता है। जिसको पाने के लिए आपको कई उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ता हैं। क्योंकि यह आपकी परीक्षा लेता है इसलिए यह ऐसा करता है और आप पर विश्वास करता है। कि आप सफलतापूर्वक सभी बाधाओं को पार कर लेंगे और अंत में विजयी होंगे। यह आपको जीवन के प्रमुख क्षेत्रों - प्यार, करियर, पैसा, रिश्ते और शादी के नकारात्मक पहलुओं को भी दिखाता है। लेकिन आपको डरने की जरूरत नहीं है। आपको बस आगे बढ़ते रहना है और महादशा समाप्त होने तक सुधार करते रहना है।
    जब यह महादशा समाप्त होती है तो आप एक बेहतर और अधिक मजबूत व्यक्ति बन जाते हैं। यह अच्छे कर्म का निर्माण करती है और कर्म ऋण से छुटकारा पाने में आपकी सहायता करती है। यह आपकी राशि में 19 वर्ष तक रहती है। इस महादशा के दौरान आपको अपने स्वास्थ्य को सर्वोच्च प्राथमिकता देनी होती है। क्योंकि आगे जाकर आपको सभी प्रकार की बीमारियों का सामना करना पड़ेगा जो संसार में मौजूद हैं और इसमें जोखिम भी शामिल हो सकते हैं। लेकिन साधारण भोजन करना, नियमित व्यायाम और ध्यान करना ऐसे एहतियाती कदम हैं। जो पहले से उठाए जा सकते हैं।
  • चंद्र/चंद्र महादशा: इस महादशा पर चंद्रमा का शासन होता है। चंद्रमा आपको एक भावुक व्यक्ति बनाता है और इसलिए इस अवधि के दौरान आपकी भावनाएं बहुत बड़ी भूमिका निभाती हैं। चंद्रमा आमतौर पर आपकी कुंडली के ऊपर बना रहता है। जब आपको महत्वपूर्ण फैसलों के लिए खड़े होने की आवश्यकता होती है। एक व्यापारिक सौदा करना, एक बड़ी ज़िम्मेदारी लेना, एक नई संपत्ति खरीदना, एक रहस्य के लिए अपने काम करने वाले साथी पर भरोसा करना, एक संभावित साथी से प्यार कबूल करना आदि। यह ऐसी स्थितियां हैं जब आपकी भावनाएं आपके ऊपर हावी हो जाती हैं
    जब चंद्रमा आपके नक्षत्र में सही जगह पर नहीं होता है या आपकी राशि चक्र में होता है। तो यह घुटनों के दर्द की समस्या उत्पन्न करता है। जिससे आप अक्सर बचना चाहते है। आप एक बेकाबू हीन भावना के जाल में फंस जाते हैं। आप अंतर्मुखी हो जाते हैं। लेकिन चंद्रमा एक कठोर ग्रह नहीं है और इसलिए यह आपके सामान्य स्वास्थ्य को परेशान नहीं करता है। गलत अवस्था में चंद्रमा आपके भावनात्मक पहलुओं में उथल-पुथल जैसे पड़ाव लेकर आता है। आपकी स्मरण शक्ति भी चंद्रमा की छाया में होती है और इसलिए आपको अपने बचपन या उसकी कमी को याद करके आंसू आने की संभावना बनी रहती है। यदि यह आपकी कुंडली में उचित अवस्था में है। तो आप खुश, शांतिपूर्ण और मानसिक रूप से मजबूत होते हैं। यह आपकी राशि में 10 वर्ष तक रहता है।
  • बृहस्पति / गुरु महादशा: महादशा में बृहस्पति के द्वारा आप भाग्य, शैक्षणिक और आध्यात्मिक ज्ञान से प्रभावित होते हैं। इस महादशा में आपका किताबों की ओर झुकाव देखने को मिलता है। आपकी कुंडली में मजबूत बृहस्पति के साथ आपका जीवन स्वस्थ हो जाता है। आपको दुनिया की हर खुशी मिलती है। चाहे बच्चे हों, परिवार हों, प्रेमी हों, एक सफल करियर हो, आध्यात्मिक शक्ति हो या जीवन की अन्य ऊंचाइयां हों। यह आपको आध्यात्मिक पथ और शुद्ध ज्ञान के लिए गुरुओं की खोज में अत्यधिक रुचि भी प्रदान करता है।
    जब बृहस्पति की स्थिति खराब होती है तो आपका सामान्य तंत्र या कार्य परेशान हो जाता है। इसका मतलब है कि आपका पूरा जीवन प्रभावित होता है। उदाहरण के लिए आपको करियर या काम से संबंधित तनाव का सामना करना पड़ सकता है। अथवा वैवाहिक जीवन में तनाव रह सकता है। आप प्यार में अत्यधिक जुनूनी भी हो सकते हैं और आपके साथी को जगह की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। बृहस्पति कफ की श्रेणी में आता है। जो शरीर और मन पर प्रकाश डालता है। इसलिए आपका स्वास्थ्य प्रभावित होता है। विशेष रूप से आपका वजन। मोटापा और कफ जैसे रोग देखने को मिलते हैं। यह आपके जीवन के क्रम में 16 साल तक रहता है।
  • केतु महादशा: केतु को दक्षिणी नोडल बिंदु माना जाता है। केतु आपको आध्यात्मिक रूप से जुनूनी बनाता है। यह आपको सभी सांसारिक इच्छाओं और सुख-सुविधाओं से अलग करता है और आपको मनोगत की ओर ले जाता है। यदि आप किसी चीज में रुचि रखते हैं। तो यह आपको एक सफल आध्यात्मिक करियर प्रदान करता है।
    जब केतु आपके भाग्य में उचित अवस्था में नहीं होता है। तो आपको नुकसान, कर्ज और यहां तक ​​कि आपके हताहत होने की भी संभावना होती है। जैसा कि आप आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने के लिए पहले ही अपने परिवार को छोड़ चुके हैं। तो इस दौरान आप एक महत्वपूर्ण पारिवारिक मामले या किसी प्रियजन के खोने से परेशान हो सकते हैं। यदि आप जीवित रहने के लिए अनावश्यक चीजों से जुड़े हैं। तो केतु आपको प्रतिकूल रूप से प्रभावित कर सकता है। यदि आप एक साधारण व्यक्ति हैं जो जीवन से बहुत अधिक उम्मीदें नहीं रखते हैं। तो केतु आपके जीवन को पूरी तरह से प्रभावित करने में सक्षम नहीं हो सकता है। लेकिन स्पष्ट रूप से आपका ध्यान आध्यात्मिकता की ओर स्थानांतरित कर देगा। यह स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। जैसे शरीर के किसी अंग में अचानक दर्द और स्नायु तंत्र में गड़बड़ी जैसी अजीबोगरीब बीमारियां देखने को मिलती हैं। केतु महादशा 7 साल तक चलती है।
  • राहु महादशा: राहु चंद्रमा का उत्तरी नोडल बिंदु है। जो मनुष्य के जीवन पर ज्यादातर अपनी महादशा में शासन करता है। राहु कुंडली में प्रमुख उतार-चढ़ाव को दर्शाता है। यह आपके लिए चौंकाने वाली घटनाएं बनाता रहता है। एक ऐसे बिंदु पर जहां आपको लगता है कि सब कुछ बिखर रहा है। आप खुशी से चकित हो सकते हैं जब चीजें अचानक सुलझ जाती हैं। जब लोग पूछते हैं ‘सबसे बुरी महादशा कौन सी है?’ तो उत्तर है। राहु महादशा।
    इसके अलावा आपके जीवन में एक पल ऐसा भी आ सकता है। जब आप सोचते हैं कि आप एक खुश और शांतिपूर्ण स्थिति में हैं। तब आप असंख्य समस्याओं की बमबारी से चौंक सकते हैं। आपको किसी प्रिय की कमी भी खल सकती है। वास्तव में राहु और केतु मनुष्यों को समान बल से प्रभावित करते हैं। लेकिन केतु की महादशा राहु से थोड़ी अधिक अर्थात 18 वर्ष तक जीवित रहती है।
  • मंगल महादशा: मंगल महादशा आपके अंदर आक्रामकता लाती है। एक जातक मंगल के अधीन चीजों के प्रति अत्यधिक भावुक होता है। वह एक ईमानदार प्रेमी और कार्यकर्ता के रूप में पाया जा सकता है। इस अवधि में पुरुषत्व पर प्रकाश डाला गया है। इसलिए यहां पुरुष बंधनों के फलने-फूलने की संभावना है। एक व्यक्ति आत्मनिर्भर होता है और मंगल के प्रभाव में अत्यधिक महत्वाकांक्षी होता है। कामुकता और वासना को भी यहां रेखांकित किया गया है
    इस महादशा में व्यक्ति की प्रार्थनाएं बहुत बड़ी उड़ान भरती हैं। जब किसी के बर्थ चार्ट में मंगल गलत स्थिति में होता है। तो आप विवादों और झगड़ों में लिप्त हो जाते हैं। संबंध, बंधन प्रभावित होते हैं। साथ ही विरोधी इसका अनुचित लाभ उठाने का भी प्रयास कर सकते हैं। अस्थमा, सांस फूलना, एनीमिया और चिंता जैसी स्वास्थ्य समस्याएं प्रबल हो सकती हैं। यह 7 साल तक कुंडली में बना रहता है।
  • बुध महादशा: बुध के शासन में चतुराई और बुद्धि पर प्रकाश डाला जाता है। इसलिए पत्रकारिता, लेखन और अन्य व्यवसायों में शामिल लोग। जिनमें बोलने के कौशल का उपयोग शामिल है। वह लाभान्वित होते हैं। यदि बुध की स्थिति ठीक है तो जातक की समझाने की शक्ति में वृद्धि होती है। वह व्यवसायी, सौदेबाजी करने में सक्षम बनता हैं। संभावित उम्मीदवार इंटरव्यू क्लियर करने में सक्षम होते हैं। यदि स्थिति अच्छी तरह से व्यवस्थित नहीं होती है। तो उन्हें अनिर्णय और भ्रम की संभावना होती है। किसी व्यक्ति की कुंडली में बुध की महादशा 17 वर्ष तक रहती है।

महादशा प्रभाव

वैदिक ज्योतिष में महादशा आपके जीवन के विभिन्न क्षेत्रों को छूती है और एक निश्चित तरीके से उभरती स्थितियों के लिए जिम्मेदार होती है। स्थिति आपके लिए फायदेमंद या प्रतिकूल हो सकती है। जब कोई व्यक्ति एक महादशा से दूसरी महादशा में जाता है। तो उस पर महादशा परिवर्तन का प्रभाव होता है। जो यहां निम्नलिखित हैं।

  • 120 वर्षों की अवधि में एक महादशा से दूसरी महादशा में संक्रमण महादशा परिवर्तन प्रभाव लाती है। ये प्रभाव व्यक्तिगत होने के साथ-साथ पेशेवर भी हो सकते हैं।
  • महादशा व्यक्तिगत बंधन, रिश्ते, विवाह और परिवार की गतिशीलता को प्रभावित कर सकते है।
  • यह कार्यस्थल पर काम का तनाव, गलतफहमी और भ्रम ला सकती है। या वैकल्पिक रूप से आपके लिए शांतिपूर्ण वातावरण बना सकती है।
  • यह जातकों की चंद्र राशि से संबंधित है। चंद्रमा प्रत्येक महादशा के प्रभावों को निर्धारित करने के लिए जिम्मेदार है।
  • एक महादशा से दूसरी महादशा में जाने पर आपके दिल, दिमाग, आत्मा, शरीर, आंतरिक और बाहरी अंगों पर प्रभाव पड़ता है।

टैरो स्वाति और एस्ट्रो दिनकर जैसे हमारे विशेषज्ञों के पास आपके जीवन से संबंधित सभी शंकाओं को दूर करने के लिए वर्षों का अनुभव है। आज ही इंस्टाएस्ट्रो पर उनसे बात करें और कई अन्य ज्योतिषियों से जुड़ें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल-

महादशा एक प्रमुख समय अवधि है। जिसमें ग्रह किसी व्यक्ति के जीवन के पाठ्यक्रम को प्रभावित करते हैं। यह 120 वर्षों की समयावधि में फैली हुई है और नौ ग्रहों में से प्रत्येक के प्रभाव को समर्पित नौ विभागों में विभाजित है।
दशा किसी विशेष कुंडली में ग्रहों के रहने की समय अवधि को इंगित करती है। यह छोटी या लंबी अवधि हो सकती है। महादशा 120 लंबे वर्षों की अवधि में नौ मंडलों में जातक के जीवन को प्रभावित करने वाली ग्रहों की एक प्रमुख या बड़ी समयावधि है।
आपकी वर्तमान महादशा की पहचान करने के लिए इंटरनेट पर एक समर्पित कैलकुलेटर उपलब्ध हैं। ग्रहों की अवधि की शुरुआत हमेशा आपके जन्म से शुरू होती है। अवधि नक्षत्र प्रकार से जुड़े ग्रहों पर आधारित होती है। जिसमें एक व्यक्ति का जन्म होता है।
प्रत्येक प्रकार या प्रत्येक ग्रह की महादशा अवधि समान होती है। लेकिन प्रत्येक ग्रह के बुरे और अच्छे परिणाम ग्रह की स्थिति और जातक के कर्म के आधार पर भिन्न होते हैं। प्रभाव अलग-अलग व्यक्तियों के लिए अलग-अलग होते हैं।
यदि महादशा आपकी कुंडली में नकारात्मक प्रभाव लाती है। तो आपको भगवान शिव के अवतार भगवान रुद्र की पूजा करनी चाहिए और प्रसाद चढ़ाना चाहिए। माना जाता है कि उनका अभिषेक करने से महादशा के बुरे प्रभाव समाप्त हो जाते हैं। साथ ही हनुमान चालीसा का पाठ और जिस ग्रह की महादशा चल रही हो उसकी पूजा करने से लाभ होता है।
महादशा स्वामी उस नक्षत्र के देवता हैं। जिसमें आपकी वर्तमान महादशा का स्वामी ग्रह रहता है। उदाहरण के लिए आपके जन्म के दौरान आपका जन्म नक्षत्र वह नक्षत्र है जहां चंद्रमा रहता है। इस प्रकार आपके जन्म के दौरान आपके नक्षत्र के देवता महादशा भगवान बन जाते हैं और उनकी पूजा की जानी चाहिए।
Karishma tanna image
close button

Karishma Tanna believes in InstaAstro

Urmila  image
close button

Urmila Matondkar Trusts InstaAstro